Saturday, June 22, 2024
Homeराजनीतिराजस्थान और पश्चिम बंगाल सहित कई विपक्ष शासित राज्यों ने जीएसटी दरें घटाने का...

राजस्थान और पश्चिम बंगाल सहित कई विपक्ष शासित राज्यों ने जीएसटी दरें घटाने का किया विरोध

भाजपा शासित असम ने विपक्ष के दोहरे रवैये पर सवाल खड़ा करते हुए कहा कि एक तरफ विपक्ष के नेता भाषणों में जीएसटी के 28% वाले अलाब को खतम करने की बात करते हैं तो दूसरी तरफ काउंसिल की बैठक में दरें घटाने का विरोध करते हैं।

जीएसटी को ‘गब्बर सिंह टैक्स‘ कहने वाले राहुल गाँधी और इसे ‘ग्रेट सेल्फिश टैक्स‘ कहने वाली ममता बनर्जी केंद्र सरकार द्वारा कई वस्तुओं के दरों में कटौती के बाद अपने ही राज्यों में घिरते नजर आ रहे हैं। दरअसल कल केंद्र सरकार ने जीएसटी काउंसिल की बैठक के बाद 23 वस्तुओं और सेवाओं पर लगने वाले कर की दरों में बड़ी कटौती की घोषणा की जिसके बाद सिनेमा टिकट और टीवी सही कई वस्तुएं सस्ती हो जाएँगी। माल और सेवा कर परिषद की 31वीं बैठक की अध्यक्षता देश के वित्त मंत्री अरुण जेटली ने की। जेटली ने कहा कि फैसलों के बाद से अब टॉप टैक्स स्लैब में 1200 वस्तुओं में से केवल 0.5 या 1 फीसदी चीजें बची हैं।

लीथियम आयन बैट्री वाले पावर बैंक, डिजिटल कैमरा, 32 इंच तक के मॉनिटर और टीवी स्क्रीन सहित कुछ और उपकरणों पर जीएसटी की दरें 28% से घटाकर 18% कर दी गई। वहीं सरकार ने बड़ा फैसला लेते हुए दिव्यंगों के काम आने वाले उपकरणों को 28% कर वाले स्लैब से हटा कर सीधा 5% वाले स्लैब में डाल दिया जिस से इन बाजार में इन चीजों के दाम काफी कम हो जायेंगे। वही सब्जियों पर से जीएसटी दरें हटा कर 0% कर दी गई। सिनेमा के 100 रुपए से ज्यादा के टिकट पर 28% की जगह अब सिर्फ 18% जीएसटी लगेगा। वहीं 100 रुपए तक के टिकट पर पहले 18% कर देना होता था जो कि अब सिर्फ 12% रह गया है। शिक्षण संस्थानों की सेवाओं पर अब कोई जीएसटी नहीं लगेगा।

वहीं विपक्ष शासित राज्यों ने राजस्व का हवाला दे कर जीएसटी कि दरों में कटौती का विरोध किया। कांग्रेस शासित राज्य मध्य प्रदेश से तो बैठक में कोई शामिल ही नहीं हुआ। सीपीएम शासित केरल और तृणमूल शासित पश्चिम बंगाल ने कहा कि ये दरें घटाने का सही समय नहीं है। भाजपा शासित असम ने विपक्ष के दोहरे रवैये पर सवाल खड़ा करते हुए कहा कि एक तरफ विपक्ष के नेता भाषणों में जीएसटी के 28% वाले स्लैब को खतम करने की बात करते हैं तो दूसरी तरफ काउंसिल की बैठक में दरें घटाने का विरोध करते हैं। असम ने ये भी सुझाव दिया कि इनके बयानों को बैठक के मिनट्स में शामिल किया जाना चाहिए ताकि भविष्य में ये ऐसा करने से बचें।

बती दें कि राहुल गाँधी ने जीएसटी को गब्बर सिंह टैक्स बताते हुए कहा था कि उनकी पार्टी ”गब्बर सिंह टैक्स” थोपने नहीं देगी। पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने जीएसटी पर हमला बोलते हुए कहा था कि ग्रेट सेल्फिश टैक्स लोगों का उत्पीड़न करने और अर्थव्यवस्था को बर्बाद करने के लिए लगाया गया है। अब जब केंद्र सरकार लगातार कई वस्तुओं और सेवाओं पर जीएसटी की दरें कम कर रही है तब इन नेताओं की पार्टी द्वारा शासित राज्यों द्वारा इसका विरोध किया जाना इनके दोहरे रवैये को दिखाता है। जीएसटी की दरों में कटौती का विरोध करने वाले राज्यों में राजस्थान और छत्तीसगढ़ भी शामिल थेदोनों ही राज्यों में हाल ही में कांग्रेस की सरकार बनी है।

Special coverage by OpIndia on Ram Mandir in Ayodhya

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

अनुपम कुमार सिंह
अनुपम कुमार सिंहhttp://anupamkrsin.wordpress.com
भारत की सनातन परंपरा के पुनर्जागरण के अभियान में 'गिलहरी योगदान' दे रहा एक छोटा सा सिपाही, जिसे भारतीय इतिहास, संस्कृति, राजनीति और सिनेमा की समझ है। पढ़ाई कम्प्यूटर साइंस से हुई, लेकिन यात्रा मीडिया की चल रही है। अपने लेखों के जरिए समसामयिक विषयों के विश्लेषण के साथ-साथ वो चीजें आपके समक्ष लाने का प्रयास करता हूँ, जिन पर मुख्यधारा की मीडिया का एक बड़ा वर्ग पर्दा डालने की कोशिश में लगा रहता है।

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘चोर औरंगजेब’ की मौत मामले को लेकर हिंदू परिवारों में खौफ, व्यापार समेटकर कहीं और बसने की तैयारी: ऑपइंडिया को बताया इलाके में अब...

अलीगढ़ के कथित चोर औरंगज़ेब की मौत मामले में नामजद हिन्दू व्यापारियों के परिजन अब व्यापार समेट कर कहीं और बसने का मन बना रहे हैं।

NEET पेपरलीक का मास्टरमाइंड निकाल बिहार का लूटन मुखिया, डॉक्टर बेटा भी जेल में: पत्नी लड़ चुकी है विधानसभा चुनाव, नौकरी छोड़ खुद बना...

नीट पेपर लीक के मास्टरमाइंड में से एक संजीव उर्फ लूटन मुखिया। वह BPSC शिक्षक बहाली पेपर लीक कांड में जेल जा चुका है। बेटा भी जेल में है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -