Sunday, September 19, 2021
Homeराजनीति₹1.70 लाख करोड़ की गरीब कल्याण योजना से आत्मनिर्भर बन रहे रेहड़ी-पटरी वाले: PM...

₹1.70 लाख करोड़ की गरीब कल्याण योजना से आत्मनिर्भर बन रहे रेहड़ी-पटरी वाले: PM मोदी ने यूपी के ठेले वालों से किया संवाद

पीएम मोदी ने कहा कि अब ये लोग आत्मनिर्भर होकर आगे बढ़ रहे है। 1 जून को पीएम स्वनिधि योजना को शुरू किया गया था। 2 जुलाई को ऑनलाइन पोर्टल पर इसके लिए आवेदन शुरू हो गए थे। बकौल पीएम, योजनाओं पर इतनी गति देश पहली बार देख रहा है।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने मंगलवार (अक्टूबर 27, 2020) को उत्तर प्रदेश में ‘स्वनिधि योजना’ के लाभान्वितों के साथ वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के माध्यम से संवाद किया। सड़क पर सामान बेचने वाले रेहड़ी-पटरी वालों को आत्मनिर्भर बनाने के लिए इस योजना की शुरुआत की गई है। ठेले वालों ने बताया कि लॉकडाउन के दौरान उन्हें खासी परेशानी हुई लेकिन इस योजना की मदद से उन्हें अपना रोजगार फिर से शुरू करने में मदद मिली।

इस दौरान पीएम मोदी ने कहा कि उन्होंने ‘स्वनिधि योजना’ के लाभार्थियों से संवाद करते हुए ये अनुभव किया कि सभी को खुशी भी है और आश्चर्य भी है। उन्होंने याद दिलाया कि पहले तो नौकरी वालों को लोन लेने के लिए बैंकों के चक्कर लगाने होते थे, गरीब आदमी तो बैंक के भीतर जाने का भी नहीं सोच सकता था। लेकिन आज बैंक खुद आ रहा है। पीएम ने कहा कि हमारे रेहड़ी-पटरी वालों की मेहनत से देश आगे बढ़ता है।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा कि ये लोग आज सरकार का धन्यवाद दे रहे हैं, लेकिन वो इसका श्रेय सबसे पहले बैंक कर्मियों की मेहनत को देंगे, क्योंकि बैंक कर्मियों की सेवा के बिना ये कार्य नहीं हो सकता था। उन्होंने कहा कि आज का दिन आत्मनिर्भर भारत के लिए महत्वपूर्ण दिन है। कठिन से कठिन परिस्थितियों का मुकाबला ये देश कैसे करता है, आज का दिन इसका साक्षी है। उन्होंने कई लाभार्थियों की बातें भी सुनी।

पीएम मोदी ने याद दिलाया कि कैसे कोरोना संकट ने जब दुनिया पर हमला किया, तब भारत के गरीबों को लेकर तमाम आकांक्षा व्यक्त की जा रही थी, लेकिन गरीब भाई बहनों को कैसे कम से कम तकलीफ उठानी पड़े, सरकार के सभी प्रयासों के केंद्र में यही चिंता थी। उन्होंने बताया कि इसी सोच के साथ देश ने 1 लाख 70 हजार करोड़ रुपए की गरीब कल्याण योजना शुरू की। आज रेहड़ी-पटरी वाले साथी फिर से अपना काम शुरू कर पा रहे है।

पीएम मोदी ने कहा कि अब ये लोग आत्मनिर्भर होकर आगे बढ़ रहे है। 1 जून को पीएम स्वनिधि योजना को शुरू किया गया था। 2 जुलाई को ऑनलाइन पोर्टल पर इसके लिए आवेदन शुरू हो गए थे। बकौल पीएम, योजनाओं पर इतनी गति देश पहली बार देख रहा है। पीएम ने कहा कि उत्तर प्रदेश की अर्थव्यवस्था में स्ट्रीट वेंडर्स की बहुत बड़ी भूमिका है। यूपी से जो पलायन होता था उसे कम करने में भी रेहड़ी-पटरी के व्यवसाय की बहुत बड़ी भूमिका है। उन्होंने पीएम ‘स्वनिधि योजना’ का लाभ पहुँचाने में यूपी को पूरे देश में नंबर वन करार दिया।

प्रधानमंत्री मोदी ने बताया कि इस योजना में शुरुआत से ये ध्यान रखा गया है कि रेहड़ी-पटरी वालों को किसी प्रकार की परेशानी न हो। इसलिए इस योजना में तकनीक का ज्यादा से ज्यादा उपयोग सुनिश्चित किया गया। इसकी खासियत ये है कि इसमें कोई कागज नहीं, गारंटर नहीं, दलाल नहीं और किसी सरकारी दफ्तर के चक्कर लगाने की भी जरूरत नहीं। साथ ही कहा कि गरीब के नाम पर राजनीति करने वालों ने देश में ऐसा माहौल बना दिया था कि गरीब को लोन दे दिया तो वो पैसा लौटाएगा ही नहीं।

पीएम मोदी ने दोहराया कि हमारे देश का गरीब आत्मसम्मान और ईमानदारी से कभी भी समझौता नहीं करता है। उन्होंने जानकारी दी कि पीएम ‘स्वनिधि योजना’ में ऋण आसानी से उपलब्ध है और समय से अदायगी करने पर ब्याज में 7% की छूट भी मिलेगी। अगर आप डिजिटल लेने-देन करेंगे तो एक महीने में 100 रुपए तक कैशबैक के तौर पर वापस पैसे आपके खाते में जमा होंगे। कहा कि आज गरीब बैंक से जुड़ा है, अर्थव्यवस्था की मुख्य धारा से जुड़ा है।

उन्होंने ध्यान दिलाया कि बैंकों के जो दरवाजे आज आपके लिए खुले हैं, बैंक आज जिस तरह आपके पास खुद चलकर आ रहे हैं, ये ‘सबका साथ, सबका विकास, सबका विश्वास’ की नीतियों का परिणाम है। उन्होंने विपक्ष पर हमला बोलते हुए कहा कि ये उनको भी जवाब है जो कहते थे कि गरीबों को बैंकिंग सिस्टम से जोड़ने से कुछ नहीं होगा। पीएम ने कहा कि इतनी बड़ी वैश्विक आपदा, जिसके आगे दुनिया के बड़े-बड़े देशों को घुटने टेकने पड़े हैं, उस संकट से लड़ने में, जीतने में आज हमारे देश का सामान्य मानवी बहुत आगे है।

अंत में प्रधानमंत्री मोदी ने उत्तर प्रदेश में ‘स्वनिधि योजना’ के लाभार्थियों से कहा कि कोरोना की तकलीफों का आपने जिस तरह से सामना किया है, जिस सावधानी से आप अब बचाव के नियमों का पालन कर रहे हैं, उसके लिए मैं वो सबका वो धन्यवाद करते हैं। उन्होंने जनता से कहा कि उनकी इस सजगता से देश जल्द ही इस महामारी को पूरी तरह से हराएगा। उत्तर प्रदेश को विक्रेताओं से 557,000 आवेदन प्राप्त हुए हैं, जो पूरे देश में सबसे अधिक है।

डेढ़ महीने पहले उन्होंने मध्य प्रदेश के स्ट्रीट वेंडर्स के श्रम की ताकत, आत्मसम्मान और आत्मबल को नमन करते हुए कहा था कि सीएम शिवराज सिंह चौहान और उनकी सरकार के प्रयासों से सिर्फ 2 महीने में मध्य प्रदेश में 1 लाख से ज्यादा स्ट्रीट वेंडर्स, रेहड़ी-पटरी वालों को स्वनिधि योजना का लाभ सुनिश्चित हुआ है। साथ ही कहा था कि इस योजना का मकसद है कि वो लोग नई शुरुआत कर सकें, अपना काम फिर शुरू कर सकें, इसके लिए उन्हें आसानी से पूँजी मिले।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

पंजाब के बाद राजस्थान में फँसी कॉन्ग्रेस: सचिन पायलट दिल्ली में, CM अशोक गहलोत के OSD का इस्तीफा

इस्तीफे की वजह लोकेश शर्मा द्वारा किया गया एक ट्वीट बताया जा रहा है जिसके बाद कयासों का नया दौर शुरू हो गया था और उनके ट्वीट को पंजाब के घटनाक्रम के साथ भी जोड़कर देखा जाने लगा था।

‘आई एम सॉरी अमरिंदर’: इस्तीफे से पहले सोनिया गाँधी ने कैप्टेन से किया किनारा, जानिए क्या हुई फोन पर आखिरी बातचीत

"बिना मुझसे पूछे विधायक दल की मीटिंग बुला ली गई, जिसके बाद सुबह सवा दस के करीब मैंने कॉन्ग्रेस की राष्ट्रीय अध्यक्ष सोनिया गाँधी को फोन किया था और मैंने उन्हें कहा कि..."

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
123,150FollowersFollow
409,000SubscribersSubscribe