Monday, July 26, 2021
Homeदेश-समाज'6 दिसंबर को काला दिवस मनाएगी शिवसेना': BJP को हराने के लिए ओवैसी की...

‘6 दिसंबर को काला दिवस मनाएगी शिवसेना’: BJP को हराने के लिए ओवैसी की AIMIM से गठबंधन, फिर भी अमरावती में नहीं मिली जीत

शिवसेना ने जिस तरह हिंदुत्व की विचारधारा त्याग कर कट्टरपंथी कही जाने वाली पार्टी के साथ गठबंधन किया, उससे उसकी आलोचना हो रही है। पत्रकार अमन चोपड़ा ने पूछा, "अब शिवसेना 6 दिसंबर को विवादित ढाँचा विध्वंस पर शौर्य दिवस मनाएगी या AIMIM के साथ काला दिवस?"

भारतीय जनता पार्टी (BJP) की एक खासियत ये भी है कि इसे हराने के लिए ऐसे दल साथ आ जाते हैं, जिनकी विचारधारा दो अलग-अलग ध्रुवों पर खड़ी होती है और जो एक-दूसरे के कट्टर प्रतिद्वंद्वी होते हैं। उत्तर प्रदेश में मायावती और अखिलेश यादव और बिहार में लालू यादव और नीतीश कुमार इसके उदाहरण हैं। अब महाराष्ट्र के अमरावती में शिवसेना ने भाजपा को हराने के लिए असदुद्दीन ओवैसी की पार्टी AIMIM के साथ गठबंधन किया, फिर भी हार गई।

कॉन्ग्रेस केरल में CPI(M) को उखाड़ फेंकने की लड़ाई लड़ती हैं और पश्चिम बंगाल में उसके साथ गठबंधन बनाती है। तेजस्वी यादव बिहार में कॉन्ग्रेस के साथ चुनाव लड़ते हैं और पश्चिम बंगाल में ममता बनर्जी की TMC को समर्थन देते हैं। इसी तरह, अमरावती म्युनिसिपल कॉर्पोरेशन की स्टैंडिंग कमिटी अध्यक्ष पद के लिए शिवसेना ने AIMIM को अपने साथ लिया, लेकिन चेयरमैन का पद भाजपा की झोली में आ गया

भाजपा के शिरीष रासने ने स्थायी समिति के सभापति पद पर जीत दर्ज की। विधायक रवि राणा के युवा स्वाभिमान पक्ष के एक सदस्य ने भाजपा के रासने का समर्थन किया। इसने रासने की जीत का मार्ग प्रशस्त किया। कॉन्ग्रेस, शिवसेना, AIMIM और बसपा ने मिलकर भाजपा को सत्ता से बाहर रखने की कोशिश की थी। लेकिन, बसपा के नेता चेतन पवार चुनाव में अनुपस्थित थे। इससे विरोधियों की संख्या कम हो गई।

AIMIM ने अफजल हुसैन मुबारक हुसैन को अध्यक्ष पद का उम्मीदवार बनाया था। चुनाव में, शिरीष रासने को 9 वोट मिले, जबकि AIMIM के अफज़ल हुसैन मुबारक हुसैन को 6 वोट। लेकिन, शिवसेना ने जिस तरह हिंदुत्व की विचारधारा त्याग कर कट्टरपंथी कही जाने वाली पार्टी के साथ गठबंधन किया, उससे उसकी आलोचना हो रही है। पत्रकार अमन चोपड़ा ने पूछा, “अब शिवसेना 6 दिसंबर को विवादित ढाँचा विध्वंस पर शौर्य दिवस मनाएगी या AIMIM के साथ काला दिवस?”

महाराष्ट्र भाजपा के ‘उत्तर भारतीय मोर्चा’ के अध्यक्ष संजय पांडेय ने कहा, “उद्धव ठाकरे ने सत्ता की लालच में हिन्दूद्वेषी AIMIM के साथ अमरावती मे समझौता किया। इसी पार्टी के नेता अकबरुद्दीन ओवैसी ने कहा था के 15 मिनट के लिए देश से पुलिस हटा दो फिर हिन्दुओं का जो हाल होगा वो पूरा देश देखेगा। हिन्दू हृदय सम्राट बालासाहेब ठाकरे के विचारों को तिलांजलि देकर शिवसेना अब सत्तामोही शवसेना बन गई है।”

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

यूपी के बेस्ट सीएम उम्मीदवार हैं योगी आदित्यनाथ, प्रियंका गाँधी सबसे फिसड्डी, 62% ने कहा ब्राह्मण भाजपा के साथ: सर्वे

इस सर्वे में उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ को सर्वश्रेष्ठ मुख्यमंत्री बताया गया है, जबकि कॉन्ग्रेस की उत्तर प्रदेश प्रभारी प्रियंका गाँधी सबसे निचले पायदान पर रहीं।

असम को पसंद आया विकास का रास्ता, आंदोलन, आतंकवाद और हथियार को छोड़ आगे बढ़ा राज्य: गृहमंत्री अमित शाह

असम में दूसरी बार भाजपा की सरकार बनने का मतलब है कि असम ने आंदोलन, आतंकवाद और हथियार तीनों को हमेशा के लिए छोड़कर विकास के रास्ते पर जाना तय किया है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
111,226FollowersFollow
393,000SubscribersSubscribe