Wednesday, April 17, 2024
Homeराजनीतिराहुल गाँधी को लद्दाख आना चाहिए था, हम भी उनके चुटकुलों पर हँस लेते:...

राहुल गाँधी को लद्दाख आना चाहिए था, हम भी उनके चुटकुलों पर हँस लेते: BJP सांसद नामग्याल

पिछले साल लद्दाख को जम्मू कश्मीर से अलग करके केंद्र शासित प्रदेश घोषित होने के बाद वहाँ पहली बार यह चुनाव हो रहा है। कुल 94 उम्मीदवारों की हार जीत का फैसला 89776 मतदाता करेंगे। मतगणना 26 को होगी और उसी दिन परिणाम भी आ जाएँगे।

केंद्र शासित प्रदेश लद्दाख में भाजपा सांसद जामयांग सेरिंग नामग्याल ने राहुल गाँधी और सोनिया गाँधी पर निशाना साधा है। लेह स्वायत्त पहाड़ी विकास परिषद के चुनाव को लेकर भाजपा सांसद ने मीडिया से बात करते हुए कहा कि राहुल गाँधी को चुनाव प्रचार में जरूर आना चाहिए था। इससे लेह के लोगों को चुटकुले सुनकर हँसने का मौका मिल जाता।

समाचार एजेंसी एएनआई के अनुसार नामग्याल ने कहा, “मैं अनुरोध करता हूँ कि कॉन्ग्रेस को लद्दाख में राहुल गाँधी (चुनाव प्रचार के लिए) को लाना चाहिए था। हमारे लोग भी थोड़ा चुटकुले सुनते, हँसते-खिलखिलाते। नहीं ला पाए। अफसोस की बात है। उन्हें (कॉन्ग्रेस) सोनिया गाँधी को भी लेह भी लाना चाहिए था, हम सुनना चाहते थे कि मैडम जी के क्या विचार हैं?”

वह आगे कहते हैं, “हम भी उनके मुँह से सुनना चाहते हैं कि 70 वर्षों में लद्दाख को एक केंद्र शासित प्रदेश का दर्जा न दिला पाने के बारे में उनके पास बोलने के लिए क्या बचा है।”

वह कहते हैं कि जब गुलाब नबी आजाद ने 8 जिले बनाए तब भी लद्दाख को एक भी जिला नहीं दिया। यूटी का दर्जा कैसे देते। कॉन्ग्रेस पार्टी के पास न लाने की क्षमता है, न वह लेकर आ सकते हैं और लाने का कोई फायदा है। भाजपा ने जनता को संदेश दिया कि वह लद्दाख के साथ हैं। यहाँ के लोगों के साथ हैं। अलग अलग मंत्रियों ने यहाँ आकर गाँव-गाँव जाकर केवल चुनाव प्रचार नहीं किया बल्कि गाँव के हालात देखे, लोगों की मानसिकता जानने की कोशिश की, इसलिए भाजपा यहाँ अपने नेताओं को ला पाई। वह यहाँ के हालातों को जानेंगे और उनकी बात भी रखेंगे।

पिछले साल लद्दाख को जम्मू कश्मीर से अलग करके केंद्र शासित प्रदेश (Union Territory) घोषित होने के बाद वहाँ पहली बार यह चुनाव हो रहा है। उल्लेखनीय है कि लेह स्वायत्त पहाड़ी विकास परिषद की 26 सीटों पर आज सुबह 8 बजे से मतदान शुरू हुए थे, जो शाम चार बजे तक चले। वहाँ कुल 94 उम्मीदवारों की हार जीत का फैसला 89776 मतदाता करेंगे। मतगणना 26 को होगी और उसी दिन परिणाम भी आ जाएँगे। 

Special coverage by OpIndia on Ram Mandir in Ayodhya

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

नॉर्थ-ईस्ट को कॉन्ग्रेस ने सिर्फ समस्याएँ दी, BJP ने सम्भावनाओं का स्रोत बनाया: असम में बोले PM मोदी, CM हिमंता की थपथपाई पीठ

PM मोदी ने कहा कि प्रभु राम का जन्मदिन मनाने के लिए भगवान सूर्य किरण के रूप में उतर रहे हैं, 500 साल बाद अपने घर में श्रीराम बर्थडे मना रहे।

शंख का नाद, घड़ियाल की ध्वनि, मंत्रोच्चार का वातावरण, प्रज्जवलित आरती… भगवान भास्कर ने अपने कुलभूषण का किया तिलक, रामनवमी पर अध्यात्म में एकाकार...

ऑप्टिक्स और मेकेनिक्स के माध्यम से भारत के वैज्ञानिकों ने ये कमाल किया। सूर्य की किरणों को लेंस और दर्पण के माध्यम से सीधे राम मंदिर के गर्भगृह में रामलला के मस्तक तक पहुँचाया गया।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
282,677FollowersFollow
417,000SubscribersSubscribe