Wednesday, June 26, 2024
Homeराजनीतिजिसने सोनिया गाँधी को सिखाई हिंदी उनके बेटे BJP में, कहा- मोदी के काम...

जिसने सोनिया गाँधी को सिखाई हिंदी उनके बेटे BJP में, कहा- मोदी के काम को देखकर लिया फैसला

आर्टिकल 370 से लेकर कई मसलों पर बीते कुछ महीनों में जर्नादन द्विवेदी ने कॉन्ग्रेस से इतर स्टैंड लिया था। हाल में भागवत के साथ मंच साझा करने वाले द्विवेदी ने लोकसभा चुनावों के बाद कहा था कि कॉन्ग्रेस भीतरी कारणों से हारी है।

कॉन्ग्रेस के दिग्गज नेता जनार्दन द्विवेदी के बेटे समीर द्विवेदी भाजपा में शामिल हो गए हैं। समीर ने मंगलवार (फरवरी 4, 2020) को बीजेपी की सदस्यता ली। उन्होंने भाजपा में शामिल होने के साथ कहा, “‘मैं पहली बार किसी राजनीतिक दल का हिस्सा बन रहा हूँ। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के काम को देखकर मैंने भाजपा में जाने का फैसला किया है।’

करीब डेढ़ दशक तक कॉन्ग्रेस के संगठन महासचिव रहे जनार्दन द्विवेदी की गिनती सोनिया गाँधी के करीबियों में होती रही है। कहा जाता है की राजनीति में प्रवेश के बाद उन्होंने ही सोनिया गाँधी को हिंदी सिखाई थी। शुरुआत में वही उनकी स्पीच लिखते थे। ऐसे में उनके बेटे का भाजपा में शामिल होना कॉन्ग्रेस के लिए बड़ा झटका माना जा रहा है

हालाँकि जर्नादन द्विवेदी ने बेटे के इस फैसले पर अनभिज्ञता जाहिर की है। उन्होंने कहा,“मुझे इस बारे में कोई जानकारी नहीं है। अगर समीर ने भाजपा ज्वाइन की है तो ये उनका खुद का फैसला है।”

गौरतलब है कि मार्च 2018 में द्विवेदी ने कॉन्ग्रेस महासचिव का पद छोड़ा था। इसके बाद से उनकी राजनीतिक सक्रियता कम हो गई है। लेकिन, अपने बयानों को कारण वो समय-समय पर सुर्खियों में रहते हैं। कश्मीर से आर्टिकल 370 हटाए जाने के बाद उन्होंने पार्टी के स्टैंड से इतर राय प्रकट की थी। द्विवेदी ने कहा था कि उनके राजनीतिक गुरु राम मनोहर लोहिया भी 370 के खिलाफ थे। पिछले दिनों वे एक कार्यक्रम में आरएसएस प्रमुख मोहन भागवत के साथ मंच साझा करने के कारण चर्चा में थे।

https://platform.twitter.com/widgets.js

आम चुनावों में कॉन्ग्रेस की शिकस्त के बाद उन्होंने कहा था कि पार्टी भीतरी कारणों से हारी है। पार्टी नेतृत्व पर सवाल उठाते हुए कहा कि जिस संगठन में उन्होंने पूरा जीवन लगाया, उसकी स्थिति देख कर पीड़ा होती है। उन्होंने कहा कि हार के कारण पार्टी के भीतर हैं, न कि बाहर। पार्टी में कई ऐसी बातें हुईं, जिससे वो सहमत नहीं थे और उन्होंने इससे पार्टी नेतृत्व को अवगत कराया था। राजनीति से स्वैच्छिक रिटायरमेंट लेने से पहले द्विवेदी पॉंच कॉन्ग्रेस अध्यक्षों इंदिरा गॉंधी, राजीव गॉंधी, नरसिम्हा राव, सीताराम केसरी और सोनिया गॉंधी के साथ काम किया था।

Article 370 पर टूट रही कॉन्ग्रेस! 2 धुरंधर युवा नेता के साथ जनार्दन द्विवेदी भी मोदी सरकार के पक्ष में

Article 370: कॉन्ग्रेस में आंतरिक टकराव, अब ज्योतिरादित्य सिंधिया ने भी किया समर्थन

खुद की करनी से हारी पार्टी, 10% आरक्षण पर नहीं सुनी थी मेरी बात: कॉन्ग्रेस के पूर्व महासचिव

Special coverage by OpIndia on Ram Mandir in Ayodhya

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘बड़ी संख्या में OBC ने दलितों से किया भेदभाव’: जिस वकील के दिमाग की उपज है राहुल गाँधी वाला ‘छोटा संविधान’, वो SC-ST आरक्षण...

अधिवक्ता गोपाल शंकरनारायणन SC-ST आरक्षण में क्रीमीलेयर लाने के पक्ष में हैं, क्योंकि उनका मानना है कि इस वर्ग का छोटा का अभिजात्य समूह जो वास्तव में पिछड़े व वंचित हैं उन तक लाभ नहीं पहुँचने दे रहा है।

क्या है भारत और बांग्लादेश के बीच का तीस्ता समझौता, क्यों अनदेखी का आरोप लगा रहीं ममता बनर्जी: जानिए केंद्र ने पश्चिम बंगाल की...

इससे पहले यूपीए सरकार के दौरान भारत और बांग्लादेश के बीच तीस्ता के पानी को लेकर लगभग सहमति बन गई थी। इसके अंतर्गत बांग्लादेश को तीस्ता का 37.5% पानी और भारत को 42.5% पानी दिसम्बर से मार्च के बीच मिलना था।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -