Friday, July 30, 2021
Homeराजनीतिराजस्थान कॉन्ग्रेस का भी संकट गहराया: CM गहलोत के करीबी को राज्यसभा टिकट का...

राजस्थान कॉन्ग्रेस का भी संकट गहराया: CM गहलोत के करीबी को राज्यसभा टिकट का विरोध

राजस्थान से राज्यसभा की तीन सीटों के लिए चुनाव होना है। आँकड़ों के हिसाब से कॉन्ग्रेस के दो और भाजपा का एक उम्मीदवार चुना जाना तय माना जा रहा था। भाजपा के ओंकार सिंह लाखावत को मैदान में उतारने से मुकाबला रोचक हो गया है।

मध्यप्रदेश में ज्योतिरादित्य सिंधिया के इस्तीफा देकर बीजेपी में शामिल होने के बाद से कमलनाथ के नेतृत्व वाली कॉन्ग्रेस सरकार संकट में है। 22 विधायकों के इस्तीफे से सरकार संकट में है। कुछ इसी तरह के हालात राजस्थान में भी बनते जा रहे हैं। सिंधिया की तरह यहॉं भी उप मुख्यमंत्री सचिन पायलट अपनी उपेक्षा से आहत बताएए जाते हैं। पार्टी विधायक अपनी ही सरकार में बात नहीं सुनने का आरोप मंत्रियों पर लगा रहे हैं तो मुख्यमंत्री अशोक गहलोत पर मनमर्जी से सरकार और संगठन चलाने के आरोप लग रहे हैं।

अब राजस्थान में राज्यसभा चुनाव के उम्मीदवारी को लेकर विरोध हो गया। गहलोत के एक करीबी को टिकट मिलने पर पार्टी के कई नेताओं ने आपत्ति जताई है। कॉन्ग्रेस ने राजस्थान से राज्यसभा के लिए केसी वेणुगोपाल और नीरज डांगी को उम्मीदवार बनाया है। दोनों ने नामांकन दाखिल भी कर दिया है। नामांकन दाखिल करने के समय मुख्यमंत्री अशोक गहलोत, प्रदेश प्रभारी अविनाश पांडे, सह प्रभारी विवेक बंसल समेत कई मंत्री व कई विधायक मौजूद थे।

बताया जा रहा है कि डांगी के नाम को लेकर कॉन्ग्रेस में एक राय नहीं है। उपमुख्यमंत्री सचिन पायलट भी उनके नाम पर सहमत नहीं थे। लेकिन आखिरकार आलाकमान के हस्तक्षेप के बाद वे मान गए। डांगी तीन बार विधानसभा चुनाव लड़ चुके हैं, लेकिन वे हर बार हारे हैं। एक बार देसुरी से और दो बार रेओदर से। दलित समुदाय से आने वाले डांगी मुख्यमंत्री अशोक गहलोत के बेहद करीबी माने जाते हैं।

राजस्थान के कॉन्ग्रेस विधायक वेद प्रकाश सोलंकी का कहना है, “विधानसभा में इस बात की चर्चा है कि क्या वह अकेले अनुसूचित जाति के उम्मीदवार हैं? वह तीन चुनाव हार चुके हैं इसके बावजूद पार्टी ने उन्हें उम्मीदवार बनाया।” इसके अलावा कॉन्ग्रेस के अन्य नेताओं ने नीरज डांगी की उम्मीदवारी पर नाराजगी जाहिर करते हुए कहा कि क्या किसी ताकतवर व्यक्ति का करीबी होने से कॉन्ग्रेस में टिकट पाया जा सकता है। हम अपने कैडर को ये क्या संदेश दे रहे हैं? कॉन्ग्रेस नेताओं ने आरोप लगाया है कि डांगी का पार्टी में कोई खास योगदान भी नहीं है।

राजस्थान से राज्यसभा की तीन सीटों के लिए चुनाव होना है। आँकड़ों के हिसाब से कॉन्ग्रेस के दो और भाजपा का एक उम्मीदवार चुना जाना तय माना जा रहा था। भाजपा के ओंकार सिंह लाखावत को मैदान में उतारने से मुकाबला रोचक हो गया है। नामांकन से नाम वापसी की आखिर तारीख 18 है। अगर 18 मार्च तक लाखावत नाम वापस नहीं लेते हैं तो चुनाव होना तय है। लाखावत को चुनाव मैदान में उतारने का फैसला भाजपा की विधायक दल की बैठक में किया गया था। लाखावत पहले भी राज्यसभा सांसद रह चुके हैं।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

20 से ज्यादा पत्रकारों को खालिस्तानी संगठन से कॉल, धमकी- 15 अगस्त को हिमाचल प्रदेश के CM को नहीं फहराने देंगे तिरंगा

खालिस्तान समर्थक सिख फॉर जस्टिस ने हिमाचल प्रदेश के 20 से अधिक पत्रकारों को कॉल कर धमकी दी है कि 15 अगस्त को सीएम तिरंगा नहीं फहरा सकेंगे।

‘हमारे बच्चों की वैक्सीन विदेश क्यों भेजी’: PM मोदी के खिलाफ पोस्टर पर 25 FIR, रद्द करने से सुप्रीम कोर्ट का इनकार

सुप्रीम कोर्ट ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की आलोचना वाले पोस्टर चिपकाने को लेकर दर्ज एफआईआर को रद्द करने से इनकार कर दिया।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
112,052FollowersFollow
394,000SubscribersSubscribe