Wednesday, September 28, 2022
Homeराजनीति'यह राहुल गाँधी का अस्पताल है, यहाँ मोदी-योगी का आयुष्मान कार्ड नहीं चलेगा', मरीज...

‘यह राहुल गाँधी का अस्पताल है, यहाँ मोदी-योगी का आयुष्मान कार्ड नहीं चलेगा’, मरीज की मौत

उस ग़रीब की मौत के ज़िम्मेदार लोगों को सजा मिलनी चाहिए। पीएम ने कहा कि ये दुःख की बात है कि इलाज से इनकार करने के कारण आज वो ग़रीब इस दुनिया में नहीं है। स्मृति ईरानी ने कहा कि अस्पताल के ट्रस्टी कॉन्ग्रेस अध्यक्ष राहुल गाँधी व कॉन्ग्रेस महासचिव प्रियंका गाँधी को जवाब देना चाहिए।

अमेठी में राजीव गाँधी चैरिटेबल ट्रस्ट द्वारा संचालित अस्पताल में आयुष्मान कार्ड धारक मरीज की मृत्यु हो जाने के बाद सियासी बवाल मच गया है। केंद्रीय टेक्सटाइल्स मंत्री स्मृति ईरानी से लेकर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी तक, सबने अस्पताल और कॉन्ग्रेस पर निशाना साधते हुए उसे मरीज की मौत का ज़िम्मेदार कहा। परिवारजनों द्वारा दिए गए बयानों पर आधारित एक वीडियो ट्वीट कर अमेठी से भाजपा की लोकसभा प्रत्याशी स्मृति ईरानी ने राहुल गाँधी पर हमला बोला। आयुष्मान भारत के कार्यकारी अधिकारी ने अमेठी के डीएम से इस बाबत रिपोर्ट भी तलब की है। अस्पताल प्रशासन का दावा है कि भर्ती होते समय मरीज के पास आयुष्मान भारत कार्ड नहीं था। स्मृति ईरानी ने इस बारे में ट्वीट कर राहुल गाँधी को घेरा ।

वहीं प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने भी एक जनसभा के दौरान इस मुद्दे को उठाते हुए कहा कि उस ग़रीब की मौत के ज़िम्मेदार लोगों को सजा मिलनी चाहिए। पीएम ने कहा कि ये दुःख की बात है कि इलाज से इनकार करने के कारण आज वो ग़रीब इस दुनिया में नहीं है। स्मृति ईरानी ने कहा कि अस्पताल के ट्रस्टी कॉन्ग्रेस अध्यक्ष राहुल गाँधी व कॉन्ग्रेस महासचिव प्रियंका गाँधी को जवाब देना चाहिए। ट्वीट किए गए वीडियो में मृतक के भतीजे ने बताया:

जब मैंने अपने चाचा को अस्पताल में भर्ती कराया और कार्ड दिखाया तो अस्पताल के लोगों ने कहा कि यह राहुल गाँधी का अस्पताल है और यहाँ मोदी और योगी का कार्ड नहीं चलता है। हमने कार्ड पर दिए हेल्पलाइन नंबर से भी शिकायत की लेकिन, मदद नहीं मिली और इलाज न हो पाने के कारण मेरे चाचा की मौत हो गई।

अस्पताल के प्रबंधक भोलानाथ तिवारी ने सफाई देते हुए कहा, “25 अप्रैल को मुसाफिरखाना क्षेत्र के सरई गाँव निवासी नन्हें लाल मिश्र को देर रात अस्पताल में लाया गया था। भर्ती करते समय उनके पास आयुष्मान कार्ड नहीं था। मरीज के परिवार ने किसी आयुष्मान कार्ड का जिक्र नहीं किया। 26 अप्रैल को इलाज के दौरान उनकी मौत हो गई थी। उन्हें मृत्यु प्रमाण पत्र भी अस्पताल द्वारा जारी किया गया है। हमारा अस्पताल आयुष्मान योजना के तहत रजिस्टर्ड है। पीड़ित परिवार द्वारा अस्पताल व प्रबंधन व प्रशासन से कोई शिकायत नहीं की गई है।

वहीं अस्पताल के निदेशक ने कहा कि उनके हॉस्पिटल में आयुष्मान भारत योजना के तहत 200 मरीजों का इलाज हो चुका है, अतः ये बातें निराधार है। सीएमओ ने बताया कि मामला संज्ञान में आया है और चुनाव बाद टीम भेजकर इसकी जाँच कराई जाएगी।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

2047 तक भारत को बनाना था इस्लामी राज्य, गृहयुद्ध के प्लान पर चल रहा था काम: राजस्थान में जातीय संघर्ष भड़का PFI का सरगना...

PFI 'मिशन 2047' की तैयारी में था, अर्थात स्वतंत्रता के 100 वर्ष पूरे होने तक भारत को एक इस्लामी मुल्क में तब्दील कर देना, जहाँ शरिया चले।

बैन लगने के बाद भी PFI को Twitter का ब्लू टिक: भारत और हिंदू-विरोधी रवैया है इस सोशल मीडिया साइट की पहचान, लग चुकी...

देश विरोधी गतिविधियों के कारण सरकार द्वारा प्रतिबंध लगाने के बावजूद ट्विटर कर्नाटक PFI के हैंडल को वैरिफाइड बनाए रखा है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
224,793FollowersFollow
416,000SubscribersSubscribe