निराश कार्यकर्ताओं में प्रियंका गाँधी ने भरी चाबी, कहा-‘एग्जिट पोल से न घबराएँ, मतगणना केंद्र पर ध्यान दें’

ऑडियो में प्रियंका ने पार्टी कार्यकर्ताओं से कहा, "आपका इन सबसे अलर्ट रहना बहुत महत्वपूर्ण है। स्ट्रॉन्ग रूम और मतगणना केंद्र के बाहर आप निगरानी बनाए रखिए हमें यकीन है कि हमारे संयुक्त प्रयास का फल जरूर मिलेगा।"

एग्जिट पोल में दर्शाए पूर्वानुमान के बाद चारों ओर हल्ला उठ चुका है कि सत्ता में दोबारा मोदी सरकार ही आ रही है। ऐसे में कॉन्ग्रेस की महासचिव प्रियंका गाँधी ने सोमवार (मई 20, 2019) को पार्टी के कार्यकर्ताओं से अपील की है कि वे अफवाहों के कारण और एग्जिट पोल देखकर हताश न हों। उन्होंने कार्यकर्ताओं को स्ट्राँग रूम तथा मतगणना केंद्रों पर डटे रहने की भी सलाह दी हैं। प्रियंका ने कहा है कि असली परिणाम 23 मई को आएँगे, उसके लिए तैयार रहें।

प्रियंका ने सोमवार (मई 21, 2019) को ऑडियो संदेश जारी करते हुए कहा, ” मेरे प्यारे कॉन्ग्रेस के भाइयों और बहनों… अफवाहों में पड़ने की जरूरत नहीं है। एग्जिट पोल आपको हतोत्साहित करने के लिए है।”

प्रियंका के मुताबिक यह सब सिर्फ़ कॉन्ग्रेस पार्टी के कार्यकर्ताओं की दृढ़ता को तोड़ने का एक प्रयास है। अपनी ऑडियो में प्रियंका ने पार्टी कार्यकर्ताओं से कहा, “आपका इन सबसे अलर्ट रहना बहुत महत्वपूर्ण है। स्ट्रॉन्ग रूम और मतगणना केंद्र के बाहर आप निगरानी बनाए रखिए हमें यकीन है कि हमारे संयुक्त प्रयास का फल जरूर मिलेगा।”

- विज्ञापन - - लेख आगे पढ़ें -

प्रियंका गाँधी का यह बयान मिर्जापुर से कॉन्ग्रेस उम्मीदवार ललितेश पति त्रिपाठी के पत्र के बाद आया है। इसमें उन्होंने निर्वाचन आयोग से शिकायत की है कि जिस स्ट्रॉन्ग रूम में सारी ईवीएम रखी हैं, वहाँ पहले से ही 300 अतिरिक्त ईवीएम पहुँचाई जा चुकी हैं।

गौरतलब है कि 19 मई को आए तकरीबन सभी एग्जिट पोल में एनडीए को बहुमत मिलने का अनुमान लगाया गया है। लोकसभा की 542 सीटों पर भाजपा और एनडीए के गठबंधन को सबसे ज्यादा सीटें दी गई हैं। एनडीए के खाते में एग्जिट पोल में सबसे ज्यादा 267-350 सीटें आई।

शेयर करें, मदद करें:
Support OpIndia by making a monetary contribution

बड़ी ख़बर

जेएनयू विरोध प्रदर्शन
छात्रों की संख्या लगभग 8,000 है। कुल ख़र्च 556 करोड़ है। कैलकुलेट करने पर पता चलता है कि जेएनयू हर एक छात्र पर सालाना 6.95 लाख रुपए ख़र्च करता है। क्या इसके कुछ सार्थक परिणाम निकल कर आते हैं? ये जानने के लिए रिसर्च और प्लेसमेंट के आँकड़ों पर गौर कीजिए।

सबसे ज़्यादा पढ़ी गईं ख़बरें

ताज़ा ख़बरें

हमसे जुड़ें

114,921फैंसलाइक करें
23,424फॉलोवर्सफॉलो करें
122,000सब्सक्राइबर्ससब्सक्राइब करें

ज़रूर पढ़ें

Advertisements
शेयर करें, मदद करें: