Tuesday, July 27, 2021
Homeदेश-समाजदबाव में पाकिस्तान ने जैश मुख्यालय, मदरसे और मस्जिद को अपने नियंत्रण में लिया

दबाव में पाकिस्तान ने जैश मुख्यालय, मदरसे और मस्जिद को अपने नियंत्रण में लिया

पाकिस्तान के आंतरिक मंत्रालय की ओर से कहा गया कि पंजाब सरकार ने बहावलपुर में मदरसातुल साबिर और जामा-ए-मस्जिद सुभानल्लाह के परिसर को अपने नियंत्रण में ले लिया है।

पुलवामा में हुए आतंकी हमले के बाद भारत सरकार के सख्त रुख को देखते हुए पाकिस्तान सरकार ने आतंकवादी संगठन जैश-ए-मोहम्मद के बहावलपुर स्थित मुख्यालय को अपने कब्जे में ले लिया है। यह जानकारी पाकिस्तान के आंतरिक मंत्रालय ने शुक्रवार (फरवरी 22, 2019) शाम को दी। पाकिस्तान सरकार की इस कार्रवाई को वहाँ की राष्ट्रीय सुरक्षा समिति के आदेश का असर माना जा रहा है। भारत और अंतरराष्ट्रीय दबाव के चलते पाकिस्तान सरकार ने बहावलपुर स्थित जैश-ए-मोहम्मद के हेडक्वार्टर के साथ ही एक मदरसे और मस्जिद को भी कब्जे में ले लिया। 

पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान ने राष्ट्रीय सुरक्षा समिति के साथ कल बैठक की थी।पाकिस्तान के आंतरिक मंत्रालय की ओर से कहा गया कि पंजाब सरकार ने बहावलपुर में मदरसातुल साबिर और जामा-ए-मस्जिद सुभानल्लाह के परिसर को अपने नियंत्रण में ले लिया है। इसके साथ वहाँ स्थिति नियंत्रित करने के लिए एक व्यवस्थापक की नियुक्ति की गई है।बयान में बताया गया है कि इस परिसर में 70 शिक्षक हैं और वर्तमान में यहाँ 600 छात्र पढ़ रहे हैं। परिसर में सुरक्षा व्यवस्था बनाए रखने के लिए पंजाब पुलिस तैनात है।

जैश-ए-मोहम्मद के फिदायीन ने 14 फरवरी को CRPF के काफिले पर हमला किया था। इस हमले के बाद भारत ने पाकिस्तान को अलग-थलग करने के लिए कई कड़े कदम उठाए हैं। इमरान खान CRPF जवानों पर हुए इस हमले में पाकिस्तान का हाथ होने से इनकार कर चुके हैं। रिपोर्ट्स के अनुसार, POK में 40 गाँव खाली कराए गए और 127 गाँवों में अलर्ट जारी किया गया है।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘कारगिल कमेटी’ पर कॉन्ग्रेस की कुण्डली: लोकतंत्र की सुरक्षा के लिए राष्ट्रीय सुरक्षा राजनीतिक दृष्टिकोण का न हो मोहताज

हमें ध्यान में रखना होगा कि जिस लोकतंत्र पर हम गर्व करते हैं उसकी सुरक्षा तभी तक संभव है जबतक राष्ट्रीय सुरक्षा का विषय किसी राजनीतिक दृष्टिकोण का मोहताज नहीं है।

असम-मिजोरम बॉर्डर पर भड़की हिंसा, असम के 6 पुलिसकर्मियों की मौत: हस्तक्षेप के दोनों राज्‍यों के CM ने गृहमंत्री से लगाई गुहार

असम के मुख्यमंत्री हिमंत बिस्वा सरमा ने ट्वीट कर बताया कि असम-मिज़ोरम सीमा पर तनाव में असम पुलिस के 6 जवानों की जान चली गई है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
111,361FollowersFollow
393,000SubscribersSubscribe