Thursday, June 13, 2024
Homeराजनीतिभारत एक देश नहीं, राम को भगवान मानना बेवकूफी: DMK नेता ए राजा ने...

भारत एक देश नहीं, राम को भगवान मानना बेवकूफी: DMK नेता ए राजा ने एक बार फिर उगला जहर, हिंदू विरोध में पार की सीमा

ए राजा ने गुजरात दंगों पर बीबीसी की डॉक्यूमेंट्री पर प्रतिबंध लगाने के लिए पीएम मोदी पर निशाना साधा। गोधरा में मुस्लिम भीड़ द्वारा अयोध्या से लौट रहे हिंदू तीर्थयात्रियों से भरी ट्रेन को जलाने के बाद गुजरात में हुए दंगों के लिए उन्होंने पीएम मोदी पर निशाना साधा। उन्होंने कहा कि नरेंद्र मोदी के गुजरात में सीएम रहने के दौरान मुस्लिमों को जानवरों की तरह काटा गया।

तमिलनाडु के मुख्यमंत्री एमके स्टालिन के जन्मदिन रविवार (3 मार्च 2024) पर जश्न मनाने के लिए एक कार्यक्रम का आयोजन किया गया था। इस आयोजन में ए राजा के नाम से पहचाने जाने वाले डीएमके नेता अंदिमुथु राजा ने हिंदू विरोधी और बेहद आपत्तिजनक बातें कहीं। ए राजा ने ‘जय श्रीराम’ का नारा लगाने के लिए हिंदुओं को ‘बेवकूफ’ कहा। इतना ही नहीं, उन्होंने दावा किया कि भारत एक देश नहीं है। उन्होंने पीएम मोदी पर भी निशाना साधा।

भाजपा के आईटी सेल प्रमुख अमित मालवीय ने ए राजा के अपमानजनक बयानों को लेकर उन पर निशाना साधा। मालवीय ने कहा, “द्रमुक गुट से नफरत भरे भाषण लगातार जारी हैं। उदयनिधि स्टालिन के सनातन धर्म को नष्ट करने के आह्वान के बाद अब ए राजा भगवान राम का उपहास और एक राष्ट्र के रूप में भारत के विचार पर सवाल उठाते हैं। कॉन्ग्रेस और INDI गठबंधन के अन्य साथी और राहुल गाँधी भी चुप हैं।”

The The Commune Magazine (द कम्यून मैगजीन) की रिपोर्ट में तमिलनाडु के मुख्यमंत्री एमके स्टालिन के 71वें जन्मदिन के उपलक्ष्य में आयोजित कार्यक्रम के दौरान ए राजा के बयानों का विवरण दिया गया है। इस कार्यक्रम का उद्देश्य ‘द्रविड़ियम मॉडल सरकार: सभी के लिए सब कुछ’ थीम के साथ द्रमुक सरकार की उपलब्धियों को बढ़ावा देना था।

ए राजा का पीएम मोदी पर हमला

अपने भाषण के दौरान अंदिमुथु राजा ने कहा कि व्यवसायी अडानी की वृद्धि सीधे पीएम मोदी के राजनीतिक करियर पर निर्भर करती है। उन्होंने कहा, “अडानी नाम का एक आदमी है। उनके (पीएम मोदी) मंत्री बनने से पहले वह 110वें स्थान पर था। कहाँ? गुजरात में जब मोदी प्रधानमंत्री बने तो वो 66वें स्थान पर आ गए और 10 साल में वे दुनिया के सबसे अमीर आदमी बन गए।”

अंदिमुथु राजा ने आगे कहा, “यह कैसे हुआ? कोई नहीं जानता। हर कोई सोचता था कि उसने उतना ही कमाया जितना वह कमा सकता था। किसने उसे सभी स्थानों पर आमंत्रित किया और ठेका खरीदा? यह वास्तव में मोदी है।” उन्होंने अपने बयान के समर्थन में हिंडनबर्ग की रिपोर्ट का हवाला दिया। हालाँकि, राजा ने यह भी कहा कि हिंडरबर्ग रिपोर्ट में लगाए गए आरोप सार्वजनिक जीवन में आम हैं।

पीएम मोदी पर अपने हमले जारी रखते हुए ए राजा ने गुजरात दंगों पर बीबीसी की डॉक्यूमेंट्री पर प्रतिबंध लगाने के लिए उन पर निशाना साधा। गोधरा में मुस्लिम भीड़ द्वारा अयोध्या से लौट रहे हिंदू तीर्थयात्रियों से भरी ट्रेन को जलाने के बाद गुजरात में हुए दंगों के लिए उन्होंने पीएम मोदी पर निशाना साधा। उन्होंने कहा कि नरेंद्र मोदी के गुजरात में सीएम रहने के दौरान मुस्लिमों को जानवरों की तरह काटा गया।

उन्होंने आरोप लगाया कि उस दौरान मुस्लिम महिलाओं का बलात्कार किया गया। ए राजा ने कहा, “[बीबीसी] ने हर चीज़ को फिल्म में शामिल किया था। यह 5 घंटे का है। उन्होंने इस पर प्रतिबंध लगा दिया। इसके प्रसारण पर प्रतिबंध लगा दिया। हमने संसद में पूछा कि हमें बताएँ कि यह सच है या झूठ, लेकिन मोदी ने अंत तक अपना मुँह नहीं खोला।”

‘हम राम के दुश्मन हैं’: ए राजा

अंदिमुथु राजा ने अपना प्रलाप जारी रखा और हिंदुओं को निशाना बनाया। उन्होंने कहा, “कहो कि प्रेम ही ईश्वर है। कहो कि ईश्वर व्यक्तियों के बीच दिखाई गई मानवता में है। कहो कि ईश्वर का निवास उस हृदय में है, जिसमें बुरे इरादे नहीं हैं। कहो कि आप एक गरीब व्यक्ति की मुस्कान में भगवान को देख सकते हैं। ऐसे भगवान के लिए ना तो हमें, न कलैग्नार को, न अन्ना को और न ही पेरियार को गुस्सा है!”

भगवान राम पर सवाल उठाते हुए ए राजा ने आगे कहा, “अगर आप कहें कि ये आपकी जय श्रीराम है, अगर ये आपकी भारत माता की जय है तो हम उस जय श्रीराम और भारत माता की जय को कभी स्वीकार नहीं करेंगे। तमिलनाडु स्वीकार नहीं करेगा। तुम जाकर बताओ, हम राम के शत्रु हैं।” कम्बा रामायण का एक अंश सुनाने के बाद उन्होंने कहा, “मुझे रामायण और भगवान राम पर भरोसा नहीं है।”

ए राजा ने आगे कहा, “अगर आप कहते हैं कि रामायण के नाम पर मानव सद्भाव है, जहाँ चार सगे भाई के रूप में पैदा होते हैं, एक कुरावर भाई के रूप में, एक शिकारी भाई के रूप में, दूसरा बंदर दूसरा भाई के रूप में, छठा बंदर एक भाई के रूप में पैदा होता है तो आपका जय श्री राम छी! बेवकूफ़!” ए राजा ने भगवान राम को ही नहीं, भारत को देश के रूप में मान्यता देने से इनकार कर दिया।

‘भारत एक राष्ट्र नहीं है’: ए राजा

अंदिमुथु राजा यही नहीं रूके। उन्होंने कहा, “भारत एक राष्ट्र नहीं है। इस बात को अच्छे से समझ लें। भारत कभी एक राष्ट्र नहीं था। एक राष्ट्र का अर्थ है एक भाषा, एक परंपरा और एक संस्कृति। तभी यह एक राष्ट्र है। भारत एक राष्ट्र नहीं, बल्कि एक उपमहाद्वीप है। यहाँ तमिल एक राष्ट्र है। मलयालम एक भाषा और एक राष्ट्र है। उड़िया एक भाषा और एक देश है। ये सब देश मिलकर भारत बनाते हैं।”

ए राजा ने कहा, “भारत में बहुत सारी परंपराएँ और संस्कृतियाँ हैं। यदि आप तमिलनाडु आते हैं तो वहाँ की एक अलग संस्कृति है। केरल में एक और संस्कृति है। दिल्ली में एक और संस्कृति है। उड़िया में एक और संस्कृति है। जैसा कि आरएस भारती ने कहा कि मणिपुर में लोग कुत्ते का मांस क्यों खाते हैं? हाँ, यह सच है। वे खाते हैं। वह एक संस्कृति है। कुछ गलत नहीं है। यह सब हमारे दिमाग में है।”

बता दें कि अंदिमुथु राजा का हिंदू विरोधी बयानों का एक लंबा इतिहास रहा है। सितंबर 2023 में उन्होंने उदयनिधि स्टालिन के हिंदू विरोधी बयानों का समर्थन किया था और कहा था कि सनातन धर्म पर टिप्पणी करते समय वह नरम थे। उस समय उन्होंने कहा था, “सनातन धर्म की तुलना एचआईवी और कुष्ठ रोग जैसे सामाजिक कलंक वाली बीमारियों से की जानी चाहिए।”

Special coverage by OpIndia on Ram Mandir in Ayodhya

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

लड़की हिंदू, सहेली मुस्लिम… कॉलेज में कहा, ‘इस्लाम सबसे अच्छा, छोड़ दो सनातन, अमीर कश्मीरी से कराऊँगी निकाह’: देहरादून के लॉ कॉलेज में The...

थर्ड ईयर की हिंदू लड़की पर 'इस्लाम' का बखान कर धर्म परिवर्तन के लिए प्रेरित किया गया और न मानने पर उसकी तस्वीरों को सोशल मीडिया पर वायरल करने की धमकी दी गई।

जोशीमठ को मिली पौराणिक ‘ज्योतिर्मठ’ पहचान, कोश्याकुटोली बना श्री कैंची धाम : केंद्र की मंजूरी के बाद उत्तराखंड सरकार ने बदले 2 जगहों के...

ज्तोतिर्मठ आदि गुरु शंकराचार्य की तपोस्‍थली रही है। माना जाता है कि वो यहाँ आठवीं शताब्दी में आए थे और अमर कल्‍पवृक्ष के नीचे तपस्‍या के बाद उन्‍हें दिव्‍य ज्ञान ज्‍योति की प्राप्ति हुई थी।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -