Saturday, July 13, 2024
Homeराजनीतिमुहर्रम के दिन मंदिर पर हुआ हमला, कार्रवाई के लिए अनशन पर बैठे BJP...

मुहर्रम के दिन मंदिर पर हुआ हमला, कार्रवाई के लिए अनशन पर बैठे BJP नेता को घसीटकर ले गई बिहार पुलिस: पत्रकारों को भी पीटा

मामला भागलपुर के विश्वविद्यालय थाना क्षेत्र के परबत्ती मोहल्ले का है। मोहल्ले में 30 जुलाई 2023 को ताजिया जुलूस निकाला गया। भाजपा नेता रोहित कुमार का आरोप है कि इस जुलूस में शामिल मुस्लिम समुदाय के कुछ लोगों ने रास्ते में पड़ने वाले काली मंदिर पर पत्थरबाजी की है। उन्होंने बताया कि मंदिर के मुख्य गेट को भी तोड़ने का प्रयास किया गया।

बिहार के भागलपुर (Bhagalpur, Bihar)) जिले में माँ काली के मंदिर पर पत्थरबाजी को लेकर तनाव की स्थिति बनी हुई है। इस मामले में कार्रवाई को लेकर अनशन कर रहे भाजपा नेता को पुलिस घसीटकर ले गई। वहीं, वीडियो बना रहे पत्रकारों एवं लोगों पर पुलिस ने लाठियाँ बरसाईं।

दरअसल, भागलपुर में मुहर्रम के दिन किए गए माँ काली के मंदिर पर हमला कर दिया था। हमले में मंदिर के कई हिस्से क्षतिग्रस्त हो गए। इसको लेकर इलाके में तनाव फैल गया था। तब से लोगों में उबाल है। भाजपा नेता रोहित कुमार ने पथराव का आरोप मुहर्रम के ताजिया जुलूस में शामिल लोगों पर लगाया था।

बिहार पुलिस की इस कार्रवाई की भाजपा ने निंदा की है। बिहार भाजपा ने ट्वीट करके लिखा, “मुहर्रम पर माँ काली का मंदिर क्षतिग्रस्त कर दिया। पुलिस ने कोई कार्रवाई नहीं की। भागलपुर के पूर्व भाजपा जिलाध्यक्ष रोहित कुमार जी ने आमरण अनशन कर कार्रवाई की माँग की।”

भाजपा ने अपने ट्विटर हैंडल पर आगे लिखा, “महागठबंधन की पुलिस से कार्रवाई की माँग करने पर उल्टे उनको ही कल देर रात लाठीचार्ज करके गिरफ्तारी कर लिया। महागठबंधन सरकार ने तुष्टिकरण की राजनीति में लोकतंत्र और संवैधानिक मूल्यों को ध्वस्त कर दिया।”

गुरुवार की देर रात करीब 10.45 बजे दंगा नियंत्रण बल के साथ धरना स्थल शहर के कचहरी चौक पर इंस्पेक्टर एसके सुधांशु पहुँचे। उन्होंने मेडिकल जाँच की जरूरत बताकर उन्हें अपने साथ ले जाने लगी। जब उन्होंने कहा कि उन्हें इसकी जरूरत नहीं है तो दंगा नियंत्रण बल के जवानों ने उन्हें घसीटते हुए वैन में डाल दिया।

उसके बाद वहाँ वीडियो बना रहे लोगों पर पुलिस ने अंधाधुन लाठियाँ बरसा दीं। इस घटना की रिपोर्टिंग कर रहे कुछ पत्रकारों को भी पुलिस ने पीट दिया। जोगसर थाने ले जाने के कुछ देर बात रोहित को लोकनायक जयप्रकाश सदर अस्पताल में भर्ती करा दिया है। वहाँ सुरक्षा के भारी इंतजाम किए गए हैं।

मामला भागलपुर के विश्वविद्यालय थाना क्षेत्र के परबत्ती मोहल्ले का है। मोहल्ले में 30 जुलाई 2023 को ताजिया जुलूस निकाला गया। भाजपा नेता रोहित कुमार का आरोप है कि इस जुलूस में शामिल मुस्लिम समुदाय के कुछ लोगों ने रास्ते में पड़ने वाले काली मंदिर पर पत्थरबाजी की है। उन्होंने बताया कि मंदिर के मुख्य गेट को भी तोड़ने का प्रयास किया गया।

वहीं, काली महारानी पूजा समिति के कामेश्वर सिंह ने मीडिया से बात करते हुए मंदिर पर हमले के लिए मुस्लिम समुदाय के लोगों को जिम्मेदार ठहराया। उन्होंने कहा कि मंदिर को क्षतिग्रस्त मुर्गियाचक की ताजिया जुलूस में शामिल लोगों ने किया है। इस घटना की जानकारी मिलते ही आस-पास के श्रद्धालु जमा हो गए।

आक्रोशित लोगों ने मंदिर पर हमले में शामिल आरोपितों के खिलाफ कार्रवाई की माँग को लेकर प्रदर्शन शुरू कर दिया। मंदिर के पास रहने वाले ग्रामीण सुरेश सहनी ने मीडिया को बताया कि मामले का संज्ञान जिले के वरिष्ठ अधिकारियों को लेना चाहिए। वहीं, घटना की जानकारी मिलते ही भारी पुलिस बल मौके पर पहुँचा।

इसके बाद से रोहित कुमार आरोपितों की गिरफ्तारी की माँग को लेकर अनशन कर रहे थे। हालाँकि, अभी तक आरोपितों पर कोई कार्रवाई नहीं हुई है। भाजपा ने नीतीश कुमार और लालू यादव की पार्टी की गठबंधन वाली सरकार पर तुष्टिकरण का आरोप लगाया है।

Join OpIndia's official WhatsApp channel

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

उत्तराखंड में तेज़ी से बढ़ रही मुस्लिमों और ईसाईयों की जनसंख्या: UCC पैनल की रिपोर्ट में खुलासा – पहाड़ों से हो रहा पलायन

उत्तराखंड के पहाड़ी इलाकों में आबादी घट रही है, तो मैदानी इलाकों में बेहद तेजी से आबादी बढ़ी है। इसमें सबसे बड़ा योगदान दूसरे राज्यों से आने वाले प्रवासियों ने किया है।

जम्मू कश्मीर के उप-राज्यपाल को अब दिल्ली के LG जितनी शक्तियाँ, ट्रांसफर-पोस्टिंग के लिए भी उनकी अनुमति ज़रूरी: मोदी सरकार के आदेश पर भड़के...

जब से जम्मू कश्मीर का पुनर्गठन हुआ है, तब से वहाँ चुनाव नहीं हो पाए हैं। मगर जब भी सरकार का गठन होगा तब सबसे अधिक शक्तियाँ राज्यपाल के पास होंगी। ये शक्तियाँ ऐसी ही हैं, जैसे दिल्ली के एलजी के पास होती है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -