Tuesday, November 30, 2021
Homeराजनीति1 लाख रेहड़ी-पटरी वालों को MP में सिर्फ 2 महीने में मिला 'स्वनिधि योजना'...

1 लाख रेहड़ी-पटरी वालों को MP में सिर्फ 2 महीने में मिला ‘स्वनिधि योजना’ का लाभ: PM मोदी ने किया डायरेक्ट सवाल-जवाब

यह एक ऐसी योजना है, जिसमें ब्याज़ से पूरी तरह से मुक्ति भी मिल सकती है। इस योजना के तहत ब्याज में 7 प्रतिशत तक की छूट दी जा रही है। PM मोदी ने सलाह दी कि अगर कुछ छोटी-छोटी बातों का ध्यान रखा जाए तो आपको ये भी नहीं देना पड़ेगा।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने पूरे मध्य प्रदेश के विभिन्न इलाक़ों के रेहड़ी-पटरी वालों (स्ट्रीट वेंडर्स) के साथ ‘स्वनिधि संवाद’ में हिस्सा लिया। इस वर्चुअल बैठक में मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान भी उपस्थित रहे। पीएम मोदी ने इंदौर में झाड़ू बेचने वाले चगन लाल से बातचीत करते हुए इस कार्यक्रम की शुरुआत की। उन्होंने उनसे उनके व्यवसाय के बारे में पूछा और ये भी जाना कि वो अपने बच्चों को स्कूल भेजते हैं या नहीं।

पीएम मोदी ने चगन लाल से पूछा कि उन्हें सरकारी योजनाओं का लाभ मिलता है या नहीं? इस पर जवाब देते हुए झाड़ू-विक्रेता ने बताया कि उन्हें गैस चूल्हा और सरकारी घर का लाभ मिला। उन्होंने बताया कि लॉकडाउन में उनका व्यवसाय ठप्प हो गया था, जिसके बाद उन्हें ‘प्रधानमंत्री स्वनिधि योजना’ का भी लाभ मिला। बता दें कि मध्य प्रदेश में इस योजना के तहत लाखों लोगों को लाभ पहुँचाया गया है। इनमें से अधिकतर गरीब हैं।

हालाँकि, इस दौरान पीएम मोदी पर्यावरण को लेकर भी सतर्क रहे और चगन की कुर्सी के नीचे प्लास्टिक की बोतल में रखे हुए पानी को देख कर उन्हें सलाह दी कि वो सिंगल यूज प्लास्टिक का इस्तेमाल बंद करें और मिट्टी के घड़े में पानी रखा करें। वहीं ग्वालियर में टिक्की सेंटर चलाने वाली अर्चना शर्मा और उनके दोनों बच्चों से बात करते हुए पीएम मोदी ने कहा कि वो ग्वालियर आएँगे तो उनकी बनाई टिक्की खाएँगे।

इसके बाद उन्होंने रायसेन के सब्जी विक्रेता और फिर साँची में ऑर्गेनिक सब्जी बेचने वाले दालचन्द से संवाद किया। उन्होंने बताया कि कोरोना महामारी के बीच हुए लॉकडाउन में व्यापार में भारी नुकसान हुआ है। हालाँकि, दालचन्द ने सरकारी योजनाओं का लाभ मिलने की बात स्वीकार की। लोगों से बातचीत के बाद पीएम ने कहा कि उनकी बातों में एक विश्वास है, एक उम्मीद दिखी। ये भरोसा प्रधानमंत्री स्वनिधि योजना की बहुत बड़ी ताकत है।

उन्होंने मध्य प्रदेश के इन स्ट्रीट वेंडर्स के श्रम की ताकत, आत्मसम्मान और आत्मबल को नमन करते हुए कहा कि सीएम शिवराज सिंह चौहान और उनकी सरकार के प्रयासों से सिर्फ 2 महीने में मध्य प्रदेश में 1 लाख से ज्यादा स्ट्रीट वेंडर्स, रेहड़ी-पटरी वालों को स्वनिधि योजना का लाभ सुनिश्चित हुआ है। साथ ही कहा कि इस योजना का मकसद है कि वो लोग नई शुरुआत कर सकें, अपना काम फिर शुरू कर सकें, इसके लिए उन्हें आसानी से पूँजी मिले।

