Sunday, October 17, 2021
Homeराजनीतिप्रियंका गाँधी के काफिले में घुसे गए 100 भेड़, कमलनाथ की लिफ्ट ऊपर जाने...

प्रियंका गाँधी के काफिले में घुसे गए 100 भेड़, कमलनाथ की लिफ्ट ऊपर जाने के बजाय गई नीचे

प्रियंका गाँधी की सुरक्षा से बेखबर भेड़ों के मालिक ने कहा - “हमें तो सिर्फ इस बात का डर सता रहा था कि भीड़ के बीच कहीं हमारी कोई भेड़ खो ना जाए। लेकिन भगवान की कृपा से हमारी सभी 100 भेड़ें मिल गईं।”

उत्तर प्रदेश के प्रयागराज जिले में योगी सरकार पर निशाना साधने पहुँची प्रियंका गाँधी वाड्रा के काफिले के साथ अजीबोगरीब घटना हुई। जिले से 15 किमी दूर बसवार गाँव से गुजरते हुए उनके काफिले में भेड़ों का झुंड घुसने से हड़कंप मच गया। प्रियंका के काफिले में भेड़ वाला वाकया तब हुआ, जब कॉन्ग्रेस महाचसचिव यमुना किनारे कार्यकर्ताओं के साथ टूटी नावें देखने जा रही थींं।

इस दौरान प्रियंका के काफिले की स्पीड बनी रही। लेकिन वहाँ मौजूद चरवाहे डंडा लेकर भेड़ों को भगाने लगे। उनकी चिंता थी कि कहीं भीड़ भाड़ वाले काफिले में उनके भेड़ गुम न जाएँ। चरवाहा गेंदा लाल बताते हैं कि उन्हें कुछ देर पहले ही पता चला था कि इंदिरा गाँधी की पोती, प्रियंका गाँधी यहाँ आईं।

काफिले में भेड़ों के झुंड के घुसने के बारे में गेंदा लाल ने कहा, “हमें तो सिर्फ इस बात का डर सता रहा था कि भीड़ के बीच हमारी कोई भेड़ कहीं खो ना जाए। लेकिन भगवान की कृपा से हमारी सभी 100 भेड़ें मिल गईं।”

बता दें कि प्रियंका के साथ हुए वाकये को सुन कर लोग इस पर हँस रहे हैं। घटना का मजाक उड़ा रहे हैं। वहीं दूसरी ओर मध्य प्रदेश के सीएम कमलनाथ के साथ भी एक अजीब वाकया हुआ। दरअसल वह जब पार्टी के एक वरिष्ठ नेता रामेश्वर पटेल को देखने डीएनएस अस्पताल गए तो वहाँ वह लिफ्ट ही गिर पड़ी, जिसमें वह अन्य नेताओं के साथ चढ़े थे।

लिफ्ट गिरने वाले वाकये को गंभीरता से देखा जा रहा है। मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान के निर्देशानुसार जिलाधिकारी द्वारा डीएनएस अस्पताल में हुई घटना की जाँच करवाई जाएगी।

कॉन्ग्रेस का डीएनएस अस्पताल में हुई घटना को लेकर कहना है कि एक बड़ा हादसा होते-होते टला। यदि लिफ्ट ओवरलोड होती तो चलती ही नहीं लेकिन लिफ्ट नीचे गिर गई। लिफ्ट का दरवाजा लॉक हो गया। 5 मिनट बाद उसे खोला गया। ये एक गंभीर लापरवाही है। ये सुरक्षा में खामी है। इसके पीछे जो भी दोषी हैं उसके खिलाफ कार्रवाई होनी चाहिए।

मालूम हो कि जहाँ पूर्व सीएम कमलनाथ के साथ हुई घटना पर कॉन्ग्रेस प्रशासन पर सवाल करने की कोशिश कर रही है, वहीं डीएनएस हॉस्पिटल के एक अधिकारी ने लिफ्ट गिरने की बात से इनकार करते हुए कहा कि क्षमता से ज्यादा लोगों के सवार होने से यह ऊपर जाने के बजाय अचानक नीचे की ओर जाकर बेसमेंट में पहुँच गई।

अधिकारी के मुताबिक हादसे के वक्त लिफ्ट में कमलनाथ समेत 13-14 लोग सवार थे। उन्होंने कहा, “लिफ्ट के नीचे की तरफ जाने के बाद लिफ्टमैन इसे बेसमेंट में ले गया और इसमें सवार कमलनाथ और दूसरे लोगों को बाहर निकाला। ये लोग बेसमेंट से सीढ़ियाँ चढ़कर अस्पताल की ऊपरी मंजिल पर पहुँचे और वरिष्ठ कॉन्ग्रेस नेता रामेश्वर पटेल के हाल-चाल जानने के बाद दूसरी लिफ्ट से नीचे उतरकर आगे रवाना हुए।”

 

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘बेअदबी करने वालों को यही सज़ा मिलेगी, हम गुरु की फौज और आदि ग्रन्थ ही हमारा कानून’: हथियारबंद निहंगों को दलित की हत्या पर...

हथियारबंद निहंग सिखों ने खुद को गुरू ग्रंथ साहिब की सेना बताया। साथ ही कहा कि गुरु की फौजें किसानों और पुलिस के बीच की दीवार हैं।

सरकारी नौकरी से निकाला गया सैयद अली शाह गिलानी का पोता, J&K में रिसर्च ऑफिसर बन कर बैठा था: आतंकियों के समर्थन का आरोप

अलगाववादी नेता रहे सैयद अली शाह गिलानी के पोते अनीस-उल-इस्लाम को जम्मू कश्मीर में सरकारी नौकरी से निकाल बाहर किया गया है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
129,125FollowersFollow
411,000SubscribersSubscribe