Sunday, August 1, 2021
Homeराजनीतिसरेंडर करो, काम पाओ: ISF कार्यकर्ताओं को धमका रहे TMC नेता मुदस्सिर हुसैन को...

सरेंडर करो, काम पाओ: ISF कार्यकर्ताओं को धमका रहे TMC नेता मुदस्सिर हुसैन को सुनिए

"कुछ लोग कह रहे हैं कि वे बीडीओ कार्यालय जाएँगे, लेकिन मैं कह रहा हूँ कि आपको बीडीओ कार्यालय नहीं जाना है, क्योंकि हम सब कुछ नियंत्रित करते हैं।"

पश्चिम बंगाल में ममता बनर्जी की सरकार आए डेढ़ महीने से ज्यादा हो गया है मगर, भाजपा कार्यकर्ताओं समेत अन्य राजनीतिक दलों के समर्थकों पर होते हमले अब तक नही थमे हैं। इसी क्रम में सत्ताधारी तृणूमल कॉन्ग्रेस (TMC) नेता का एक वीडियो वायरल हुआ है। वीडियो में वह इंडियन सेकुलर फ्रंट (ISF) के समर्थकों और कार्यकर्ताओं को धमका रहे हैं कि अगर उन्होंने टीएमसी नहीं ज्वाइन की तो उन्हें सरकारी योजनाओं का लाभ नहीं मिलेगा।

टीएमसी नेता का नाम मुदस्सिर हुसैन है। वह दक्षिण 24 परगना के भांगर में भोगली-द्वितीय पंचायत के पंचायत प्रमुख हैं। उनका यह विवादित वीडियो मंगलवार (जून 15, 2021) का है। कटालिया क्षेत्र में एक पार्टी कार्यालय के उद्घाटन के दौरान, मुदस्सिर हुसैन ने कहा कि अन्य दलों के लिए काम करने वाले यदि 100 दिन की नौकरी योजना के तहत काम चाहते हैं तो उनको सत्ताधारी पार्टी के सामने आत्मसमर्पण करना होगा।

आगे वीडियो में हुसैन ने कहा कि जिन लोगों ने पीरजादा अब्बास सिद्दीकी की ISF को ज्वाइन किया था उन्हें तृणमूल कॉन्ग्रेस से जुड़ना होगा, अगर वह सरकारी योजनाओं के तहत नौकरी चाहते हैं। उन्होंने कहा, “जिन कार्यकर्ताओं ने हमसे सभी सुविधाएँ लेने के बाद चुनाव के दौरान अन्य दलों के लिए काम किया था, उन पर तब तक विचार नहीं किया जाएगा जब तक वे हमारे सामने आत्मसमर्पण नहीं कर देते। चुनाव के दौरान ISF के लिए काम करने वालों को सत्ताधारी पार्टी के प्रति अपनी निष्ठा दिखानी होगी।”

हुसैन बोले, “ISF को जितने लोगों ने वोट दिया था उन्हें हमारे सामने सरेंडर करना होगा, नहीं तो उन्हें 100 दिन की नौकरी पाने के लिए फुरफुरा जाना होगा।” बता दें कि टीएमसी नेता ने फुरफुरा को लेकर ISF कार्यकर्ताओं को इसलिए ताना दिया क्योंकि ISF के संस्थापक फुरफुरा शरीफ से संबंध रखते हैं। ये जगह बंगाली मुसलमानों के बीच काफी प्रसिद्ध है।

टीएमसी नेता ने आगे धमकी देते हुए कहा कि अगर टीएमसी ज्वाइन नहीं की तो योजना के तहत नौकरी पाने के लिए बीडीओ दफ्तर जाकर भी कुछ नहीं होगा। उनके अनुसार, “कुछ लोग कह रहे हैं कि वे बीडीओ कार्यालय जाएँगे, लेकिन मैं कह रहा हूँ कि आपको बीडीओ कार्यालय नहीं जाना है, क्योंकि हम सब कुछ नियंत्रित करते हैं।”

गौरतलब है कि टीएमसी नेता मुदस्सिर हुसैन ऐसे भड़काऊ बयान देने के लिए अक्सर चर्चा में रहते है। बंगाल में विधानसभा चुनाव से पहले उन्होंने कहा था कि केवल टीएमसी वोटर्स को ही बूथ पर मतदान करने दिया जाएगा। उनका कहना था कि टीएमसी कार्यकर्ताओं और समर्थकों के अलावा कोई भी इलाके में वोट नहीं डालेगा और न ही दूसरी पार्टियों को सपोर्ट करने वालों को वोट देने की जरूरत है। हुसैन ने ये भी कहा था कि सेंट्रल फोर्स बूथ पर तैनात होगी, लेकिन टीएमसी वर्कर सड़कों पर पेट्रोलिंग करेंगे और गैर टीएमसी वोटरों को नहीं जाने देंगे।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘मस्जिद के सामने जुलूस निकलेगा, बाजा भी बजेगा’: जानिए कैसे बाल गंगाधर तिलक ने मुस्लिम दंगाइयों को सिखाया था सबक

हिन्दू-मुस्लिम दंगे 19वीं शताब्दी के अंत तक महाराष्ट्र में एकदम आम हो गए थे। लोकमान्य बाल गंगाधर तिलक इससे कैसे निपटे, आइए बताते हैं।

मानसिक-शारीरिक शोषण से धर्म परिवर्तन और निकाह गैर-कानूनी: हिन्दू युवती के अपहरण-निकाह मामले में इलाहाबाद HC

आरोपित जावेद अंसारी ने उत्तर प्रदेश में 'लव जिहाद' के खिलाफ बने कानून के तहत हो रही कार्रवाई को रोकने के लिए इलाहाबाद हाईकोर्ट का रुख किया था।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
112,404FollowersFollow
394,000SubscribersSubscribe