प्रधानमंत्री मोदी ने मध्य प्रदेश के स्ट्रीट वेंडर्स के साथ हुए ‘स्वनिधि संवाद’ में कहा कि हाल में सरकार ने शहरों में आप जैसे साथियों को उचित किराए में बेहतर आवास उपलब्ध कराने की भी एक बड़ी योजना शुरू की है। एक देश, एक राशन कार्ड की सुविधा से ये लोग देश में कहीं भी जाएँगे, तो अपने हिस्से का सस्ता राशन ले पाएँगे।

बकौल पीएम मोदी, ये भी पहली बार हुआ है कि रेहड़ी-पटरी वालों के लाखों लोगों के नेटवर्क को सही मायने में सिस्टम से जोड़ा गया है, उनको एक पहचान मिली है। उन्होंने बताया कि ये एक ऐसी योजना है, जिसमें आपको ब्याज़ से पूरी तरह से मुक्ति भी मिल सकती है। इस योजना के तहत वैसे भी ब्याज में 7 प्रतिशत तक की छूट दी जा रही है। पीएम ने सलाह दी कि अगर कुछ छोटी-छोटी बातों का ध्यान रखा जाए तो आपको ये भी नहीं देना पड़ेगा।

पीएम मोदी ने जानकारी दी कि हमारे रेहड़ी पटरी वाले साथी डिजिटल दुकानदारी में पीछे न रहें, इसके लिए बैंकों और डिजिटल पेमेंट की सुविधा देने वालों के साथ मिलकर एक नई शुरुआत की गई है। बताया कि अब बैंको और संस्थाओं के प्रतिनिधि उनकी रेहड़ी, ठेले पर आएँगे और QR कोड देंगे। उपयोग कैसे करना है, ये भी बताया जाएगा। पीएम ने कहा कि हमारे देश में गरीबों की बात बहुत हुई है लेकिन गरीबों के लिए जितना काम पिछले 6 साल में हुआ है, उतना पहले कभी नहीं हुआ।

प्रधानमंत्री ने आश्वासन दिया कि रेहड़ी-पटरी या ठेला लगाने वाले लोगों के पास उज्ज्वला का गैस कनेक्शन है या नहीं, उनके घर बिजली कनेक्शन है या नहीं, वो आयुष्मान भारत योजना से जुड़े हैं या नहीं, उन्हें बीमा योजना का लाभ मिल रहा है या नहीं, उनके पास अपनी पक्की छत है या नहीं – ये सारी बातें देखी जाएँगी। मध्य प्रदेश के स्ट्रीट वेंडर्स को ‘स्वनिधि योजना’ कार्यक्रम में पीएम मोदी ने कहा कि हर वो क्षेत्र, हर वो सेक्टर जहाँ गरीब-पीड़ित-शोषित-वंचित, अभाव में था, सरकार की योजनाएँ उसका संबल बनकर आईं।

 

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘UPTET के अभ्यर्थियों को सड़क पर गुजारनी पड़ी जाड़े की रात, परीक्षा हो गई रद्द’: जानिए सोशल मीडिया पर चल रहे प्रोपेगंडा का सच

एक तस्वीर वायरल हो रही है, जिसके आधार पर दावा किया जा रहा है कि ये उत्तर प्रदेश में UPTET की परीक्षा देने वाले अभ्यर्थियों की तस्वीर है।

बेचारा लोकतंत्र! विपक्ष के मन का हुआ तो मजबूत वर्ना सीधे हत्या: नारे, निलंबन के बीच हंगामेदार रहा वार्म अप सेशन

संसद में परंपरा के अनुरूप आचरण न करने से लोकतंत्र मजबूत होता है और उस आचरण के लिए निलंबन पर लोकतंत्र की हत्या हो जाती है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
140,538FollowersFollow
412,000SubscribersSubscribe