Friday, May 31, 2024
Homeराजनीति‘जय श्री राम’ बोलने पर पश्चिम बंगाल के स्कूल में घुसकर छात्रों की लाठी-डंडों...

‘जय श्री राम’ बोलने पर पश्चिम बंगाल के स्कूल में घुसकर छात्रों की लाठी-डंडों से पिटाई

पुलिस के पहुँचने पर भी मामला शांत नहीं हुआ क्योंकि उनकी मौजूदगी में भी गुंडों ने स्कूल के अंदर हंगामा मचाना नहीं छोड़ा। स्थिति पर क़ाबू पाने के लिए पुलिस को...

पश्चिम बंगाल में ‘जय श्री राम’ का नारा किसी अपराध से कम नहीं है। फिर चाहे ‘जय श्री राम’ का ये नारा कोई बड़ा-बुज़ुर्ग लगाए या स्कूल के छात्र। इस अपराध की सज़ा हर किसी को भुगतनी पड़ती है। ताज़ा मामला कोलकाता के दक्षिण 24 परगना ज़िले के विष्णुपुर थानांतर्गत बाखराहट उच्च विद्यालय का है। यहाँ पर छात्रों द्वारा ‘जय श्री राम’ बोले जाने पर स्थानीय गुंडों ने उनकी जमकर पिटाई कर दी। 

दैंनिक जागरण के ई-पेपर में छपी ख़बर का स्क्रीनशॉट

इस घटना की सूचना जब पुलिस को मिली तो वो मौक़े पर पहुँची। वहाँ हालात इतने बेक़ाबू थे कि स्कूल में घुसे गुंडे तत्व के लोगों को खदेड़ने के लिए पुलिस को लाठीचार्ज तक करना पड़ गया। वहीं, दूसरी तरफ़ घटना के प्रतिवाद में छात्रों और उनके अभिभावकों ने सड़क अवरोध कर विरोध-प्रदर्शन किया। पुलिस ने मामला दर्ज कर लिया है और जाँच में जुट गई है।

ख़बर के अनुसार, बुधवार की सुबह बाखराहाट उच्च विद्यालय में कुछ छात्र ‘जय श्री राम’ का नारा लगा रहे थे। थोड़ी देर बाद वहाँ कुछ गुंडे पहुँचे और उन्होंने लाठी-डंडों के साथ स्कूल में धावा बोल दिया। स्कूल में ज़बरदस्ती घुसकर ‘जय श्री राम’ बोलने वाले छात्रों की लाठी-डंडों से पिटाई शुरू कर दी। अचानक हुए इस हमले से स्कूल में अफ़रा-तफ़री का माहौल बन गया और चारों तरफ़ चीखों की आवाज़ आने लगीं। सूचना पाकर विष्णुपुर थाने की पुलिस मौक़े पर पहुँची।

पुलिस के वहाँ पहुँचने पर भी मामला शांत नहीं हुआ क्योंकि उनकी मौजूदगी में भी ये लोग स्कूल के अंदर हंगामा मचाते रहे। स्थिति पर क़ाबू पाने के लिए पुलिस को लाठीचार्च करना पड़ा, उसके बाद ही इन गुंडों को स्कूल के बाहर निकाला जा सका। इसके बाद घटना के विरोध में अभिभावकों ने विरोध-प्रदर्शन किया। उन्होंने हमलावरों की गिरफ़्तारी की माँग उठाई। पुलिस ने उन्हें उचित कार्रवाई करने का आश्वासन दिया, जब जाकर अवरोध समाप्त हुआ।

Special coverage by OpIndia on Ram Mandir in Ayodhya

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

200+ रैली और रोडशो, 80 इंटरव्यू… 74 की उम्र में भी देश भर में अंत तक पिच पर टिके रहे PM नरेंद्र मोदी, आधे...

चुनाव प्रचार अभियान की अगुवाई की प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने। पूरे चुनाव में वो देश भर की यात्रा करते रहे, जनसभाओं को संबोधित करते रहे।

जहाँ माता कन्याकुमारी के ‘श्रीपाद’, 3 सागरों का होता है मिलन… वहाँ भारत माता के 2 ‘नरेंद्र’ का राष्ट्रीय चिंतन, विकसित भारत की हुंकार

स्वामी विवेकानंद का संन्यासी जीवन से पूर्व का नाम भी नरेंद्र था और भारत के प्रधानमंत्री भी नरेंद्र हैं। जगह भी वही है, शिला भी वही है और चिंतन का विषय भी।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -