Tuesday, October 19, 2021
Homeराजनीतिप्रियंका ने लिया यू-टर्न, पर राहुल ने फिर कहा, ‘हाँ, हैं हम वोट-कटवा’

प्रियंका ने लिया यू-टर्न, पर राहुल ने फिर कहा, ‘हाँ, हैं हम वोट-कटवा’

राहुल ने इसकी भी ‘गारंटी’ दी कि मोदी दोबारा प्रधानमंत्री नहीं बनने वाले। पर यहाँ भी वह खुद के प्रधानमंत्री बनने का भी आश्वासन नहीं दे पाए। सब जनता की मर्जी पर छोड़ने की बात कहकर वह इस सवाल का जवाब देने से बचते दिखे।

कॉन्ग्रेस अध्यक्ष राहुल गाँधी ने अपनी बहन और पार्टी महासचिव प्रियंका वाड्रा के ‘वोट-कटवा’ पर यू-टर्न का खंडन करते हुए दोहराया कि भाजपा को हराने के लिए उनकी पार्टी वोट-कटवा की भूमिका निबाहने के लिए भी प्रस्तुत है। एनडीटीवी को दिए साक्षात्कार में राहुल गाँधी ने प्रियंका वाड्रा के पहले स्टैंड को दोहराते हुए देश को ‘आश्वस्त’ किया कि उनकी पार्टी उत्तर प्रदेश में अपने लोगों को निर्वाचित कराने नहीं, महज भाजपा के वोट काटकर महागठबंधन को जिताने के लिए प्रत्याशी उतार रही है। इससे पहले प्रियंका ने भी ऐसे ही आशय का बयान दिया था, मगर बाद में उन्होंने कहना शुरू कर दिया कि कॉन्ग्रेस अपनी जीत के लिए लड़ रही है।

‘हमारे कैंडिडेट सेक्युलर जीत सुनिश्चित करेंगे’

राहुल गाँधी ने एनडीटीवी के पत्रकार से बात करते हुए कहा, “हमारा लक्ष्य भाजपा को हराना है। भाजपा और पीएम मोदी सत्ता में वापिस नहीं आ रहे हैं। जहाँ यूपी में हमारा प्रत्याशी मजबूत है, हम अपनी जगह के लिए लड़ेंगे। जहाँ हमारे अपने प्रत्याशी मजबूत हैं, हम सुनिश्चित करेंगे कि भाजपा का प्रत्याशी हारे और एक सेक्युलर कैंडिडेट विजयी हो।”

इसके अलावा राहुल ने इसकी भी ‘गारंटी’ दी कि मोदी दोबारा प्रधानमंत्री नहीं बनने वाले। पर यहाँ भी वह खुद के प्रधानमंत्री बनने का भी आश्वासन नहीं दे पाए। सब जनता की मर्जी पर छोड़ने की बात कहकर वह इस सवाल का जवाब देने से बचते दिखे।

 

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘सहिष्णुता और शांति का स्तर ऊँचा कीजिए’: हिंदी को राष्ट्रभाषा बताने पर जिस कर्मचारी को Zomato ने निकाला था, उसे CEO ने फिर बहाल...

रेस्टॉरेंट एग्रीगेटर और फ़ूड डिलीवरी कंपनी Zomato के CEO दीपिंदर गोयल ने उस कर्मचारी को फिर से बहाल कर दिया है, जिसे कंपनी ने हिंदी को राष्ट्रभाषा बताने पर निकाल दिया था।

बांग्लादेश के हमलावर मुस्लिम हुए ‘अराजक तत्व’, हिंदुओं का प्रदर्शन ‘मुस्लिम रक्षा कवच’: कट्टरपंथियों के बचाव में प्रशांत भूषण

बांग्लादेश में हिंदू समुदाय के नरसंहार पर चुप्पी साधे रखने के कुछ दिनों बाद, अब प्रशांत भूषण ने हमलों को अंजाम देने वाले मुस्लिमों की भूमिका को नजरअंदाज करते हुए पूरे मामले में ही लीपापोती करने उतर आए हैं।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
129,963FollowersFollow
411,000SubscribersSubscribe