Thursday, April 25, 2024
Homeराजनीतिकटवा विधायक ने लगवाया टीका, भतार MLA भी उसी लाइन पर: TMC नेताओं में...

कटवा विधायक ने लगवाया टीका, भतार MLA भी उसी लाइन पर: TMC नेताओं में वैक्सीन के लिए मची होड़

"ये नेतागण पेशेंट्स वेलफेयर कमिटियों का हिस्सा हैं, इसलिए उन्होंने वैक्सीन ली। समिति का सदस्य होने के नाते वो भी फ्रंट लाइन वर्कर हैं।" - यह अजीब तर्क दिया गया। लेकिन बंगाल के अन्य कई नेताओं ने भी वैक्सीन लेकर...

पश्चिम बंगाल में तृणमूल कॉन्ग्रेस (TMC) के नेताओं में कोरोना वायरस की वैक्सीन लेने की होड़ सी मच गई है। जहाँ केंद्र सरकार का जोर है कि सबसे पहले अपनी जान जोखिम में डाल कर लगभग एक वर्ष तक लोगों की सेवा करने वाले स्वास्थ्य कर्मचारियों को इसमें प्राथमिकता दी जाए, TMC के नेता पहले खुद को सुरक्षित कर लेना चाहते हैं। पार्टी के दो विधायकों ने वैक्सीन लगवाया है। ऊपर से कई स्वास्थ्य कर्मचारियों को बुला कर उन्हें खाली हाथ लौटा दिया गया।

वैक्सीन लगवाने वालों में भतार के विधायक सुभाष मोंडल और कटवा के विधायक रबीन्द्रनाथ चटर्जी शामिल हैं। शनिवार (जनवरी 16, 2021) की सुबह सुभाष ने राज्य के सरकारी अस्पताल में जाकर वैक्सीन ली। वहीं चटर्जी ने भी स्वास्थ्य कर्मचारियों के ऊपर खुद को प्राथमिकता दी। ये दोनों ही ईस्ट बर्दवान जिले के नेता हैं। पहले चरण में केवल फ्रंटलाइन वर्कर्स को ही वैक्सीन दिए जाने की अनुमति है, लेकिन इन नेताओं ने इसका उल्लंघन किया।

स्वास्थ्य अधिकारियों का कहना है कि ये नेतागण जिले की पेशेंट्स वेलफेयर कमिटियों का हिस्सा हैं, इसलिए उन्होंने वैक्सीन ली। उनका कहना है कि इस समिति का सदस्य होने के नाते वो भी फ्रंट लाइन वर्कर हैं। पूर्व विधायक बनमाली हाजरा, जिला परिषद अध्यक्ष जहर बागड़ी और पंचायत समिति सदस्य महेंद्र हाजरा ने भी वैक्सीन ली। कई नर्सों ने शिकायत की कि उनका नाम होने के बावजूद उन्हें वैक्सीन नहीं दी गई।

पश्चिम बंगाल में भाजपा के प्रभारी कैलाश विजयवर्गीय ने इस घटना पर टिप्पणी करते हुए कहा, “कोरोना वैक्सीन की लूट हुई है। देश के प्रधानमंत्री मोदी ने कोरोना वॉरियर्स, स्वास्थ्यकर्मियों एवं फ्रंटलाइन वर्कर के लिए फ्री कोरोना वैक्सीन भेजी। लेकिन, पश्चिम बंगाल में TMC विधायक और गुंडों ने जबरदस्ती वैक्सीन लगवा ली। सीएम ममता बयान दे रही हैं कि पीएम ने ही कम वैक्सीन भेजी है। शर्म करो ममता जी!”

यहाँ तक कि सभी मुख्यमंत्रियों के साथ टीकाकरण अभियान की तैयारियों की समीक्षा के लिए हुई बैठक में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने नेताओं से खास तौर पर अपील की थी कि पहले चरण में जनप्रतिनिधि वैक्सीन लेने से बचें, ताकि स्वास्थ्य कर्मचारियों को इसका लाभ दिया जा सके। पहले चरण का पूरा खर्च भी केंद्र ही उठा रहा है। दिल्ली में स्वच्छता कर्मचारी मनीष इस टीकाकरण अभियान के पहले लाभार्थी बने।

सबसे अजीब बात तो ये है कि जिस पार्टी के नेता लपक कर सबसे पहले वैक्सीन ले रहे हैं, वो ही इसे रोकने की कोशिश भी कर रहे हैं। पश्चिम बंगाल सरकार में मंत्री और जमीयत उलेमा ए हिंदी का अध्यक्ष सिद्धीकुल्लाह चौधरी ने वैक्सीन को ले रही जा रही ट्रक को ही रोक डाला। उन्होंने ‘किसान आंदोलन’ की आड़ में ऐसा किया। सड़क पर बैठे प्रदर्शनकारियों से ट्रक को बचाने के लिए पुलिस को बुलाने की नौकात आन पड़ी।

शनिवार को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने दुनिया के सबसे बड़े टीकाकरण अभियान की शुरुआत की और पहले ही दिन लगभग 2 लाख फ्रंटलाइन वॉरियर्स को वैक्सीन दिए गए। हालाँकि, ये आँकड़े भले ही लक्ष्य से पीछे हों लेकिन संतुष्टिजनक बात ये है कि इनमें से अब तक एक को भी किन्हीं भी कारणों से अस्पताल जाने की जरूरत नहीं पड़ी। पश्चिम बंगाल में दो लोगों की तबियत जरूर खराब हुई, लेकिन अब उनकी स्थिति स्थिर है।

Special coverage by OpIndia on Ram Mandir in Ayodhya

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

कॉन्ग्रेस ही लेकर आई थी कर्नाटक में मुस्लिम आरक्षण, BJP ने खत्म किया तो दोबारा ले आए: जानिए वो इतिहास, जिसे देवगौड़ा सरकार की...

कॉन्ग्रेस का प्रचार तंत्र फैला रहा है कि मुस्लिम आरक्षण देवगौड़ा सरकार लाई थी लेकिन सच यह है कि कॉन्ग्रेस ही इसे 30 साल पहले लेकर आई थी।

मुंबई के मशहूर सोमैया स्कूल की प्रिंसिपल परवीन शेख को हिंदुओं से नफरत, PM मोदी की तुलना कुत्ते से… पसंद है हमास और इस्लामी...

परवीन शेख मुंबई के मशहूर स्कूल द सोमैया स्कूल की प्रिंसिपल हैं। ये स्कूल मुंबई के घाटकोपर-ईस्ट इलाके में आने वाले विद्या विहार में स्थित है। परवीन शेख 12 साल से स्कूल से जुड़ी हुई हैं, जिनमें से 7 साल वो बतौर प्रिंसिपल काम कर चुकी हैं।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
282,677FollowersFollow
417,000SubscribersSubscribe