Thursday, May 23, 2024
Homeराजनीतिमजदूरों के लिए ₹4000 करोड़, 24 घंटे बिजली के लिए ₹1000 करोड़: योगी सरकार...

मजदूरों के लिए ₹4000 करोड़, 24 घंटे बिजली के लिए ₹1000 करोड़: योगी सरकार का ₹8479 करोड़ का अनुपूरक बजट, जानिए मुख्य बातें

योगी सरकार ने काशी विश्वनाथ दर्शन के लिए 10 करोड़ रुपए, किसान और वृद्घावस्था पेंशन के लिए 670 करोड़ रुपए आवंटित किए गए हैं। वहीं, यूपी गौरव सम्मान के लिए 10 करोड़ रुपए और खेल विभाग के लिए 10 करोड़ रुपए आवंटित किए गए हैं।

यूपी विधानसभा के शीतकालीन सत्र के दूसरे दिन गुरुवार (16 दिसंबर 2021) को योगी सरकार ने सदन में 4879.53 करोड़ रुपए का अपना दूसरा अनुपूरक बजट पेश किया। इस बजट में योगी सरकार ने किसानों, वृद्धों, दिव्यांगों, नेत्रहीनों को खास तोहफा दिया है। इसमें योगी सरकार ने असंगठित क्षेत्र के मजदूरों को भत्ता देने की व्यवस्था करते हुए 4,000 करोड़ रुपये का प्रावधान किया है। इसके साथ ही सरकार ने प्रदेश के लोगों के लिए 24 घंटे बिजली सुनिश्चित किया है। प्रदेश के वित्त मंत्री सुरेश खन्ना ने बताया कि इसके लिए पावर कॉरपोरेशन को 10 अरब (1,000 करोड़ रुपए) आवंटित किए गए हैं।

सुरेश खन्ना ने वित्तीय वर्ष 2021-22 का दूसरा अनुपूरक बजट और वर्ष 2022-23 के पहले चार महीने (अप्रैल से जुलाई) के लिए 1,68,903.23 करोड़ रुपये का लेखानुदान प्रस्तुत किया। वित्त मंत्री सुरेश खन्ना ने कहा कि 2022-2023 में 5,44,836.56 करोड़ रुपए की प्राप्तियाँ होंगी, जिनमें 4,53,097.56 करोड़ रुपए राजस्व और 91,739 करोड़ रुपए की पूँजी लेखा प्राप्ती होंगी। राजस्व प्राप्ति में 4,53,097.56 करोड़ रुपए की कर राजस्व प्राप्ति हैं। वहीं, 89,174 करोड़ रुपए की लोक ऋणों से प्राप्तियाँ और 2,565 करोड़ रुपए की ऋणों और अग्रिमों की वसूली से होने वाली प्राप्तियाँ हैं।

क्या है अनुपूरक बजट में

अनुपूरक बजट में 24 घंटे बिजली की आपूर्ति के लिए पावर कॉरपोरेशन को 10 अरब रुपए आवंटित करने के साथ-साथ हर घर बिजली योजना के लिए अलग से 185 करोड़ रुपए आवंटित की गई हैं। खेल विभाग को 10 करोड़ रुपए, काशी विश्वनाथ दर्शन के लिए 10 करोड़ रुपए, किसान और वृद्घावस्था पेंशन के लिए 670 करोड़ रुपए आवंटित किए गए हैं। वहीं, सूचना विभाग के लिए 150 करोड़ रुपए और यूपी गौरव सम्मान के लिए 10 करोड़ रुपए आवंटित किए गए हैं।

क्यों लाया जाता है अनुपूरक बजट?

प्रत्येक वर्ष सरकार अपना बजट पेश करती है, किन्तु बीच में ही सरकार को फंड की कमी पड़ने लगती है तो अनुपूरक बजट पेश किया जाता है। आम बजट की भाँति ही अनुपूरक बजट को भी सदन में पेश कराना होता है। यूपी में अगले कुछ माहों में ही विधानसभा चुनाव हैं। ऐसे में योजनाओं को पूरा करने तथा परियोजनाओं के कामों में तेजी लाने के लिए सरकार को फंड की आवश्यकता है। इसीलिए यह अनुपूरक बजट लाया है। योगी सरकार का इस वर्ष का ये दूसरा अनुपूरक बजट है। इससे पूर्व अगस्त में ही सरकार ने 7,300 करोड़ रुपए का अनुपूरक बजट पेश किया था।

सदन की कार्यवाही से पहले विपक्ष का विरोध प्रदर्शन

सदन के दूसरे दिन की कार्यवाही शुरू होते ही विपक्षी पार्टी ने जमकर विरोध प्रदर्शन किया। महँगाई व केंद्रीय राज्यमंत्री अजय मिश्रा टेनी को बर्खास्त करने की माँग को लेकर कॉन्ग्रेस नेताओं ने विधानसभा के बाहर विरोध प्रदर्शन करते हुए मार्च निकाला। वहीं, सपा ने विधानसभा के अंदर प्रदर्शन किया। इसके बाद सदन की कार्यवाही आधे घंटे के लिए स्थगित कर दी गई थी।

Special coverage by OpIndia on Ram Mandir in Ayodhya

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

मी लॉर्ड! भीड़ का चेहरा भी होता है, मजहब भी होता है… यदि यह सच नहीं तो ‘अल्लाह-हू-अकबर’ के नारों के साथ ‘काफिरों’ पर...

राजस्थान हाईकोर्ट के जज फरजंद अली 18 मुस्लिमों को जमानत दे देते हैं, क्योंकि उन्हें लगता है कि चारभुजा नाथ की यात्रा पर इस्लामी मजहबी स्थल के सामने हमला करने वालों का कोई मजहब नहीं था।

‘प्यार से माँगते तो जान दे देती, अब किसी कीमत पर नहीं दूँगी इस्तीफा’: स्वाति मालीवाल ने राज्यसभा सीट छोड़ने से किया इनकार

आम आदमी पार्टी की राज्यसभा सांसद स्वाति मालीवाल ने अब किसी भी हाल में राज्यसभा से इस्तीफा देने से इनकार कर दिया है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -