Saturday, May 25, 2024
Homeराजनीति'जिन अधिकारियों ने गुरु ग्रन्थ साहिब की बेअदबी करने वालों को बचाया, उन्हें पंजाब...

‘जिन अधिकारियों ने गुरु ग्रन्थ साहिब की बेअदबी करने वालों को बचाया, उन्हें पंजाब सरकार ने दिए बड़े पद’: AAP विधायक का खुलासा

कुंवर विजय प्रताप सिंह ने अपने पोस्ट में दो वरिष्ठ आईपीएस अधिकारियों को दी गई नई जिम्मेदारी पर आपत्ति जताई थी। इन अधिकारियों के नाम प्रबोध कुमार और अरुण पाल सिंह है। अभी हाल में प्रबोध कुमार को विशेष डीजीपी और अरुण पाल को अमृतसर का पुलिस आयुक्त नियुक्त गया था।

पंजाब में आम आदमी पार्टी के विधायक कुंवर विजय प्रताप सिंह को लेकर खबर है कि कल उन्होंने अपने सोशल मीडिया पर एक पोस्ट डाला था जिसमें उन्होंने अपने पार्टी के फैसले पर सवाल खड़े किए थे। IPS होने के बावजूद राजनीति में आकर अपनी अच्छी जगह बनाने वाले कुंवर विजय प्रताप सिंह ने अपने पोस्ट में दो वरिष्ठ आईपीएस अधिकारियों को दी गई नई जिम्मेदारी पर आपत्ति जताई थी। इन अधिकारियों के नाम प्रबोध कुमार और अरुण पाल सिंह है। बताया जा रहा है कि अभी हाल में प्रबोध कुमार को इंटेलिजेंस चीफ और अरुण पाल को अमृतसर का पुलिस आयुक्त नियुक्त गया था जिसके बाद कुंवर प्रताप का पोस्ट आया, लेकिन कुछ घंटों बाद इसे हटा भी दिया गया।

अब सोशल मीडिया पर कुंवर प्रताप सिंह के नाम वाले अकॉउंट से साझा पोस्ट शेयर हो रहा है। मीडिया खबरों के अनुसार, इसी पोस्ट को कुंवर प्रताप सिंह ने शेयर किया था। इस पोस्ट में कुंवर विजय प्रताप सिंह ने अपने इस्तीफे वाले दिन से लेकर बात शुरू की और दो राजनीतिक परिवारों का जिक्र किया जिन्हें उनके इस्तीफे से दिक्कत थी। इसके बाद उन्होंने एक पुराने बेअदबी के मामले को लेकर दो अधिकारियों की नियुक्ति पर आपत्ति जाहिर की।

इंडियन एक्सप्रेस में प्रकाशित पोस्ट के अंश

अपने पोस्ट में उन्होंने लिखा कि आम आदमी पार्टी से पंजाब की जनता को बहुत उम्मीदें थी कि वो बरगाड़ी बहिबल कोतकापुर मामले में जनता को न्याय दिलाएगी। इसलिए उन्होंने पार्टी स्तर पर दोबारा से दो पुलिस अधिकारियों की नियुक्तियों पर विचार करने को कहा है जो बेअदबी के मामले के मामले में एसआईटी टीम का हिस्सा थे, पर राजनीतिक परिवारों को समर्थन देते थे।

अपने पोस्ट में उन्होंने बताया कि इन्हीं दो अधिकारियों के चलते बरगाड़ी-बहिबल-कोतकापुर मामले में न्याय नहीं मिल पाया था। साझा पोस्ट बताता है कि बेअदबी मामले की जाँच में जो एसआईटी गठित हुई थी उसमें वो तीसरे नंबर पर थे। जिन दो अधिकारियों ने राजनीतिक परिवारों का बचाव किया उनमें से पहले वाले को इंटेलिजेंस चीफ बनाया गया है और दूसरे को अमृतसर जैसे पावन शहर का पुलिस कमिशनर नियुक्त किया गया।

इस पोस्ट में कुंवर विजय प्रताप सिंह ने अपील की हुई थी कि पार्टी इन दोनों अधिकारियों की नियुक्ति पर विचार करे। पोस्ट के मुताबिक AAP विधायक ने इस संबंध में मुख्यमंत्री भगवंत मान को भी पत्र लिखा था ताकि बरगाड़ी मामले में न्याय हो सके। हालाँकि अब, आप विधायक के सोशल मीडिया से ये पोस्ट डिलीट हो चुका है।

बरगाड़ी बहिबल कोतकापुर बेअदबी मामला और गोलीकांड

बता दें कि आम आदमी पार्टी विधायक ने जिस बेअदबी केस की चर्चा अपने पोस्ट में की वो साल 2015 का है। उस समय 1 जून 2015 को बुर्ज जवाहर सिंह वाला के गुरुद्वारे साहिब से पावन ग्रंथ की चोरी हुई थी। 25 सितंबर 2015 को गुरुद्वारे के बाहर आपत्तिजनक व पुलिस प्रशासन को चुनौती देने वाले पोस्टर लगे थे। 12 अक्टूबर 2015 को बरगाड़ी के गुरुद्वारे के बाहर पावन ग्रंथ की बेअदबी की गई थी। 14 अक्टूबर को बहिबल कलां में पुलिस की फायरिंग में दो लोगों की मौत और 100 के घायल होने की खबर आई थी। इसके बाद 15 अक्टूबर को इस मामले में पहली एसआईटी गठित हुई थी जिसने दो भाइयों को पकड़ा लेकिन उन लोगों को बाद में रिहा कर दिया गया।

घटना के करीब एक माह बाद इस मामले की जाँच सीबीआई ने ली और 30 जून 2016 को जस्टिस जोरा सिंह ने अपनी रिपोर्ट सरकार को सौंपी। फिर कैप्टेन अमरिंदर सिंह सरकार में इस मामले की जाँच फिर शुरू हुई और जस्टिस रणजीत सिंह आयोग का गठन हुआ। कैप्टेन सरकार डेढ़ साल बीते ही कोटकपूरा मुख्य चौक पर फायरिंग करने के मामले में अज्ञात पुलिस अधिकारियों पर एफआईआर हुई। 16 अगस्त को जस्टिस रणजीत सिंह आयोग ने अपनी रिपोर्ट सीएम को दी और 10 सितंबर को दोबारा एडीजीपी प्रबोध कुमार की अध्यक्षता में एसआईटी का गठन हुआ। ये एसआईटी बेअदबी का विरोध कर रहे लोगों पर पुलिस फायरिंग के दोनों मामलों की जाँच में थी। लेकिन पिछले साल अप्रैल में पंजाब एवं हरियाणा उच्च न्यायालय ने एसआईटी द्वारा की गई जाँच को रद्द करने का आदेश दे दिया था।

Special coverage by OpIndia on Ram Mandir in Ayodhya

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

OBC आरक्षण में मुस्लिम घुसपैठ पर कलकत्ता हाई कोर्ट का फैसला देश की आँख खोलने वाला: PM मोदी ने कहा – मेहनती विपक्षी संसद...

पीएम मोदी ने कहा कि मेरे लिए मेरे देश की 140 करोड़ जनता साकार ईश्वर का रूप है। सरकार और राजनीति दलों को जनता प्रति उत्तरदायी होना चाहिए।

SFI के गुंडों के बीच अवैध संबंध, ड्रग्स बिजनेस… जिस महिला प्रिंसिपल ने उठाई आवाज, केरल सरकार ने उनका पैसा-पोस्ट सब छीना, हाई कोर्ट...

कागरगोड कॉलेज की प्रिंसिपल डॉ रेमा एम ने कहा था कि उन्होंने छात्र-छात्राओं को शारीरिक संबंध बनाते देखा है और वो कैंपस में ड्रग्स भी इस्तेमाल करते हैं।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -