Tuesday, January 18, 2022
Homeराजनीतिअमेठी: जब चुनाव प्रचार छोड़ ग्रामीणों के साथ फसल में लगी आग बुझाने पहुँची...

अमेठी: जब चुनाव प्रचार छोड़ ग्रामीणों के साथ फसल में लगी आग बुझाने पहुँची स्मृति ईरानी

सूचना देने के बावजूद एसडीएम मौके पर नहीं पहुँचे तो स्मृति ईरानी ने डीएम को फोन लगाया। एसडीएम के वीआईपी ड्यूटी में होने की सूचना मिलने पर नाराज़ स्मृति ने कहा कि वीआईपी जनता की मदद के लिए होते हैं और जनहित सर्वोपरि होनी चाहिए।

अमेठी में केंद्रीय मंत्री स्मृति ईरानी ने अपना पूरा ध्यान केंद्रित किया हुआ है। 2014 में राहुल गाँधी से मिली हार के बावजूद स्मृति ईरानी क्षेत्र में सक्रिय रहीं और कई विकास कार्यों को पूरा कराने में महत्वपूर्ण योगदान दिया। ऐसे कई मौक़े आए जब स्मृति ईरानी ने अपने सहज व्यवहार से क्षेत्रवासियों का दिल जीत लिया। भाजपा और पार्टी से जुड़े लोगों का कहना है कि यह स्मृति का प्रभाव ही था कि राहुल गाँधी 2 सीटों से चुनाव लड़ने को मज़बूर हो गए। राहुल गाँधी केरल की वायनाड सीट से भी चुनाव लड़ रहे हैं, जिसे कॉन्ग्रेस के लिए सुरक्षित सीट माना जा रहा है। कई कॉन्ग्रेस नेताओं का बयान भी आया है कि वहाँ अल्पसंख्यकों की अच्छी-ख़ासी संख्या होने के कारण राहुल जीतने में सफ़ल रहेंगे। राहुल गाँधी के नामांकन रैली में भी हरे झंडे देखे गए। कॉन्ग्रेस से इस सीट को जीतने के लिए मुस्लिम लीग से गठबंधन किया है।

इधर स्मृति ईरानी जब अमेठी में चुनाव प्रचार कर रही थीं तो उन्हें कुछ गाँवों में आग लगने की सूचना मिली। मुंशीगंज के पश्चिम दुआरा गाँव स्थित खेतों में आज रविवार (अप्रैल 28, 2019) को आग लग गई। इस आग से सैंकड़ों बीघा गेहूँ की फसल को जबरदस्त नुकसान पहुँचा। इसकी सूचना मिलते ही स्मृति ईरानी तुरंत गाँव में पहुँची और ग्रामीणों के साथ आग बुझाने में मदद की। सूचना देने के बावजूद एसडीएम मौके पर नहीं पहुँचे तो स्मृति ईरानी ने डीएम को फोन लगाया। एसडीएम के वीआईपी ड्यूटी में होने की सूचना मिलने पर नाराज़ स्मृति ने कहा कि वीआईपी जनता की मदद के लिए होते हैं और जनहित सर्वोपरि होनी चाहिए।

स्मृति के गाँव में पहुँचने के बाद प्रशासनिक महकमों में हड़कंप मच गया और फायर ब्रिगेड की टीम भी थोड़ी देर बाद मौके पर पहुँची। स्मृति ईरानी ने स्वयं हैंडपंप चलाकर आग बुझाने के लिए बाल्टियों में पानी भरा और रो रही महिलाओं को पानी भी पिलाया। भाजपा कार्यकर्ताओं ने भी उनका पूरा साथ दिया और आग बुझाने में मदद की। गाँव की महिलाएँ दुःख की इस घड़ी में स्मृति ईरानी को अपने बीच पाकर भावुक हो गईं और उनसे लिपटकर रोने लगी। स्मृति ईरानी ने महिलाओं को सांत्वना दी और उनकी समस्या को सरकार तक पहुँचाने की बात कही।

अमेठी में इस बार भी राहुल गाँधी और स्मृति ईरानी आमने-सामने हैं। गाँधी परिवार की परंपरागत सीट रही अमेठी को बचाने के लिए कॉन्ग्रेस ने एड़ी-चोटी का ज़ोर लगाया हुआ है। स्मृति ईरानी ने आग से पीड़ित परिवारों से मुलाक़ात की और अमेठी की बदतर स्थिति के लिए वहाँ के सांसद राहुल गाँधी पर निशाना साधा।

 

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

हूती आतंकी हमले में 2 भारतीयों की मौत का बदला: कमांडर सहित मारे गए कई, सऊदी अरब ने किया हवाई हमला

सऊदी अरब और उनके गठबंधन की सेना ने यमन पर हमला कर दिया है। हवाई हमले में यमन के हूती विद्रोहियों का कमांडर अब्दुल्ला कासिम अल जुनैद मारा गया।

‘भारत में 60000 स्टार्ट-अप्स, 50 लाख सॉफ्टवेयर डेवेलपर्स’: ‘वर्ल्ड इकोनॉमिक फोरम’ में PM मोदी ने की ‘Pro Planet People’ की वकालत

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने सोमवार (17 जनवरी, 2022) को 'World Economic Forum (WEF)' के 'दावोस एजेंडा' शिखर सम्मेलन को सम्बोधित किया।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
151,917FollowersFollow
413,000SubscribersSubscribe