Friday, June 14, 2024
Homeराजनीतिझारखंड की उन 15 सीटों का हाल जहाँ मोदी, राहुल और प्रियंका ने...

झारखंड की उन 15 सीटों का हाल जहाँ मोदी, राहुल और प्रियंका ने रैली की

2 सीटों से ख़ुद पूर्व मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन आगे चल रहे हैं। मुख्यमंत्री रघुवर दास को निर्दलीय सरयू राय पटखनी देते दिख रहे हैं। भाजपा के बागी नेता सरयू राय टिकट काटे जाने से नाराज़ होकर मुख्यमंत्री के ख़िलाफ़ निर्दलीय मैदान में उतर आए थे।

झारखंड विधानसभा चुनाव में कॉन्ग्रेस-झामुमो गठबंधन जीत की ओर अग्रसर है। जहाँ कॉन्ग्रेस 13 सीटें जीत रही है, वहीं झामुमो 27 सीटों के साथ सबसे बड़ी पार्टी बन कर उभरती दिख रही है। एक सीट पर राजद आगे है। तीनों दलों का गठबंधन खबर लिखे जाने तक 41 सीटों पर आगे था।

अब एक नजर उन सीटों पर डालते हैं जहाँ प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी, कॉन्ग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गाँधी ने रैली की। राहुल गाँधी ने 2 दिसंबर को सिमडेगा में चुनावी जनसभा की। 9 दिसंबर को बड़कागाँव और राँची में उनकी रैली हुई। 12 दिसंबर को उन्होंने राजमहल और महगामा में अपनी पार्टी व गठबंधन के कैडर में जान फूँकने का काम किया। आइए, देखते हैं कि उन सीटों पर फिलहाल क्या स्थिति है;

सिमडेगा: भाजपा
बड़कागाँव: कॉन्ग्रेस
राँची: भाजपा
राजमहल: भाजपा
महगामा: झामुमो

प्रियंका गाँधी ने एकमात्र जनसभा पाकुड़ में की। वहाँ के ट्रेंड्स पर नज़र डालें तो कॉन्ग्रेस के आलमगीर आलम बड़ी जीत की ओर बढ़ते दिखाई दे रहे हैं। अब प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने जिन जगहों पर अपनी जनसभा की, उस पर एक नज़र दाल लेते हैं। उन्होंने 25 नवंबर को मेदिनीनगर और गुमला में रैली की। प्रधानमंत्री 2 दिसंबर को जमशेदपुर व खूँटी पहुँचे। 9 दिसंबर को बरही और बोकारो में उन्होंने भाजपा कार्यकर्ताओं की हौसला आफजाई की। 12 दिसंबर को धनबाद और 15 दिसंबर को दुमका में पीएम की रैली हुई। प्रधानमंत्री ने 17 दिसंबर को विपक्षी गठबंधन के सीएम उम्मीदवार हेमंत सोरेन के क्षेत्र बरहेट से अपनी चुनावी कैम्पेन का समापन किया। इस सीटों की स्थिति ऐसी है;

डाल्टेनगंज: भाजपा
गुमला: झामुमो
जमशेदपुर: निर्दलीय
खूँटी: भाजपा
बरही: कॉन्ग्रेस
बोकारो: कॉन्ग्रेस
धनबाद: भाजपा
दुमका: झामुमो
बरहेट: झामुमो

जैसा कि आप देख सकते हैं, पीएम मोदी ने 9 सीटों पर रैलियाँ की, जिनमें से 3 पर भाजपा आगे चल रही है। वहीं 2 सीटों से ख़ुद पूर्व मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन आगे चल रहे हैं। मुख्यमंत्री रघुवर दास को निर्दलीय सरयू राय पटखनी देते दिख रहे हैं। भाजपा के बागी नेता सरयू राय टिकट काटे जाने से नाराज़ होकर मुख्यमंत्री के ख़िलाफ़ निर्दलीय मैदान में उतर आए थे। ये अंतिम नतीजे नहीं हैं। वोटो की गिनती चल रही है। कुछ सीटों पर उम्मीदवारों के बीच फासला बेहद कम है।

Special coverage by OpIndia on Ram Mandir in Ayodhya

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

Searched termsjharkhand election results, jharkhand election result 2019, jharkhand election, jharkhand cm, jharkhand news, jharkhand chief minister, झारखंड विधानसभा चुनाव 2019, झारखंड चुनाव 2019, झारखंड न्यूज़, झारखंड का ताजा न्यूज़, झारखंड ताजा समाचार, झारखंड में सरकार, झारखंड में किसकी सरकार, झारखंड कौन जीता, झारखंड कौन हारा, झारखंड चुनाव, झारखंड विधानसभा चुनाव, पूर्वी जमशेदपुर सीट, गौरव वल्लभ कांग्रेस, सरयू बनाम रघुवर, झारखंड का मुख्यमंत्री कौन, झारखंड बीजेपी, जेवीएम बाबूलाल मरांडी, आजसू सुदेश महतो, जेएमएम हेमंत सोरेन, झामुमो कांग्रेस गठबंधन, झारखंड में किसकी सरकार, झारखंड काउंटिंग, रघुवर दास जमशेदपुर पूर्वी, सरयू राय, गौरव वल्लभ कांग्रेस, शिबू सोरेन, दुमका जेएमएम, जामा सीता सोरेन, हेमंत सोरेन दुमका, रवीश कुमार झारखंड चुनाव, झारखंड विधानसभा चुनाव 2019, झारखंड चुनाव 2019, लुइस मरांडी दुमका
ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘कश्मीर समस्या का इजरायल जैसा समाधान’ वाले आनंद रंगनाथन का JNU में पुतला दहन प्लान: कश्मीरी हिंदू संगठन ने JNUSU को भेजा कानूनी नोटिस

जेएनयू के प्रोफेसर और राजनीतिक विश्लेषक आनंद रंगनाथन ने कश्मीर समस्या को सुलझाने के लिए 'इजरायल जैसे समाधान' की बात कही थी, जिसके बाद से वो लगातार इस्लामिक कट्टरपंथियों के निशाने पर हैं।

शादीशुदा महिला ने ‘यादव’ बता गैर-मर्द से 5 साल तक बनाए शारीरिक संबंध, फिर SC/ST एक्ट और रेप का किया केस: हाई कोर्ट ने...

इलाहाबाद हाई कोर्ट में जस्टिस राहुल चतुर्वेदी और जस्टिस नंद प्रभा शुक्ला की बेंच ने इस मामले की सुनवाई करते हुए कहा कि सबूत पेश करने की जिम्मेदारी सिर्फ आरोपित का ही नहीं है, बल्कि शिकायतकर्ता का भी है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -