Sunday, August 1, 2021
Homeराजनीतिअर्बन नक्सल के सम्मान में झारखंड के CM ने उतारे जूते: स्टेन स्वामी की...

अर्बन नक्सल के सम्मान में झारखंड के CM ने उतारे जूते: स्टेन स्वामी की तुलना बिरसा मुंडा से की, कहा- युगों बाद ऐसे लोग आते हैं

"वह कोई साधारण व्यक्ति नहीं थे। अपने जीवन काल में उन्होंने एक राह दिखाई है और ऐसे लोगों द्वारा किए गए कार्यों की छाप हमेशा रहती है।"

फादर स्टेन स्वामी। एक एक्टिविस्ट पादरी। एक अर्बन नक्सल, जिसे राष्ट्रीय जाँच एजेंसी (NIA) ने भीमा-कोरेगाँव हिंसा मामले में गिरफ्तार किया था। जिनकी मौत 5 जुलाई 2021 को उस अस्पताल में हो गई जिसे न्यायिक हिरासत में रहते हुए भी दाखिल होने के लिए उन्होंने खुद चुना था। मौत के बाद से ही लिबरल गैंग ‘शहीद’ बता उन पर लगे गंभीर आरोपों पर पर्दा डालने की कोशिश में है। इस कड़ी में झारखंड के मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन एक कदम और आगे निकल गए हैं। उन्होंने फादर स्टेन स्वामी की तुलना उस बिरसा मुंडा से की है जिसे आदिवासी भगवान मानते हैं।

सीएम सोरेन ने उन्हें शहीद बताते हुए कहा कि समाज के लिए उनका ‘अमूल्य योगदान’ हमेशा याद किया जाएगा। उन्होंने यह बात फादर स्टेन स्वामी की याद में राँची के नामकुम बगीचा में आयोजित सभा में कही। इतना ही नहीं आप तस्वीरों में देख सकते हैं कि इस दौरान वहाँ मौजूद पादरी तक जूते में हैं पर सीएम नंगे पैर हैं। इससे उन पर नक्सलियों से सहानुभूति रखने वाले इस पादरी के प्रभाव का अंदाजा लगाया जा सकता है। ध्यान रहे कि स्टेन स्वामी पर लोकतांत्रिक तरीके से चुनी गई सरकार के खिलाफ वामपंथी आतंकियों के साथ मिलकर साजिश करने और देश में अशांति फैलाने का आरोप था।

रिपोर्ट के मुताबिक, सोरेन ने गुरुवार (15 जुलाई 2021) को आयोजित सभा में कहा कि झारखंड बलिदान देने में कभी पीछे नहीं रहा। स्टेन स्वामी जैसे लोगों को समाज में ‘अमूल्य योगदान’ के लिए याद किया जाएगा। युगों बाद ऐसे लोग आते हैं, जिनके किए कामों की छाप नहीं मिटती। इतना ही नहीं सीएम ने अपने ट्विटर हैंडल से कार्यक्रम की तस्वीरों को शेयर करते हुए स्टेन स्वामी के सम्मान में रवीन्द्रनाथ टैगोर की प्रसिद्ध कविता भी लिखी।

सोरेन ने सभा के दौरान यह भी कहा कि स्टेन स्वामी ने दलितों, वंचितों और आदिवासियों की लड़ाई लड़ी थी। इसलिए आने वाली पीढ़ी को उनके जीवन से ‘प्रेरणा’ लेगी। उन्होंने कहा, “फादर स्टेन स्वामी से व्यक्तिगत तौर पर मुलाकात की थी। उस दौरान यह नहीं पता था कि वह अपने जीवनकाल में एक अमिट छाप छोड़ जाएँगे… उनका जीवन आसान नहीं था। वह कोई साधारण व्यक्ति नहीं थे। अपने जीवन काल में उन्होंने एक राह दिखाई है और ऐसे लोगों द्वारा किए गए कार्यों की छाप हमेशा रहती है।” इस कार्यक्रम में राँची के आर्क बिशप थियोडोर मस्कारेनहास, सहायक बिशप टेलोस्फर बिलुंग समेत कई अन्य लोग शामिल थे।

भारतीय रोमन कैथोलिक जेसुइट पादरी रहे स्टेन स्वामी लंबे वक्त से असामाजिक गतिविधियों में लिप्त थे। वर्ष 2018 में एल्गार-परिषद मामले की जाँच के दौरान स्वामी के देश विरोधी गतिविधियों में शामिल होने की जानकारियाँ सामने आई थीं। जब उनकी गिरफ्तारी हुई थी तब भी कॉन्ग्रेस और झामुमो ने उनका बचाव किया था। हेमंत सोरेन ने उस समय कहा था, “गरीब, वंचितों और आदिवासियों की आवाज़ उठाने’ वाले 83 वर्षीय वृद्ध ‘स्टेन स्वामी’ को गिरफ्तार कर केंद्र की भाजपा सरकार क्या संदेश देना चाहती है?”

इसी तरह स्टेन स्वामी की मौत के बाद ट्वीट कर कहा था, “फादर स्टेन स्वामी के निधन के बारे में जानकर स्तब्ध हूँ। उन्होंने अपना जीवन आदिवासियों के अधिकारों के लिए काम करने में समर्पित कर दिया था। मैंने उनकी गिरफ्तारी और उन्हें कैद करने का कड़ा विरोध किया था। उन्हें समय पर इलाज नहीं करवाने और उदासीनता बरतने के लिए केंद्र सरकार को जवाबदेह होना चाहिए।”

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘ममता बनर्जी महान महिला’ – CPI(M) के दिवंगत नेता की बेटी ने लिखा लेख, ‘शर्मिंदा’ पार्टी करेगी कार्रवाई

माकपा नेताओं ने कहा ​कि ममता बनर्जी पर अजंता बिस्वास का लेख छपने के बाद से वे लोग बेहद शर्मिंदा महसूस कर रहे हैं।

‘मस्जिद के सामने जुलूस निकलेगा, बाजा भी बजेगा’: जानिए कैसे बाल गंगाधर तिलक ने मुस्लिम दंगाइयों को सिखाया था सबक

हिन्दू-मुस्लिम दंगे 19वीं शताब्दी के अंत तक महाराष्ट्र में एकदम आम हो गए थे। लोकमान्य बाल गंगाधर तिलक इससे कैसे निपटे, आइए बताते हैं।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
112,404FollowersFollow
394,000SubscribersSubscribe