Tuesday, August 3, 2021
Homeराजनीतिराहुल गाँधी से मिले प्रशांत किशोर, सियासी अटकलों के बीच बड़ा सवाल- क्या बनेंगे...

राहुल गाँधी से मिले प्रशांत किशोर, सियासी अटकलों के बीच बड़ा सवाल- क्या बनेंगे कॉन्ग्रेस के तारणहार?

कॉन्ग्रेस महासचिव प्रियंका गाँधी का लखनऊ दौरा टलने की वजह पीके की राहुल से मुलाकात के साथ जोड़कर देखा जा रहा है। दरअसल, प्रियंका का यह दौरा 14 जुलाई को होने वाला था, लेकिन अब इसे टालकर 16 जुलाई को कर दिया गया है।

चुनावी रणनीतिकार प्रशांत किशोर ने मंगलवार (13 जुलाई 2021) को कॉन्ग्रेस नेता राहुल गाँधी से दिल्ली में उनके आवास पर मुलाकात की। इसके बाद से राजनीतिक गलियारों में अटकलें तेज हो गई हैं। रिपोर्ट्स के मुताबिक, बैठक के दौरान प्रियंका गाँधी, केसी वेणुगोपाल और पंजाब मामलों के प्रभारी हरीश रावत समेत पार्टी के कई वरिष्ठ नेता मौजूद थे।

यह बैठक पंजाब, राजस्‍थान और छत्‍तीसगढ़ में कॉन्ग्रेस इकाई में अंदरूनी कलह और उथल-पुथल को लेकर की गई। बीते कुछ महीनों से यहाँ सियासी संकट गहराया हुआ है। इसके अलावा उत्‍तर प्रदेश, उत्‍तराखंड, पंजाब, गोवा, मणिपुर और गुजरात में अगले साल विधानसभा चुनाव होने हैं। ऐसे में राहुल गाँधी से प्रशांत किशोर की मुलाकात को अहम माना जा रहा है।

हाल ही में पंजाब के मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह ने दिल्ली में सीएम के आवास कपूरथला हाउस में किशोर से मुलाकात की थी। अमरिंदर ने किशोर को प्रधान सलाहकार नियुक्त किया था। हाल ही में पश्चिम बंगाल सहित कुछ राज्यों में विधानसभा चुनावों के दौरान प्रशांत किशोर पंजाब गए थे। हालाँकि, नतीजे आने के तुरंत बाद, उन्होंने एक राजनीतिक रणनीतिकार के रूप में अपने पद से हटने की इच्छा व्यक्त की थी।

मीडिया रिपोर्ट्स में कॉन्ग्रेस महासचिव प्रियंका गाँधी का लखनऊ दौरा टलने की वजह पीके की राहुल से मुलाकात के साथ जोड़कर देखा जा रहा है। दरअसल, प्रियंका का यह दौरा 14 जुलाई को होने वाला था, लेकिन अब इसे टालकर 16 जुलाई को कर दिया गया है।

बता दें कि 2014 में नरेंद्र मोदी के राजनीति प्रचार-प्रसार की जिम्‍मेदारी प्रशांत ने ली थी। इसके बाद उन्‍होंने बिहार चुनाव में नीतीश कुमार, पंजाब में अमरिंदर सिंह, आंध्र प्रदेश में जगन मोहन रेड्डी और बंगाल चुनाव में ममता बनर्जी के लिए काम किया था।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘माँस फेंक करते हैं परेशान’: 81 हिन्दू परिवारों ने लगाए ‘मकान बिकाऊ है’ के पोस्टर, एक्शन में मुरादाबाद पुलिस

उत्तर प्रदेश के मुरादाबाद स्थित कटघर थाना क्षेत्र में स्थित इस कॉलोनी में 81 हिन्दू परिवारों ने 'मकान बिकाऊ है' के पोस्टर लगा दिए हैं। वहाँ बसे मुस्लिमों पर परेशान करने के आरोप।

4 साल में 4.5 करोड़ को मरवाया, हिटलर-स्टालिन से भी बड़ा तानाशाह: ओलंपिक में चीन के खिलाड़ियों ने पहना उसका बैज

जापान की राजधानी टोक्यो में चल रहे ओलंपिक खेलों में चीन के दो खिलाड़ियों को स्वर्ण पदक जीतने के बाद माओ का बैज पहने हुए देखा गया। विरोध शुरू।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
112,740FollowersFollow
395,000SubscribersSubscribe