Tuesday, July 23, 2024
Homeराजनीति'राम जन्मभूमि से 4 किमी दूर बन रहा है राम मंदिर': अयोध्या पर घृणा...

‘राम जन्मभूमि से 4 किमी दूर बन रहा है राम मंदिर’: अयोध्या पर घृणा फैलाने से बाज नहीं आ रहा विपक्ष, जानिए कहाँ होंगे रामलला विराजमान

शिवसेना के उद्धव ठाकरे गुट के नेता और सांसद संजय राउत ने ऐसा दावा कर दिया, जिसके बाद लोग उनकी बुद्धि पर तरस खा रहे हैं। राउत ने दावा किया है कि रामलला का मंदिर मूल जन्मस्थान पर नहीं, बल्कि वहाँ से 4 किलोमीटर दूर बनाया जा रहा है। वहीं, VHP ने इसे राउत की मानसिक दिवालियापन बताया है।

पूरा भारत राममय है। भगवान राम के नवनिर्मित भव्य मंदिर में 22 जनवरी 2024 को रामलला की प्राण प्रतिष्ठा होनी है। सारा देश इसकी प्रतीक्षा कर रहा है, लेकिन विपक्ष के नेता घृणा फैलाने से बाज नहीं आ रहे हैं। इसी कड़ी में अब शिवसेना के उद्धव ठाकरे गुट के नेता और सांसद संजय राउत ने ऐसा दावा कर दिया, जिसके बाद लोग उनकी बुद्धि पर तरस खा रहे हैं। राउत ने दावा किया है कि रामलला का मंदिर मूल जन्मस्थान पर नहीं, बल्कि वहाँ से 4 किलोमीटर दूर बनाया जा रहा है।

मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, संजय राउत ने कहा है कि बीजेपी जिस जगह पर राम मंदिर बनवा रही है, वह मंदिर का मूल स्थान नहीं है। मंदिर वहाँ से 3-4 किलोमीटर दूर बनवाया जा रहा है। उन्होंने कहा कि भाजपा वाले कहते थे कि ‘रामलला हम आएँगे मंदिर वहीं बनाएँगे’, लेकिन मंदिर वहाँ नहीं बना है। राउत ने कहा कि मूल स्थान से दूर तो कोई भी राम मंदिर बनवा सकता था।

संजय राउत ने कहा कि वो विवादित जगह आज भी वैसे ही है। राउत के इस बयान को विपक्षी नेता हाथों-हाथ ले रहे हैं और इसको लेकर सोशल मीडिया पर घृणा फैलाने में जुट गए हैं। संजय राउत के इस बयान का वीडियो विकास बंसल नाम के एक कॉन्ग्रेसी कार्यकर्ता ने भी शेयर किया है।

संजय राउत के बयान को लेकर ऑपइंडिया से बात करते हुए विश्व हिंदू परिषद के प्रवक्ता विनोद बंसल ने कहा कि इस तरह की बातें करने वाले विधर्मी हैं। ये लोग मानसिक दिवालियेपन के शिकार हो गए हैं। उन्होंने कहा कि इस तरह आरोप लगाने वाले लोग मानसिक दिवालियेपन की पराकाष्ठा पार कर रहे हैं।

विनोद बंसल ने ऑपइंडिया से कहा, “पूज्य संतों… श्रेष्ठ लोगों… वरिष्ठ लोगों ने इस स्थान को तय किया है। अगर किसी व्यक्ति को संदेह है इस स्थान को लेकर, वो भी किसी राजनीतिक व्यक्ति को तो उन्हें संतों की शरण में जाना चाहिए।” उन्होंने संजय राउत के दावे को पूरी तरह खारिज कर दिया।

ये है संजय राउत के दावे की हकीकत

दरअसल, संजय राउत भ्रम फैलाने की कोशिश कर रहे हैं। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने 5 अगस्त 2020 को भव्य राम मंदिर की आधारशिला रखी थी। उन्होंने मंत्रोच्चार के बीच इस अनुष्ठान को पूरा किया था। ये वही जगह थी, जहाँ भगवान राम का मंदिर हमेशा से हुआ करता था। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने उसी जगह पर राम मंदिर की आधारशिला रखी थी, जहाँ पर भगवान राम दशकों से टेंट में रहते आ रहे थे।

ये वही जगह थी, जिसे कारसेवकों ने बाबरी ढाँचे को ढहाकर समतल कर दिया था और एक चबूतरा बना दिया था। इसी चबूतरे पर रामलला को रखा गया है। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने भी कहा था, “बरसों से टाट और टेंट के नीचे रह रहे ‘हमारे रामलला’’ के लिए अब एक भव्य मंदिर का निर्माण होगा।”

उन्होंने कहा था, “टूटना और फिर उठ खड़ा होना, सदियों से चल रहे इस व्यतिक्रम से राम जन्मभूमि आज मुक्त हो गई है।” राउत के सवाल के बाद अब आप भी सोच रहे होंगे कि अगर ये वही जगह है तो फिर भगवान राम कहाँ हैं, क्योंकि उस जगह पर तो निर्माण कार्य चल रहा है। तो इसका जवाब भी हम आपको दे देते हैं।

मार्च 2020 को भगवान राम को किया गया था अस्थाई मंदिर में शिफ्ट

दरअसल, भगवान राम की जन्मभूमि पर भव्य मंदिर के निर्माण कार्य के शुरू होने से पूर्व ही उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने भगवान राम को अस्थाई मंदिर में शिफ्ट कराया था। योगी आदित्यनाथ ने 25 मार्च 2020 को तड़के ही इस काम को संपन्न कराया था।

उन्होंने सोशल मीडिया साइट एक्स पर लिखा था, “भव्य राम मंदिर के निर्माण का पहला चरण आज सम्पन्न हुआ। मर्यादा पुरुषोत्तम प्रभु श्रीराम त्रिपाल से नए आसन पर विराजमान… मानस भवन के पास एक अस्थायी ढाँचे में ‘रामलला’ की मूर्ति को स्थानांतरित किया। भव्य मंदिर के निर्माण हेतु ₹11 लाख का चेक भेंट किया।”

अब तो मामला समझ में आ ही गया होगा। दरअसल, रामलला को तिरपाल से मुक्ति दिलाकर उन्हें अस्थाई मंदिर में शिफ्ट किया गया था, जो मानस भवन के नजदीक है। इस बात की सूचना भी सार्वजनिक तौर पर मौजूद है। ऐसे में संजय राउत का बयान न सिर्फ उनके मानसिक दिवालिएपन को दर्शाता है, बल्कि ये भी बताता है कि विपक्ष के नेता किस तरह से जनता में भ्रम और घृणा फैलाने का काम कर रहे हैं।

Join OpIndia's official WhatsApp channel

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘कोई भी कार्रवाई हो तो हमारे पास आइए’: हाईकोर्ट ने 6 संपत्तियों को लेकर वक्फ बोर्ड को दी राहत, सेन्ट्रल विस्टा के तहत इन्हें...

दिसंबर 2021 में सॉलिसिटर जनरल तुषार मेहता ने हाईकोर्ट को आश्वासन दिया था कि वक्फ बोर्ड की संपत्तियों को कोई नुकसान नहीं पहुँचाया जाएगा।

‘कागज़ पर नहीं, UCC को जमीन पर उतारिए’: हाईकोर्ट ने ‘तीन तलाक’ को बताया अंधविश्वास, कहा – ऐसी रूढ़िवादी प्रथाओं पर लगे लगाम

मध्य प्रदेश हाई कोर्ट ने कहा है कि समान नागरिक संहिता (UCC) को कागजों की जगह अब जमीन पर उतारने की जरूरत है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -