Wednesday, September 29, 2021
Homeराजनीतिअवैध कालोनियों में रहने वालों को दिवाली पर मोदी की बड़ी सौगात: 40 लाख...

अवैध कालोनियों में रहने वालों को दिवाली पर मोदी की बड़ी सौगात: 40 लाख को मिलेगा घर का मालिकाना हक़

केन्द्रीय मंत्री हरदीप सिंह पुरी ने बताया कि दिल्ली की सभी अनधिकृत कालोनियों को नियमित कर उनमें रह रहे लोगों को घर का अधिकार देने का फैसला किया गया है। दिल्ली में अनधिकृत कालोनियों की संख्या करीब 1797 है जिसके चलते करीब 40 लाख लोगों को घर का मालिकाना हक मिल जाएगा।

दिवाली से ठीक पहले केंद्र सरकार ने दिल्ली वासियों को बड़ा तोहफा देने का एलान किया है। बुधवार को हुई कैबिनेट बैठक में केंद्र सरकार ने यह फैसला किया है कि दिल्ली में फैली अनधिकृत कालोनियों में रह रहे लोगों को घर का मालिकाना हक देगी। बता दें कि दिल्ली की ऐसी कालोनियों में इस वक़्त तकरीबन 40 लाख लोग रहते हैं।

केन्द्रीय मंत्री हरदीप सिंह पुरी ने प्रेस वार्ता में बताया कि कैबिनेट की बैठक में दिल्ली की सभी अनधिकृत कालोनियों को नियमित कर उनमें रह रहे लोगों को घर का अधिकार देने का फैसला किया है। बता दें कि दिल्ली में अनधिकृत कालोनियों की संख्या करीब 1797 है जिसके चलते करीब 40 लाख लोगों को घर का मालिकाना हक मिल जाएगा। मीडिया को संबोधित करते हुए पुरी ने यह भी बताया कि सरकार के इस आदेश के बावजूद तीन ऐसी कालोनियाँ हैं जो नियमित नहीं की जाएँगी। इनमें सैनिक फार्म, महेन्द्रू एन्क्लेव और अनंतराम डेयरी शमिल हैं। उन्होंने बताया कि यह कालोनियाँ सरकारी ज़मीन, खेती की ज़मीन पर बनी हुई हैं इसलिए इनको नियमित नहीं किया जाएगा।

सरकार की ओर से बात रखते हुए पुरी ने यह बताया कि कैसे इन अनधिकृत कालोनियों में रहने वले लोगों को केंद्र सरकार के इस एक फैसले के बाद घर का मालिकाना हक मिलने से बहुत फायदा पहुँचेगा। उन्होंने कहा कि इन कालोनियों में रह रहे लोगों को ऋण लेने में काफी समस्याओं का सामना करना पड़ता है। सरकार के इस फैसले से उन्हें बैंकों से ऋण लेने में समस्या नहीं आएगी।

इस मौके पर केन्द्रीय मंत्री पुरी ने दिल्ली सरकार पर भी निशाना साधा, उन्होंने दिल्ली सरकार पर हमला बोलते हुए कहा-

“आज दिल्ली-एनसीआर की आबादी 2 करोड़ से अधिक है। ग्यारह साल पहले 2008 में भी कोशिश हुई थीं मगर तब दिल्ली सरकार काम लटका रही थी। तब हमें लगा कि इस पर हमे ही कदम बढाने होंगे ये दिल्ली के लिए क्रांतिकारी कदम है। मालिकाना हक दिया जाएगा, भले ही ये कालोनी सरकारी या निजी जमीन पर बनी हो। इन कालोनी मे रहने वाले लोगो को बहुत मामूली शुल्क देना होगा। 1797 कॉलोनी हैं, कुछ पॉश कॉलोनी जैसे सैनिक फार्म, अनंत राम डेरी जैसी, कोर्ट में जिस तरह दिल्ली सरकार ने 2021 तक समय माँगा तो हमें लगा कि केंद्र सरकार को कदम उठाना चाहिए। इसके लिए जिस कंपनी को अधिकृत करना था दिल्ली सरकार को उन्होंने अभी तक किया ही नहीं। इन क्षेत्रों में रहने वाले लोगों को मालिकाना हक़ दिया जाएगा।”

इस घोषणा के बाद दिल्ली बीजेपी ने जश्न मनाया। उनका कहना है कि केजरीवाल सालों से केवल भरमा रहे थे लेकिन अब केंद्र ने लाखों दिल्ली वालों को उनका हक़ दे दिया है।

 

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘उमर खालिद को मिली मुस्लिम होने की सजा’: कन्हैया के कॉन्ग्रेस ज्वाइन करने पर छलका जेल में बंद ‘दंगाई’ के लिए कट्टरपंथियों का दर्द

उमर खालिद को पिछले साल 14 सितंबर को गिरफ्तार किया गया था, वो भी उत्तर पूर्वी दिल्ली में भड़की हिंसा के मामले में। उसपे ट्रंप दौरे के दौरान साजिश रचने का आरोप है

कॉन्ग्रेस आलाकमान ने नहीं स्वीकारा सिद्धू का इस्तीफा- सुल्ताना, परगट और ढींगरा के मंत्री पदों से दिए इस्तीफे से बैकफुट पर पार्टी: रिपोर्ट्स

सुल्ताना ने कहा, ''सिद्धू साहब सिद्धांतों के आदमी हैं। वह पंजाब और पंजाबियत के लिए लड़ रहे हैं। नवजोत सिंह सिद्धू के साथ एकजुटता दिखाते हुए’ इस्तीफा दे रही हूँ।"

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
125,032FollowersFollow
410,000SubscribersSubscribe