Saturday, July 20, 2024
Homeदेश-समाजभागलपुर में काली मंदिर पर पत्थरबाजी; हिन्दू संगठनों की नाराजगी के बाद छावनी में...

भागलपुर में काली मंदिर पर पत्थरबाजी; हिन्दू संगठनों की नाराजगी के बाद छावनी में तब्दील हुआ इलाका… मुर्गियाचक के ताजिया वालों पर आरोप

इस मामले में भागलपुर पुलिस ने भी पत्थरबाजी की सूचना मिलने और केस दर्ज करके आरोपितों की तलाश जारी होने की जानकारी दी है। पुलिस ने मौके पर अतिरिक्त बल तैनात किए जाने की जानकारी देते हुए लोगों से सोशल मीडिया पर किसी भी प्रकार की भ्रामक पोस्ट शेयर न करने की अपील की है।

बिहार के भागलपुर (Bhagalpur, Bihar)) जिले में एक हिन्दू मंदिर पर पत्थरबाजी की खबर के बाद तनाव की स्थिति बन गई है। पत्थरबाजी में मंदिर के कुछ हिस्सों को नुकसान पहुँचा है। भाजपा नेता ने पथराव का आरोप मुहर्रम के ताजिया जुलूस में शामिल लोगों पर लगाया है। पुलिस मामले की जाँच कर रही है और हिन्दू समाज के प्रदर्शन को देखते हुए इलाके में पुलिस बल तैनात किया गया है। घटना रविवार (30 जुलाई 2023) की है।

मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, मामला भागलपुर के विश्वविद्यालय थाना क्षेत्र का है। यहाँ परबत्ती मोहल्ले में रविवार (30 जुलाई 2023) को ताजिया जुलूस निकाला गया। भाजपा नेता रोहित पांडेय का आरोप है कि इस जुलूस में शामिल मुस्लिम समुदाय के कुछ लोगों ने रास्ते में पड़ने वाले काली मंदिर पर पत्थरबाजी की है। उन्होंने बताया कि मंदिर के मुख्य गेट को भी तोड़ने का प्रयास किया गया है।

वहीं, काली महारानी पूजा समिति के कामेश्वर सिंह ने मीडिया से बात करते हुए मंदिर पर हमले के लिए मुस्लिम समुदाय के लोगों को जिम्मेदार ठहराया। उन्होंने कहा कि मंदिर को क्षतिग्रस्त मुर्गियाचक की ताजिया जुलूस में शामिल लोगों ने किया है। इस घटना की जानकारी मिलते ही आस-पास के श्रद्धालु जमा हो गए।

आक्रोशित लोगों ने मंदिर पर हमले में शामिल आरोपितों के खिलाफ कार्रवाई की माँग को लेकर प्रदर्शन शुरू कर दिया। मंदिर के पास रहने वाले ग्रामीण सुरेश सहनी ने मीडिया को बताया कि मामले का संज्ञान जिले के वरिष्ठ अधिकारियों को लेना चाहिए। वहीं, घटना की जानकारी मिलते ही भारी पुलिस बल मौके पर पहुँचा।

इस मामले में भागलपुर पुलिस ने भी पत्थरबाजी की सूचना मिलने और केस दर्ज करके आरोपितों की तलाश जारी होने की जानकारी दी है। पुलिस ने मौके पर अतिरिक्त बल तैनात किए जाने की जानकारी देते हुए लोगों से सोशल मीडिया पर किसी भी प्रकार की भ्रामक पोस्ट शेयर न करने की अपील की है।

Join OpIndia's official WhatsApp channel

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

फैक्ट चेक’ की आड़ लेकर भारत में ‘प्रोपेगेंडा’ फैलाने की तैयारी कर रहा अमेरिका, 1.67 करोड़ रुपए ‘फूँक’ तैयार कर रहा ‘सोशल मीडिया इन्फ्लूएंसर्स’...

अमेरिका कथित 'फैक्ट चेकर्स' की फौज को तैयार करने की योजना को चतुराई से 'डिजिटल लिटरेसी' का नाम दे रहा है, लेकिन इनका काम होगा भारत में अमेरिकी नरेटिव को बढ़ावा देना।

मुस्लिम फल विक्रेताओं एवं काँवड़ियों वाले विवाद में ‘थूक’ व ‘हलाल’ के अलावा एक और पहलू: समझिए सच्चर कमिटी की रिपोर्ट और असंगठित क्षेत्र...

काँवड़ियों के पास ये विकल्प क्यों नहीं होना चाहिए, अगर वो सिर्फ हिन्दू विक्रेताओं से ही सामान खरीदना चाहते हैं तो? मुस्लिम भी तो लेते हैं हलाल?

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -