30 तक CBI की हिरासत में ही रहेंगे चिदंबरम, कल ED मामले की सुनवाई

सीबीआई कोर्ट को मेहता ने बताया कि आईएनएक्स मीडिया से जुड़े इस केस में ईडी की जाँच से भी कुछ नए सवाल उभरे हैं, जिनका जवाब ज़रूरी है। इस मामले में किसी बड़ी साज़िश की ओर इशारा करते हुए मेहता ने कहा कि सीबीआई ने 7 देशों को पत्र लिख कर अहम जानकारियाँ माँगी है।

सीबीआई की विशेष अदालत ने पूर्व केंद्रीय मंत्री पी चिदंबरम की कस्टडी 4 दिनों के लिए बढ़ा दी है। वे 30 अगस्त तक कस्टडी में रहेंगे। सॉलिसिटर जनरल तुषार मेहता ने अदालत से चिदंबरम की कस्टडी 5 दिन बढ़ाने की माँग की थी। मेहता ने अदालत को बताया कि पूछताछ अभी अधूरी है और इसीलिए उनका कुछ और दिन कस्टडी में रहना ज़रूरी है। दूसरी ओर, सुप्रीम कोर्ट ने सोमवार को प्रवर्तन निदेशालय ईडी के धन शोधन मामले में चिदंबरम की गिरफ्तारी से संरक्षण की अवधि मंगलवार तक के लिए बढ़ा दी। कल फिर से इस मामले की सुनवाई होगी।

सीबीआई कोर्ट को मेहता ने बताया कि आईएनएक्स मीडिया से जुड़े इस केस में ईडी की जाँच से भी कुछ नए सवाल उभरे हैं, जिनका जवाब ज़रूरी है। इस मामले में किसी बड़ी साज़िश की ओर इशारा करते हुए मेहता ने कहा कि सीबीआई ने 7 देशों को पत्र लिख कर अहम जानकारियाँ माँगी है। हालाँकि, चिदंबरम के वकील कपिल सिब्बल ने दावा किया कि पूछताछ बकवास के सिवा कुछ और नहीं है।

सिब्बल ने इस बात पर नाराज़गी जताई कि सीबीआई कोई डॉक्यूमेंट नहीं दिखा रही है और बिना सबूत पूछताछ कर रही है। मेहता ने सिब्बल के आरोपों का जवाब देते हुए कहा कि पूछताछ के दौरान चिदंबरम डॉक्युमेंट्स को पढ़ने में ही एक घंटा लगा देते हैं। चिदंबरम पर आईएनएक्स मीडिया से रिश्वत लेकर उसे एफआईपीबी अप्रूवल देने का आरोप है।

- विज्ञापन - - लेख आगे पढ़ें -

पी चिदंबरम को बुधवार (अगस्त 21, 2019) को उनके जोरबाग़ स्थित आवास से गिरफ़्तार किया गया था। चिदंबरम द्वारा घर का दरवाजा बंद कर लेने के कारण सीबीआई को दीवार फाँद कर उन्हें गिरफ़्तार करने जाना पड़ा था। उसके बाद उन्हें अदालत द्वारा कस्टडी में भेज दिया गया था। अब सीबीआई उन्हें इस मामले के अन्य आरोपितों के साथ बिठा कर पूछताछ करेगी।

शेयर करें, मदद करें:
Support OpIndia by making a monetary contribution

बड़ी ख़बर

गोटाभाया राजपक्षे
श्रीलंका में मुस्लिम संगठनों के आरोपों के बीच बौद्ध राष्ट्र्वादी गोटाभाया की जीत अहम है। इससे पता चलता है कि द्वीपीय देश अभी ईस्टर बम ब्लास्ट को भूला नहीं है और राइट विंग की तरफ़ उनका झुकाव पहले से काफ़ी ज्यादा बढ़ा है।

सबसे ज़्यादा पढ़ी गईं ख़बरें

ताज़ा ख़बरें

हमसे जुड़ें

114,382फैंसलाइक करें
22,948फॉलोवर्सफॉलो करें
120,000सब्सक्राइबर्ससब्सक्राइब करें

ज़रूर पढ़ें

Advertisements
शेयर करें, मदद करें: