Wednesday, May 25, 2022
Homeराजनीति'एक बार घर आकर माँ से मिल लीजिए': गाँव में छोटी सी दुकान चला...

‘एक बार घर आकर माँ से मिल लीजिए’: गाँव में छोटी सी दुकान चला रहीं CM योगी की बहन, कहा – हमें नहीं पसंद परिवारवाद

"एक बार तो भाई ने पिताजी को भी टोक दिया था कि पिताजी क्या केवल अपना ही परिवार पालते हैं आप। कभी जनता की भी सेवा किया करो।"

उत्तर प्रदेश (Uttar Pradesh) के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ (Yogi Aadityanath) लगातार दूसरी बार सीएम पद के लिए 25 मार्च 2022 को शपथ लेंगे। लेकिन, उससे पहले उनकी बड़ी बहन शशि सिंह (Shashi Singh) ने बुधवार (23 मार्च 2022) को घर आकर माँ से मिलने की अपील की। योगी आदित्यनाथ की बहन उत्तराखंड में अपने गाँव के पास एक छोटी सी दुकान चलाती हैं।

टाइम्स नाऊ को दिए इंटरव्यू में उन्होंने कुछ अनकही बातों को साझा किया। योगी आदित्यनाथ की बहन ने बताया, “एक बार तो भाई ने पिताजी को भी टोक दिया था कि पिताजी क्या केवल अपना ही परिवार पालते हैं आप। कभी जनता की भी सेवा किया करो। इस पर पिताजी बोले कि बेटा मेरी तो 85 रुपए की सैलरी है। इतने में तुमको ही पाल लूँ यही बहुत है। देखता हूँ, तू क्या करता है। ” सीएम योगी की बहन बताती हैं कि ये बातें उन्होंने करीब 15-16 वर्ष की उम्र में कही थी।

जब शशि सिंह से पूछा गया कि वो लोग छोटी सी दुकान चलाते हैं, जबकि उनके भाई तो राज्य के सीएम हैं। इस सवाल के जबाव में उन्होंने कहा, “जैसे दूसरी पार्टियों में हर नेता का परिवार और उसके रिश्तेदार तक नेता बनना चाहते हैं। लेकिन, हमारे परिवार को परिवारवाद पसंद नहीं है। यह हमारे परिवार में नहीं है..भाई का भी यही बोलना है कि कमाओ-खाओ और मेहनत करो।”

योगी के संन्यास लेने को लेकर उनकी बहन ने कहा कि भाई तो घर से नौकरी करने की बात कहकर निकले थे, लेकिन बाद में पता चला कि वो महात्मा बन गए। आगे रोते हुए उन्होंने कहा कि पहले कोई भी साधु-संत निकलते थे तो उनमें वो उनमें अपने भाई को ढूँढती थीं। उन्होंने ये भी कहा कि अगर वो उत्तराखंड के सीएम होते तो यहाँ काफी विकास हो जाता। आखिर में सीएम योगी की बहन ने उनसे एक बार घर आकर माँ से मिलने की अपील की।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘मुस्लिम छात्रों के झूठे आरोपों पर अजीम प्रेमजी यूनिवर्सिटी ने किया निलंबित’: हिन्दू छात्र का आरोप – मिली धर्म ने समझौता न करने की...

तिवारी और उनके दोस्तों को कॉलेज में सार्वजनिक रूप से संघी, भाजपा के प्रवक्ता और भाजपा आईटी सेल का सदस्य कहा जाता था।

आतंकी यासीन मलिक को उम्रकैद: टेरर फंडिग में सजा के बाद बजे ढोल, श्रीनगर में कट्टरपंथियों ने की पत्थरबाजी

कश्मीर में कश्मीरी हिंदुओं के नरसंहार के आरोपित यासीन मलिक को टेरर फंडिंग केस में 25 मई को सजा मुकर्रर हुई।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
188,731FollowersFollow
416,000SubscribersSubscribe