Friday, June 14, 2024
Homeराजनीति'यूक्रेन युद्ध में दूसरे देशों के लोगों के लिए भी सुरक्षा कवच बन गया...

‘यूक्रेन युद्ध में दूसरे देशों के लोगों के लिए भी सुरक्षा कवच बन गया था तिरंगा’: कॉमनवेल्थ के चैंपियंस से मिले PM मोदी, बताई भारत के राष्ट्रध्वज की ताकत

"खेलों के प्रति इस दिलचस्पी, आकर्षण को बढ़ाने में आप सबकी बहुत बड़ी भूमिका है और इसके लिए आप सभी बधाई के पात्र हैं। अपनी बेटियों के प्रदर्शन से तो पूरा देश ही गदगद है। बॉक्सिंग हो, जूडो हो, कुश्ती हो, जिस प्रकार बेटियों ने डॉमिनेट किया, वो अद्भुत है।"

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कॉमनवेल्थ गेम्स 2022 में हिस्सा लेने वाले भारतीय खिलाड़ियों से मुलाकात की और उन्हें उनके प्रदर्शन के लिए शुभकामनाएँ दी। इस दौरान पीएम मोदी ने कहा कि तिरंगे की ताकत क्या होती है, ये हमने कुछ समय पहले ही यूक्रेन में देखा है। उन्होंने बताया कि कैसे तिरंगा युद्धक्षेत्र से बाहर निकलने में भारतीयों का ही नहीं, बल्कि दूसरे देशों के लोगों के लिए भी सुरक्षा कवच बन गया था। उन्होंने खिलाड़ियों का उत्साह बढ़ाया और आगे के लिए उनमें जोश भरा। साथ ही उन्हें स्कूली बच्चों से मिलने और उनका मार्गदर्शन करने की प्रक्रिया जारी रखने की सलाह दी।

पीएम मोदी ने खिलाड़ियों से कहा, “आप सभी CWG 2022 में मुकाबला कर रहे थे, लेकिन यहाँ करोड़ों भारतीय रतजगा कर रहे थे। देर रात तक आपके हर एक्शन, हर मूव पर देशवासियों की नजर थी। बहुत से लोग अलार्म लगाकर सोते थे कि आपके प्रदर्शन का अपडेट लेंगे। खेलों के प्रति इस दिलचस्पी, आकर्षण को बढ़ाने में आप सबकी बहुत बड़ी भूमिका है और इसके लिए आप सभी बधाई के पात्र हैं। अपनी बेटियों के प्रदर्शन से तो पूरा देश ही गदगद है। बॉक्सिंग हो, जूडो हो, कुश्ती हो, जिस प्रकार बेटियों ने डॉमिनेट किया, वो अद्भुत है।”

पीएम मोदी ने खिलाड़ियों से कहा कि आप सब देश को सिर्फ एक मेडल नहीं देते, सेलिब्रेट या गर्व करने का अवसर ही नहीं देते, बल्कि ‘एक भारत, श्रेष्ठ भारत’ की भावना को भी सशक्त करते हैं। उन्होंने कहा कि ये खिलाड़ी खेल में ही नहीं, बाकी सेक्टर में भी देश के युवाओं को बेहतर करने के लिए प्रेरित करते हैं। उन्होंने कॉमनवेल्थ गेम्स से पहले का अपना वादा याद दिलाया, जब उन्होंने कहा था कि तमाम व्यस्तताओं के बावजूद खिलाड़ियों के साथ विजय का उत्सव मनाने के लिए वो समय निकालेंगे।

पीएम मोदी ने कहा, “इस बार का हमारा जो प्रदर्शन रहा है, उसका ईमानदार आंकलन सिर्फ मेडल की संख्या से संभव नहीं है। हमारे कितने खिलाड़ी इस बार कड़ी टक्कर देकर लौटे है, ये भी अपने आप में किसी मेडल से कम नहीं है। जो खेल हमारी ताकत रहे हैं उनको तो हम मजबूत कर ही रहे हैं, हम नए खेलों में भी अपनी छाप छोड़ रहे हैं। हॉकी में जिस प्रकार हम अपनी लेगेसी को फिर हासिल कर रहे हैं, इसके लिए दोनों टीमों के प्रयास, उनकी मेहनत, उनके मिजाज उसकी बहुत-बहुत सराहना करता हूँ।”

प्रधानमंत्री ने खिलाड़ियों से कहा कि आप सभी का जिला, राज्य, भाषा भले कोई भी हो, लेकिन आप भारत के मान, अभिमान के लिए, देश की प्रतिष्ठा के लिए अपना सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन करते हैं। उन्होंने कहा कि आपकी भी प्रेरणा शक्ति तिरंगा है और तिरंगे की ताकत क्या होती है, ये हमने कुछ समय पहले ही यूक्रेन में देखा है। उन्होंने ख़ुशी जताई कि ‘खेलो इंडिया’ के मंच से निकले अनेक खिलाड़ियों ने इस बार बेहतरीन प्रदर्शन किया है। नए टैलेंट की खोज और उनको पोडियम तक पहुँचाने के प्रयासों को उन्होंने और तेज करने पर बल दिया।

Special coverage by OpIndia on Ram Mandir in Ayodhya

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘कश्मीर समस्या का इजरायल जैसा समाधान’ वाले आनंद रंगनाथन का JNU में पुतला दहन प्लान: कश्मीरी हिंदू संगठन ने JNUSU को भेजा कानूनी नोटिस

जेएनयू के प्रोफेसर और राजनीतिक विश्लेषक आनंद रंगनाथन ने कश्मीर समस्या को सुलझाने के लिए 'इजरायल जैसे समाधान' की बात कही थी, जिसके बाद से वो लगातार इस्लामिक कट्टरपंथियों के निशाने पर हैं।

शादीशुदा महिला ने ‘यादव’ बता गैर-मर्द से 5 साल तक बनाए शारीरिक संबंध, फिर SC/ST एक्ट और रेप का किया केस: हाई कोर्ट ने...

इलाहाबाद हाई कोर्ट में जस्टिस राहुल चतुर्वेदी और जस्टिस नंद प्रभा शुक्ला की बेंच ने इस मामले की सुनवाई करते हुए कहा कि सबूत पेश करने की जिम्मेदारी सिर्फ आरोपित का ही नहीं है, बल्कि शिकायतकर्ता का भी है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -