Friday, September 24, 2021
Homeराजनीतिपेगासस के मुद्दे पर राज्यसभा में हंगामा पड़ा महँगा, टीएमसी के 6 सांसद निलंबित:...

पेगासस के मुद्दे पर राज्यसभा में हंगामा पड़ा महँगा, टीएमसी के 6 सांसद निलंबित: देखें उनकी हरकतें

जिन माननीयों को निलंबित किया गया है उनमें डोला सेन, मो. नदीमुल हक, अबीर रंजन बिस्वास, शांता छेत्री, अर्पिता घोष और मौसम नूर शामिल हैं। इस घटना की वीडियो क्लिप भी वायरल हो रही है, जिसमें देखा जा सकता है कि इन सांसदों ने सदन के वेल में प्रवेश किया और तख्तियाँ लहराई।

संसद का मानसून सत्र चल रहा है, जिसमें विभिन्न मुद्दों को लेकर विपक्ष लगातार गतिरोध उत्पन्न करने की कोशिश कर रहा है। इसी क्रम में बुधवार (4 अगस्त 2021) को भी टीएमसी के सांसदों ने एक बार फिर से हंगामा किया। इस मामले में इनके खिलाफ कार्रवाई करते हुए उप राष्ट्रपति एम वकैंया नायडू ने तृणमूल कॉन्ग्रेस के छह सांसदों को एक दिन के लिए निलंबित कर दिया है।

सभापति के इस फैसले के बाद हंगामा करने वाले ये सांसद अब सदन की कार्रवाई में हिस्सा नहीं ले सकेंगे। जिन माननीयों को निलंबित किया गया है उनमें डोला सेन, मो. नदीमुल हक, अबीर रंजन बिस्वास, शांता छेत्री, अर्पिता घोष और मौसम नूर शामिल हैं। इस घटना की वीडियो क्लिप भी वायरल हो रही है, जिसमें देखा जा सकता है कि इन सांसदों ने सदन के वेल में प्रवेश किया और तख्तियाँ लहराई। सभापति की अवज्ञा की और सदन में घटिया आचरण किया।

वीडियो क्लिप में टीएमसी सांसदों को हाथों में तख्तियाँ लिए कुर्सी की ओर चलते हुए देखा सकता है।

रिपोर्ट के मुताबिक, पेगासस के मुद्दे पर मीडिया रिपोर्ट को लेकर विपक्षी सांसदों की नारेबाजी के बीच राज्यसभा को दोपहर 2 बजे तक के लिए स्थगित कर दी गई थी और जब दोबारा से सदन की कार्यवाही शुरू हुई तो 18 विपक्षी सांसदों ने पेगासस के मामले पर चर्चा की माँग की।

संसद को मछली बाजार मत बनाओ

विपक्ष के हंगामें पर केंद्रीय मंत्री मुख्तार अब्बास नकवी ने टीएमसी सांसद डेरेक ओ ब्रायन पर निशाना साधा औऱ कहा कि अगर ‘चाट पपड़ी’ से एलर्जी है तो फिश करी खा लें, लेकिन सदन को मछली बाजार न बनाएँ। उन्होंने विपक्ष पर संसद की इमेज को धूमिल करने का आरोप लगाया है।

शांतनु सेन हो चुके हैं निलंबित

तृणमूल कॉन्ग्रेस (टीएमसी) के सांसद शांतनु सेन ने भी गुरुवार (22 जुलाई 2021) को इलेक्ट्रॉनिक्स और सूचना प्रौद्योगिकी मंत्री अश्विनी वैष्णव के हाथ से स्टेटमेंट पेपर छीना था और फाड़ कर फेंक दिया था। इसके बाद अनुशासनहीनता के कारण उन्हें मानसून सत्र से निलंबित कर दिया गया था।

 

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

ISI एजेंट कभी बन जाती है पूजा तो कभी नेहा, माथे पर बिंदी और हिंदू नाम: पाकिस्तानी लड़कियों के निशाने पर भारतीय जवान, रिपोर्ट...

पूजा राजपूत नाम की आईएसआई एजेंट ने खुद को भारतीय मिलिट्री नर्सिंग सर्विस में काम करने वाली कहा था। उसका मकसद विश्वास जीतकर सेना संबंधी जानकारी जुटाने का था।

अंग्रेजों के खिलाफ क्रांति की अमर मिसाल प्रीतिलता वड्डेदार: महज 21 साल की उम्र में देश के लिए दिया सर्वोच्च बलिदान

मातृभूमि की रक्षा के लिए अपने प्राणों को न्योछावर करने वाले कई वीर स्वतंत्रता सेनानी गुमनामी में चले गए। इनमें से एक बंगाल की पहली महिला बलिदानी प्रीतिलता वड्डेदार भी हैं।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
124,065FollowersFollow
410,000SubscribersSubscribe