Thursday, July 25, 2024
Homeराजनीतिराजस्थान में आदमी से ज्यादा अहमियत कॉन्ग्रेसी पोस्टर की: कन्हैया लाल को नहीं दी...

राजस्थान में आदमी से ज्यादा अहमियत कॉन्ग्रेसी पोस्टर की: कन्हैया लाल को नहीं दी सुरक्षा, लेकिन CM गहलोत की होर्डिंग के लिए 24 घंटे पुलिस की तैनाती

राजस्थान भाजपा के अध्यक्ष सतीश पूनिया ने कहा, "राजस्थान के इतिहास में इतना असुरक्षित मुख्यमंत्री कभी नहीं देखा होगा। ये नजारा देखकर तो बिनोद भी हैरान है, अपराध कैसे रुकेंगे, मुख्यमंत्री तो बस अपने पोस्टर के लिए परेशान हैं।"

एक राजस्थान (Rajasthan) में अपराधियों के हौसले बुलंद हैं और क्राइम अपने चरम पर पहुँच गया है तो दूसरी तरफ पुलिस मुख्यमंत्री अशोक गहलोत (CM Ashok Gehlot) की होर्डिंग की सुरक्षा में लगी हुई है। राजस्थान भारत का अकेला राज्य है, जहाँ मुख्यमंत्री की होर्डिंग की सुरक्षा के लिए पुलिस को तैनात किया गया है।

भाजपा ने राज्य सरकार की इस व्यवस्था को लेकर निशाना साधा है। पार्टी के सोशल मीडिया इंचार्ज अमित मालवीय ने कहा कि राज्य सरकार कन्हैयालाल को सुरक्षा नहीं दे सकी, लेकिन होर्डिंग की सुरक्षा में पुलिस 24 घंटे तैनात है।

जिस होर्डिंग की सुरक्षा में पुलिस को तैनात किया गया है, वह राजधानी जयपुर के राजस्थान यूनिवर्सिटी के सामने गाँधी सर्किल के चौराहे पर लगा हुआ है। इसमें प्रदेश की कॉन्ग्रेस सरकार की योजनाओं के बारे में बताया गया है और मुख्यमंत्री अशोक गहलोत की तस्वीर लगी हुई है।

दरअसल, राजस्थान में विधानसभा चुनाव होने वाले हैं। ऐसे में गहलोत सरकार शहर-शहर में होर्डिंग-पोस्टर लगवा कर सरकारी योजनाओं का प्रचार-प्रसार कर रही है। इसी के तहत गाँधी सर्किल चौराहे पर भी पोस्टर लगाया गया है।

गाँधी सर्किल VIP एरिया में स्थित है। यहाँ से गुजरने वाली हर छोटी-बड़ी गाड़ी की स्पीड को कम करना पड़ता है। ऐसे में यहाँ लगे होर्डिंग-पोस्टर पर लोगों का ध्यान सबसे अधिक जाता है। यहाँ में हर कोई पोस्टर लगाना चाहता है।

कई बार होर्डिंग पर लोग पोस्टर चिपका देते हैं। मुख्यमंत्री अशोक गहलोत की तस्वीर वाली होर्डिंग पर कोई दूसरा पोस्टर ना चिपका दिया जाए या उसे कोई फाड़ ना दे, इसके लिए पुलिस को सादी वर्दी में तैनात कर उसकी रखवाली की जा रही है।

होर्डिंग की रखवाली के लिए पुलिस की तैनाती पर भाजपा के अमित मालवीय ने कहा, “राजस्थान सरकार कन्हैया लाल को सुरक्षा नहीं दे सकी और जिसकी वजह से उनकी बेरहमी से हत्या कर दी गई। लेकिन कॉन्ग्रेस सरकार में मुख्यमंत्री अशोक गहलोत के होर्डिंग की सुरक्षा में 24 घंटे पुलिस तैनात रहती है। होर्डिंग की सुरक्षा जनता की जान से ज़्यादा ज़रूरी है?”

राजस्थान भाजपा के अध्यक्ष सतीश पूनिया ने कहा, “राजस्थान के इतिहास में इतना असुरक्षित मुख्यमंत्री कभी नहीं देखा होगा। ये नजारा देखकर तो बिनोद भी हैरान है, अपराध कैसे रुकेंगे, मुख्यमंत्री तो बस अपने पोस्टर के लिए परेशान हैं।”

वहीं, बीजेपी आईटी सेल के सह संयोजक हीरेंद्र ने होर्डिंग की सुरक्षा में तैनात पुलिस वालों पर तंज कसते हुए कहा, “साब को खतरा है कि आलाकमान कहीं रातों-रात आकर पायलट का होर्डिंग ना चस्पा करवा दे।”

Join OpIndia's official WhatsApp channel

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

देशद्रोही, पंजाब का सबसे भ्रष्ट आदमी, MeToo का केस… खालिस्तानी अमृतपाल का समर्थन करने वाले चन्नी की रवनीत बिट्टू ने उड़ाई धज्जियाँ, गिरिराज बोले...

रवनीत सिंह बिट्टू ने कहा कि एक पूर्व मुख्यमंत्री देशद्रोही की तरह व्यवहार कर रहा है, देश को गुमराह कर रहा है। गिरिराज सिंह बोले - ये देश की संप्रभुता पर हमला।

‘दरबार हॉल’ अब कहलाएगा ‘गणतंत्र मंडप’, ‘अशोक हॉल’ बना ‘अशोक मंडप’: महामहिम द्रौपदी मुर्मू का निर्णय, राष्ट्रपति भवन ने बताया क्यों बदला गया नाम

राष्ट्रपति भवन ने बताया है कि 'दरबार' का अर्थ हुआ कोर्ट, जैसे भारतीय शासकों या अंग्रेजों के दरबार। बताया गया है कि अब जब भारत गणतंत्र बन गया है तो ये शब्द अपनी प्रासंगिकता खो चुका है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -