Thursday, July 25, 2024
Homeराजनीति'रात को शराब पीकर नाचते हैं काशी के युवक': राहुल गाँधी के आपत्तिजनक बयान...

‘रात को शराब पीकर नाचते हैं काशी के युवक’: राहुल गाँधी के आपत्तिजनक बयान पर बोले लोग – माफ़ी माँगो

राहुल गाँधी की यात्रा का अगला पड़ाव अमेठी और रायबरेली में हुआ। 19 फरवरी को उन्होंने रायबरेली में आयोजित रोड शो में वाराणसी के बारे में अपना अनुभव बताया।

कॉन्ग्रेस पार्टी के पूर्व अध्यक्ष राहुल गाँधी ने काशी के युवाओं पर आपत्तिजनक बयान दिया है। उन्होंने खुद को चश्मदीद बताते हुए दावा किया है कि काशी के युवा रात में बाजा बजा कर सड़क पर शराब पी कर दिखते हैं। यह बयान उन्होंने सोमवार (19 फरवरी, 2024) को रायबरेली में दिया था। राहुल गाँधी के इस बयान की काफी आलोचना हो रही है। सोशल मीडिया पर उनके माफ़ी की भी माँग उठी है। हालाँकि, अभी तक राहुल गाँधी ने अपने इस बयान पर कोई प्रतिक्रिया नहीं दी है।

दरअसल 2024 लोकसभा चुनाव की तैयारियों में जुटे राहुल गाँधी ‘भारत जोड़ो न्याय यात्रा’ ले कर भारत के विभिन्न हिस्सों में घूम रहे हैं। इसी माह उनकी यात्रा उत्तर प्रदेश में प्रवेश की। पिछले हफ्ते राहुल गाँधी ने वाराणसी में रोड शो भी किया था। इसके बाद राहुल गाँधी की यात्रा का अगला पड़ाव अमेठी और रायबरेली में हुआ। 19 फरवरी को उन्होंने रायबरेली में आयोजित रोड शो में वाराणसी के बारे में अपना अनुभव बताया। उनके भाषण का 30 सेकेंड का वीडियो सोशल मीडिया पर तेजी से वायरल हो रहा है।

अपने बयान में राहुल गाँधी ने कहा, “वाराणसी में देखा मैंने। रात को बाजा बज रहा है, बाजा बज रहा है। वहाँ पर शराब पिए, शराब पिए सड़क पर लेटते हुए। बाजा बज रहा है। UP का भविष्य रात को शराब पिए नाच रहा है, डाँस कर रहा है। नशे में।” इसी बीच राहुल गाँधी कॉन्ग्रेस कार्यकर्ताओं को ‘ठहर जा-ठहर जा’ कह सम्बोधित करते रहे। सोशल मीडिया पर वायरल होने के साथ ही राहुल गाँधी के इस बयान का विरोध होना शुरू हो गया है। हिन्दू महासभा पदाधिकारी ने राहुल गाँधी की बौखलाहट की वजह उनकी न्याय यात्रा में लोगों का न आना बताया है।

राहुल गाँधी का जो वीडियो शेयर हो रहा है उसमें कैप्शन के तौर पर उन्हें चुनावी हिन्दू बताया गया है। इसी बयान पर नाराज़गी जताते हुए मुक्तानंद गिरी ने लिखा, “राहुल गाँधी ने कहा था लोग मन्दिर में लड़की छेड़ने जाते है। आज काशी जी को कहा शराबियों का अड्डा। ऐसी भाषा सिख, मुस्लिम ईसाई के विषय में क्यों नहीं बोलता।”

चित्र साभार: मुक्तानंद गिरी का ‘X’ हैंडल

प्रशांत कुमार शुक्ला का कहना है कि जब काशी का विकास देख कर राहुल गाँधी की आँखें चौंधिया गईं तब वो वहाँ के युवाओं को अनाप-शनाप बोलने लगे।

चित्र साभार: प्रशांत कुमार शुक्ला का ‘X’ हैंडल

इसके अलावा सोशल मीडिया पर कई नेटीजेंस ने राहुल गाँधी द्वारा काशी के युवाओं पर दिए बयान को आपत्तिजनक और अशोभनीय माना है। उनसे माफ़ी की भी माँग की जा रही है। फ़िलहाल इस बयान पर राहुल गाँधी या उनकी पार्टी की तरफ से किसी प्रतिक्रिया की प्रतीक्षा है।

Join OpIndia's official WhatsApp channel

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

भिंडराँवाले के बाद कॉन्ग्रेस ने खोजा एक नया ‘संत’… तब पैसा भेजते थे, अब संसद में कर रहे खुला समर्थन: समझिए कैसे नेहरू-गाँधी परिवार...

RA&W और सेना के पूर्व अधिकारी कह चुके हैं कि कॉन्ग्रेस ने पंजाब में खिसकती जमीन वापस पाने के लिए भिंडराँवाले को पैदा किया। अब वही फॉर्मूला पार्टी अमृतपाल सिंह के साथ आजमा रही। कॉन्ग्रेस के बड़े नेता जरनैल सिंह के सामने फर्श पर बैठते थे। संजय गाँधी ने उसे 'संत' बनाया था।

‘वनवासी महिलाओं से कर रहे निकाह, 123% बढ़ी मुस्लिम आबादी’: भाजपा सांसद ने झारखंड में NRC के लिए उठाई माँग, बोले – खाली हो...

लोकसभा में बोलते हुए सांसद निशिकांत दुबे ने कहा, विपक्ष हमेशा यही बोलता रहता है संविधान खतरे में है पर सच तो ये है संविधान नहीं, इनकी राजनीति खतरे में है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -