Wednesday, August 4, 2021
Homeराजनीतिहॉटस्पॉट में सपा MLA इकराम कुरैशी ने बाँटा राशन, कहा- भीड़ इकट्ठा हो जाए...

हॉटस्पॉट में सपा MLA इकराम कुरैशी ने बाँटा राशन, कहा- भीड़ इकट्ठा हो जाए तो मैं क्या करूँ

राशन के साथ MLA ने कथित तौर पर पैसे भी बाँटे। इससे भीड़ और बेकाबू हो गई। देखते देखते लोगों में छीना-झपटी शुरू हो गई।

लॉकडाउन के नियमों का उल्लंघन कर राशन बॉंटने के आरोप में सपा विधायक हाजी इकराम कुरैशी और उनके बेटे के खिलाफ मामला दर्ज किया गया है। वे मुरादाबाद देहात से विधायक हैं। सोशल डिस्टेंसिंग को दरकिनार कर उनके कार्यालय में राशन लेने के लिए भीड़ इकट्ठा हो गई थी।

आरोप है कि मुरादाबाद में सपा विधायक इकराम क़ुरैशी और उनके पुत्र उबैद इकराम क़ुरैशी ने राशन बाँटने के
दौरान सोशल डिस्टेंसिग का धज्जियाँ उड़ाई। लोग एक-दूसरे चिपक कर खड़े थे। धक्का-मुक्की हो रही थी और उन सबने मास्क भी नहीं लगा रखा था।

राशन के साथ MLA ने कथित तौर पर पैसे भी बाँटे। इससे भीड़ और बेकाबू हो गई। देखते देखते लोगों में छीना-झपटी शुरू हो गई। आपको बता दें यह इलाका हॉटस्पॉट जोन के अंतर्गत आता है। यहाँ से कई कोरोना पॉजिटिव केस आ चुके है और अभी भी लगातार आ रहे हैं।

पत्रकारों ने विधायक से इस बदइंतजामी को लेकर सवाल पूछा तो वे भड़क उठे। उन्होंने कहा कि हर साल अलविदा के जुम्मे पर सामान बाँटता चला आ रहा हूँ। हो जाए तो मैं क्या करूँ?

शुक्रवार 22 मई को रोडवेज चौकी इंचार्ज बिजेंद्र सिंह राठी की तरफ से विधायक इकराम कुरैशी और उनके पुत्र उबैद कुरैशी के खिलाफ केस दर्ज कर लिया गया है। इनके द्वारा सोशल सोशल डिस्टेंसिग का पालन न करने, लॉकडाउन का उल्लघंन करने, भीड़ जमा करने आदि पर थाना गलशहीद पर समय 23.02 बजे मुअसं 252/20 धारा 188/269/270 भादवि व 3 महामारी अधिनियम तथा 51 वी आपदा प्रबन्धन अधिनियम पंजीकृत किया गया।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

दिल्ली में कमाल: फ्लाईओवर बनने से पहले ही बन गई थी उसपर मजार? विरोध कर रहे लोगों के साथ बदसलूकी, देखें वीडियो

दिल्ली के इस फ्लाईओवर का संचालन 2009 में शुरू हुआ था। लेकिन मजार की देखरेख करने वाला सिकंदर कहता है कि मजार वहाँ 1982 में बनी थी।

राणा अयूब बनीं ट्रोलिंग टूल, कश्मीर पर प्रोपेगेंडा चलाने के लिए आ रहीं पाकिस्तान के काम: जानें क्या है मामला

पाकिस्तान के सूचना मंत्रालय से जुड़े लोग ऑन टीवी राणा अयूब की तारीफ करते हैं। वह उन्हें मोदी सरकार का पर्दाफाश करने वाली ;मुस्लिम पत्रकार' के तौर पर जानते हैं।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
112,995FollowersFollow
395,000SubscribersSubscribe