Wednesday, September 28, 2022
Homeराजनीति'कॉन्ग्रेस विधायकों के इस्तीफे में PM मोदी और अमित शाह सीधे तौर पर शामिल'

‘कॉन्ग्रेस विधायकों के इस्तीफे में PM मोदी और अमित शाह सीधे तौर पर शामिल’

"इसमें अमित शाह और प्रधानमंत्री सीधे तौर पर शामिल हैं। वो ताकत और पैसे का प्रलोभन दे रहे हैं। वो इस सरकार को गिराना चाहते हैं, लेकिन वो इसमें सफल नहीं होंगे। दोनों विधायक भाजपा में शामिल नहीं होंगे।"

कर्नाटक में कॉन्ग्रेस को लगे झटके के बाद सियासी घमासान तेज होता जा रहा है और बयानबाजी का दौर चरम पर है। इस बीच वरिष्ठ कॉन्ग्रेस नेता और कर्नाटक के पूर्व मुख्यमंत्री सिद्धारमैया ने कॉन्ग्रेस विधायक आनंद सिंह और रमेश जरकीहोली के विधानसभा से इस्तीफा देने के पीछे प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और गृह मंत्री अमित शाह का हाथ बताया है।

सिद्धारमैया ने मीडिया से बात करते हुए कहा, “इसमें अमित शाह और प्रधानमंत्री सीधे तौर पर शामिल हैं। वो ताकत और पैसे का प्रलोभन दे रहे हैं। वो इस सरकार को गिराना चाहते हैं, लेकिन वो इसमें सफल नहीं होंगे। कर्नाटक सरकार को कोई खतरा नहीं है। दोनों विधायक भाजपा में शामिल नहीं होंगे।”

मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार, सोमवार (जुलाई 1, 2019) को कर्नाटक में कॉन्ग्रेस के दो विधायकों ने इस्तीफा दे दिया। इसके बाद से राज्य में सियासी हलचल तेज हो गई। पहले बेल्लारी जिले के विजयनगर से कॉन्ग्रेस सांसद आनंद सिंह ने विधानसभा सदस्यता से इस्तीफा दिया था। इसके बाद एक और कॉग्रेस विधायक रमेश जरकिहोली ने भी विधानसभा से इस्तीफा दे दिया। उन्होंने विधानसभा अध्यक्ष केआर रमेश कुमार को अपना त्यागपत्र सौंपा। उनके इस्तीफे ने एक बार फिर उन अटकलों को बल देने का काम किया कि पार्टी के अंदर बगावत शुरू हो गई है।

दोनों विधायकों के इस्तीफा देने के बाद कॉन्ग्रेस विधायक दल के नेता सिद्धारमैया ने बंगलुरु में अपने आवास पर बैठक बुलाई। वहीं, कर्नाटक बीजेपी के नेता व राज्‍य के पूर्व मुख्‍यमंत्री बीएस येदियुरप्‍पा ने मंगलवार (जुलाई 2, 2019) को कॉन्ग्रेस के दोनों विधायकों के इस्तीफे पर बात करते हुए कहा कि भाजपा का इस इस्तीफे से कोई लेना देना नहीं है । उन्होंने कहा, “मैं पहले भी कहा चुका हूँ कि 20 से अधिक विधायक गठबंधन सरकार से असंतुष्ट हैं।”

इसके साथ ही उन्होंने कहा कि भाजपा एचडी कुमारस्वामी की अगुवाई वाली गठबंधन सरकार को कमजोर करने अथवा गिराने का कोई प्रयास नहीं करेगी, लेकिन यदि सरकार स्वयं गिरती है तो इसमें वो कोई मदद नहीं कर सकते।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘सारे मुस्लिम युवकों को जेल में डाल दिया जाएगा, UAPA है काला कानून’: PFI बैन पर भड़के ओवैसी, लालू यादव और कॉन्ग्रेस MP

असदुद्दीन ओवैसी के लिए UAPA 'काला कानून' है। लालू यादव ने RSS को 'PFI सभी बदतर' कह दिया। कॉन्ग्रेसी कोडिकुन्नील सुरेश ने RSS को बैन करने की माँग की।

2047 तक भारत को बनाना था इस्लामी राज्य, गृहयुद्ध के प्लान पर चल रहा था काम: राजस्थान में जातीय संघर्ष भड़का PFI का सरगना...

PFI 'मिशन 2047' की तैयारी में था, अर्थात स्वतंत्रता के 100 वर्ष पूरे होने तक भारत को एक इस्लामी मुल्क में तब्दील कर देना, जहाँ शरिया चले।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
224,793FollowersFollow
416,000SubscribersSubscribe