Friday, June 21, 2024
Homeराजनीतिमुस्लिम फकीर से खाए दनादन चप्पल, फिर भी 60 हजार वोटों से हार गए...

मुस्लिम फकीर से खाए दनादन चप्पल, फिर भी 60 हजार वोटों से हार गए कॉन्ग्रेस उम्मीदवार: काम नहीं आई ‘दुआ’

पारस सकलेचा का यह वीडियो चुनाव प्रचार के दौरान वायरल हुआ था। वीडियो में देख सकते हैं कि पारस सकलेचा को वीडियो में नजर आ रहे फकीर बाबा कभी पीठ पर कभी कंधे पर, कभी मुँह पर चप्पल मारते हैं।

मध्य प्रदेश चुनावों में एक मुस्लिम फ़कीर की चप्पलों वाली दुआ लेने के बाद भी कॉन्ग्रेस प्रत्याशी पारस सकलेचा हार गए। बीते दिनों उनका एक वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल हुआ था जिसमें वह सड़क किनारे एक मुस्लिम पीर से खुद को चप्पल रसीद करवा रहे थे। चप्पलों की ये मार दुआ के रूप में ली जा रही थीं।

पारस सकलेचा रतलाम शहरी सीट से चुनाव लड़ रहे थे। उनको भाजपा के चेतन कश्यप ‘भैयाजी’ ने हराया है। चेतन कश्यप को 1,09,656 लाख वोट मिले हैं जबकि सकलेचा को 48,948 वोट मिले हैं। वह 60,708 वोट के अंतर से हारे हैं। परिणाम में दिख रहा है कि मुस्लिम फ़कीर की चप्पलों का कोई असर सकलेचा के चुनावी नतीजे पर नहीं पड़ा।

चप्पल रूप आशीर्वाद लेने वाले सकलेचा को भाजपा उम्मीदवार ने हरा दिया है।
चप्पल के रूप में दुआ लेने वाले पारस सकलेचा को भाजपा उम्मीदवार ने हरा दिया है

पारस सकलेचा का यह वीडियो चुनाव प्रचार के दौरान वायरल हुआ था। वीडियो में देख सकते हैं कि पारस सकलेचा को वीडियो में नजर आ रहे फकीर बाबा कभी पीठ पर कभी कंधे पर, कभी मुँह पर चप्पल मारते हैं। और ऐसा नहीं कि ये कि वो एक बार मारकर रुकते हैं, देख सकते हैं कि किस तरह वीडियो में वो ताबड़तोड़ चप्पल मारते ही रहते हैं। पीछे से कोई व्यक्ति कहता भी है ‘बस बाबा बस’, लेकिन फकीर बाबा नहीं रुकते। इस दौरान कॉन्ग्रेस नेता हँसते-हँसते बस उनकी पैर छूते रहते हैं।

इस वीडियो को देखने के बाद सोशल मीडिया यूजर्स ने कॉन्ग्रेस नेता का बहुत मजाक उड़ाया था। कोई कह रहा था कि कॉन्ग्रेस है ही चप्पल खाने लायक तो कोई चुटकी लेते हुए कह रहा है कि बाबा ने दुआ देने में कोई कमी नहीं रखी। मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार, कॉन्ग्रेस नेता को चप्पल-चप्पल मारने वाला व्यक्ति कमाल रजा नाम का फकीर है।

वह महू नीमच रोड पर घूमते हैं और अपने पास मुराद लेकर आने वाले लोगों को चप्पलों से पीटकर दुआ देते हैं। अपनी फरियाद लेकर तमाम लोग नई चप्पलें लेकर आते हैं ताकि उन्हें उसी से पीटकर कमाल रजा अपनी दुआ दे सकें। कॉन्ग्रेस नेता समेत तमाम लोगों का मानना था कि इस तरह की दुआ जिन फरियादियों को कमाल रजा ने दी, उनके जीवन में उन्हें सफलता मिली। पारस सकलेचा भी इस बार चुनावी मैदान में थे तो अपनी जीत के लिए उन्होंने ये हथकंडा आजमाया था, जो कि फेल हो गया।

पारस सकलेचा वही नेता हैं जिन्होंने भोपाल की सांसद साध्वी प्रज्ञा को ‘डायन’ कहा था। यह विवादित बयान उन्होंने 2019 चुनावों के दौरान दिया था। वह मध्य प्रदेश के व्यापम घोटाले के व्हिसलब्लोअर भी हैं।

Special coverage by OpIndia on Ram Mandir in Ayodhya

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

बिहार का 65% आरक्षण खारिज लेकिन तमिलनाडु में 69% जारी: इस दक्षिणी राज्य में क्यों नहीं लागू होता सुप्रीम कोर्ट का 50% वाला फैसला

जहाँ बिहार के 65% आरक्षण को कोर्ट ने समाप्त कर दिया है, वहीं तमिलनाडु में पिछले तीन दशकों से लगातार 69% आरक्षण दिया जा रहा है।

हज के लिए सऊदी अरब गए 90+ भारतीयों की मौत, अब तक 1000+ लोगों की भीषण गर्मी ले चुकी है जान: मिस्र के सबसे...

मृतकों में ऐसे लोगों की संख्या अधिक है, जिन्होंने रजिस्ट्रेशन नहीं कराया था। इस साल मृतकों की संख्या बढ़कर 1081 तक पहुँच चुकी है, जो अभी बढ़ सकती है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -