Tuesday, July 27, 2021
Homeविविध विषयमनोरंजनकिसान आंदोलन के कारण Y सुरक्षा मिलने की खबरों को सनी देओल ने किया...

किसान आंदोलन के कारण Y सुरक्षा मिलने की खबरों को सनी देओल ने किया खारिज, कहा- जुलाई से ही मिली हुई है

"कल से, कुछ गलत मीडिया रिपोर्ट्स है कि मुझे हाल ही में Y सुरक्षा मिली है। मुझे जुलाई 2020 से यह सुरक्षा प्रदान की गई है। इस सुरक्षा प्रावधान को चालू किसानों के आंदोलन से जोड़ने का प्रयास किया गया है जो गलत है।"

बॉलीवुड अभिनेता और गुरदासपुर से भाजपा सांसद सनी देओल ने मीडिया की उन खबरों को खारिज किया है जिनमें किसान आंदोलन के कारण उन्हें वाई श्रेणी की सुरक्षा प्रदान करने का दावा किया गया था। उन्होंने ट्वीट कर कहा है कि उन्हें यह सुरक्षा जुलाई से ही प्राप्त है।

उन्होंने अपने ट्वीट में बताया, “कल से, कुछ गलत मीडिया रिपोर्ट्स है कि मुझे हाल ही में Y सुरक्षा मिली है। मुझे जुलाई 2020 से यह सुरक्षा प्रदान की गई है। इस सुरक्षा प्रावधान को चालू किसानों के आंदोलन से जोड़ने का प्रयास किया गया है जो गलत है।”

उन्होंने आगे लिखा, “मैं अपने मीडिया सहयोगियों से अनुरोध करता हूँ कि किसी भी खबर को प्रकाशित करने से पहले तथ्यों को सत्यापित करें।”

बता दें कि कल से मीडिया में दावा किया जा रहा था कि किसान आंदोलन पर टिप्पणी करने के कारण केंद्र सरकार ने सनी देओल को बुधवार (दिसंबर 16, 2020) को वाई श्रेणी सेक्योरिटी प्रदान की है। इनमें कहा गया कि किसान आंदोलन पर उनकी टिप्पणी के बाद सरकार ने यह फैसला लिया है। इस आदेश के बाद अब सनी देओल के साथ दो कमांडो समेत 11 सरक्षाकर्मी रहेंगे और साथ में 2 PSO भी तैनात होंगे।

मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, आईबी की रिपोर्ट और सनी देओल को लेकर थ्रेट परसेप्शन के आधार पर उन्हें गृह मंत्रालय की ओर से यह सुरक्षा दी गई है। उन्हें ये सुरक्षा उस समय मिली है, जब पंजाब में कृषि कानूनों का भारी विरोध हो रहा है और किसान संगठनों ने बीजेपी नेताओं के घेराव की बात कही है।

क्या कहा था सनी देओल ने?

पिछले दिनों 6 दिसंबर को नए कृषि कानूनों पर सनी देओल ने अपनी राय रखी थी। उन्होंने कानूनों का समर्थन करते हुए कहा था कि ये किसान और उनकी सरकार का मुद्दा है। किसान और सरकार आपस में बातचीत करके कोई न कोई मुद्दा जरूर निकाल लेंगे।

उन्होंने कहा था कि जो लोग इसका फायदा उठाने की कोशिश कर रहे हैं, समस्याएँ पैदा कर रहे हैं। वह किसानों के हित में नहीं सोच रहे। उनका बस अपना एजेंडा है। सनी देओल ने कहा था कि उनकी सरकार और भाजपा किसानों के साथ है। इस पूरी समस्या का हल बातचीत से निकल जाएगा।

कोरोना संक्रमित सनी देओल की चुप्पी पर उठे थे सवाल

सनी देओल की टिप्पणी आने से पहले लोग लगातार उनकी चुप्पी पर सवाल उठा रहे थे। लेकिन 6 दिसंबर को जब उन्होंने अपना बयान जारी किया तो उसके बाद से तरह तरह की बातें होनी शुरू हो गईं। जिसके कारण उनके पठानकोट स्थित आवास के बाहर सुरक्षा बढ़ानी पड़ी।

याद दिला दें कि बीते दिनों सनी देओल के पिता और बॉलीवुड सुपरस्टार धर्मेंद्र ने भी ट्वीट कर किसानों के मसले पर चिंता जताई थी। लेकिन धर्मेंद्र ने ट्वीट में लिखा था कि ठंड के इस मौसम में किसान दिल्ली की सड़कों पर बैठे हैं। सरकार इसका जल्दी समाधान करे।

मनाली से पंजाब जाने की बजाए सनी आएँगे सीधे मुंबई

सनी देओल इन दिनों मनाली में हैं। उन्होंने 2 दिसंबर को जानकारी दी थी कि वो कोरोना संक्रमित हैं। उन्होंने ट्वीट में लिखा था,“मैंने कोरोना टेस्ट करवाया और रिपोर्ट पॉजिटिव आई है। मैं एकांतवास में हूँ और मेरी तबीयत ठीक है। मेरा अनुरोध है कि आप में से जो भी लोग गत कुछ दिनों में मेरे संपर्क में आए हैं, कृपया स्वयं को आइसोलेट कर अपनी जाँच करवाएँ।”

भाजपा के प्रदेश कार्यकारिणी सदस्य विपिन महाजन ने बताया है कि कोरोना संक्रमित होने के बाद सनी देओल अभी मनाली में ही हैंं। तीन दिन बाद उनका क्वारंटाइन पीरियड खत्म होगा, जिसके बाद वह सीधा मुंबई जाएँगे। अभी वे पंजाब नहीं आएँगे। 

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘राजीव गाँधी थे PM, उत्तर-पूर्व में गिरी थी 41 लाशें’: मोदी सरकार पर तंज कसने के फेर में ‘इतिहासकार’ इरफ़ान हबीब भूले 1985

इतिहासकार व 'बुद्धिजीवी' इरफ़ान हबीब ने असम-मिजोरम विवाद के सहारे मोदी सरकार पर तंज कसा, जिसके बाद लोगों ने उन्हें सही इतिहास की याद दिलाई।

औरतों का चीरहरण, तोड़फोड़, किडनैपिंग, हत्या: बंगाल हिंसा पर NHRC की रिपोर्ट से निकली एक और भयावह कहानी

राष्ट्रीय मानवाधिकार आयोग (NHRC) ने 14 जुलाई को बंगाल में चुनाव के बाद हुई हिंसा पर अपनी अंतिम रिपोर्ट कलकत्ता हाईकोर्ट को सौंपी थी।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
111,464FollowersFollow
393,000SubscribersSubscribe