Thursday, June 13, 2024
Homeराजनीतितुम्हारे बाप का ऑफिस है क्या?: मायावती के गठबंधन साथी ने डिप्टी कमिश्नर को...

तुम्हारे बाप का ऑफिस है क्या?: मायावती के गठबंधन साथी ने डिप्टी कमिश्नर को धमकाया

वीडियो में देखा जा सकता है कि विधायक ने डिप्टी कमिश्नर से कहा- "ये तेरे बाप का ऑफिस है क्या?" इस पर डिप्टी कमिश्नर ने उन्हें टोकते हुए कहा कि ये जो आप बाप-बाप की रट लगाए बैठे हैं, यह सही भाषा नहीं है।

पंजाब में लोक इंसाफ पार्टी के विधायक सिमरजीत सिंह बैंस द्वारा डिप्टी कमिश्नर के साथ बदतमीजी करने का मामला सामने आया है। मामला गुरदासपुर का है। दोनों की कहासुनी का वीडियो भी सोशल मीडिया पर वायरल हो गया है। इस वीडियो में विधायक बैंस अभद्र भाषा का इस्तेमाल करते दिख रहे हैं। ये झड़प डिप्टी कमिश्नर के दफ्तर में ही हुई। विधायक के ख़िलाफ़ केस दर्ज कर लिया गया है।

वीडियो में देखा जा सकता है कि विधायक ने डिप्टी कमिश्नर से कहा- “ये तेरे बाप का ऑफिस है क्या?” इस पर डिप्टी कमिश्नर ने उन्हें टोकते हुए कहा कि ये जो आप बाप-बाप की रट लगाए बैठे हैं, यह सही भाषा नहीं है। सिमरजीत सिंह के भाई भी विधायक हैं और लुधियाना की राजनीति में बैंस बंधुओं का ख़ासा दबदबा है। एसडीएम की शिकायत के बाद सिमरजीत बैंस के ख़िलाफ़ बदसलूकी का मामला दर्ज हुआ है।

सिमरजीत सिंह बैंस लोक इंसाफ पार्टी के संस्थापक हैं। वह 2017 पंजाब विधानसभा चुनाव में आम आदमी पार्टी के साथ गठबंधन में रह चुके हैं। फिलहाल उनकी पार्टी पंजाब डेमोक्रेटिक अलायन्स का हिस्सा है, जिसमें मायावती की बसपा, वामपंथी सीपीआई और अन्य पार्टियाँ शामिल हैं। इस गठबन्धन ने मायावती को प्रधानमंत्री चेहरा घोषित कर 2019 का लोकसभा चुनाव लड़ा था।

Special coverage by OpIndia on Ram Mandir in Ayodhya

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

नेता खाएँ मलाई इसलिए कॉन्ग्रेस के साथ AAP, पानी के लिए तरसते आम आदमी को दोनों ने दिखाया ठेंगा: दिल्ली जल संकट में हिमाचल...

दिल्ली सरकार ने कहा है कि टैंकर माफिया तो यमुना के उस पार यानी हरियाणा से ऑपरेट करते हैं, वो दिल्ली सरकार का इलाका ही नहीं है।

पापुआ न्यू गिनी में चली गई 2000 लोगों की जान, भारत ने भेजी करोड़ों की राहत (पानी, भोजन, दवा सब कुछ) सामग्री

प्राकृतिक आपदा के कारण संसाधनों की कमी से जूझ रहे पापुआ न्यू गिनी के एंगा प्रांत को भारत ने बुनियादी जरूरतों के सामान भेजे हैं।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -