Thursday, April 25, 2024
Homeराजनीति'मेरी मृत्यु की कामना हुई तो मुझे आनंद आया' : PM मोदी ने काशी...

‘मेरी मृत्यु की कामना हुई तो मुझे आनंद आया’ : PM मोदी ने काशी में साधा विपक्ष पर निशाना, बोले- काल भैरव के आगे इनकी चलनी थी क्या?

पीएम मोदी ने विपक्ष में बैठे अखिलेश यादव जैसे नेताओं पर अपनी बात रखी। उन्होंने अखिलेश के उन शब्दों को याद किया जब उन्होंने पीएम मोदी के लिए कहा था, "आखिरी समय में काशी में ही रहना चाहिए।"

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने रविवार (फरवरी 27, 2022) को वाराणसी में काशी विश्वनाथ धाम में पूजा-अर्चना करने के बाद जनता को संबोधित किया। उन्होंने इस दौरान विपक्ष पर हमला बोलते हुए जनता को बताया कि कैसे जब वह काशी विश्वनाथ धाम का लोकार्पण करने आए थे तो विपक्षी नेताओं ने उनकी मौत की कामना कर डाली थी।

उन्होंने अपनी पार्टी, संगठन, कार्यकर्ताओं की तारीफ करते हुए कहा कि प्रदेश में पहले जिन घोर परिवारवादियों ने सरकार चलाई उनकी पार्टी की पहचान के साथ गुंडागर्दी और माफियावाद जुड़ा हुआ है। लेकिन भाजपा की पहचान उनका कार्यकर्ता और उसकी सेवा है।

पीएम ने विपक्ष पर निशाना साधते हुए कहा, “जब ये घोर परिवारवादी सरकार में थे, तो यूपी के विकास के लिए, गरीबों के लिए हम जो भी काम लेकर आते थे, उसमें ये अड़ंगा लगा देते थे। लेकिन बीते पाँच साल में डबल इंजन की सरकार ने यूपी के विकास की पूरी ईमानदारी से कोशिश की है।”

बनारस के विकास और काशी विश्वनाथ धाम के लोकार्पण पर बात करते हुए पीएम ने विपक्ष में बैठे अखिलेश यादव जैसे नेताओं पर अपनी बात रखी। उन्होंने अखिलेश के उन शब्दों को याद किया जब उन्होंने पीएम मोदी के लिए कहा था, “आखिरी समय में काशी में ही रहना चाहिए।” पीएम मोदी ने कहा, “मैं किसी की व्यक्तिगत आलोचना करना पसंद नहीं करता और ना ही किसी की आलोचना करना चाहता हूँ। लेकिन जब सार्वजनिक रूप से काशी में मेरी मृत्यु की कामना की गई, तो वाकई मुझे बहुत आनंद आया, मेरे मन को बहुत सुकून मिला।”

आगे वह बोले, “मुझे लगा कि मेरे घोर विरोधी भी ये देख रहे हैं कि काशी के लोगों का मुझ पर कितना स्नेह है। उन लोगों ने तो मेरे मन की मुराद पूरी कर दी। इसका मतलब ये कि मेरी मृत्यु तक ना काशी के लोग मुझे छोड़ेंगे और ना ही काशी मुझे छोड़ेगी। उन घोर परिवारवादियों को मालूम नहीं है कि ये जिंदा शहर बनारस है! ये शहर मुक्ति के रास्ते खोलता है। और अब बनारस, विकास के जिस रास्ते पर चल पड़ा है, वो देश के लिए गरीबी से मुक्ति के रास्ते खोलेगा, अपराध से मुक्ति के रास्ते खोलेगा।”

पीएम मोदी ने याद दिलाया कि काशी में घाटों पर, मंदिरों पर बम विस्फोट होते थे। आतंकवादी बेखौफ थे, क्योंकि तब की समाजवादी सरकार उनके साथ थी। सरकार आतंकियों से खुलेआम मुकदमे वापस ले रही थी। लेकिन, काशी कोतवाल बाबा कालभैरव के आगे इनकी चलने वाली थी क्या? त्रिशूल के आगे कोई माफिया, कोई आतंकी कभी टिक सकता है क्या? आज सब अपने ठिकाने पर हैं और कालजयी काशी है देश को दिशा दिखा रही है। कुछ दिन पहले माँ अन्नपूर्णा की प्रतिमा भी बनारस को आशीर्वाद देने फिर से स्थापित हो गई है।

Special coverage by OpIndia on Ram Mandir in Ayodhya

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

मार्क्सवादी सोच पर नहीं करेंगे काम: संपत्ति के बँटवारे पर बोला सुप्रीम कोर्ट, कहा- निजी प्रॉपर्टी नहीं ले सकते

संपत्ति के बँटवारे केस सुनवाई करते हुए सीजेआई ने कहा है कि वो मार्क्सवादी विचार का पालन नहीं करेंगे, जो कहता है कि सब संपत्ति राज्य की है।

मोहम्मद जुबैर को ‘जेहादी’ कहने वाले व्यक्ति को दिल्ली पुलिस ने दी क्लीनचिट, कोर्ट को बताया- पूछताछ में कुछ भी आपत्तिजनक नहीं मिला

मोहम्मद जुबैर को 'जेहादी' कहने वाले जगदीश कुमार को दिल्ली पुलिस ने क्लीनचिट देते हुए कोर्ट को बताया कि उनके खिलाफ कुछ भी आपत्तिजनक नहीं मिला।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
282,677FollowersFollow
417,000SubscribersSubscribe