Friday, February 26, 2021
Home राजनीति ममता बनर्जी ने कोरोना पॉजिटिव को क्वारंटाइन करने में जताई असमर्थता, कहा- लाखों लोगों...

ममता बनर्जी ने कोरोना पॉजिटिव को क्वारंटाइन करने में जताई असमर्थता, कहा- लाखों लोगों को आइसोलेट नहीं किया जा सकता

"हमने फैसला किया है कि अगर कोई व्यक्ति कोरोना पॉजिटिव मिलता है और उसके घर में क्वारंटाइन करने की व्यवस्था है तो वो व्यक्ति खुद को आइसोलेट कर सकता है। हम लाखों लोगों को क्वारंटाइन नहीं कर सकते हैं और सरकार की भी अपनी सीमा है।"

देश के कई राज्यों में कोरोना के मामले तेजी से बढ़ रहे हैं और इनमें पश्चिम बंगाल भी शामिल है। कोरोना पर नियंत्रण करने के लिए पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने कहा है कि वो इस वायरस के संक्रमण को फैलने से रोकने के लिए तमाम एहतियाती कदम उठा रही हैं। हालाँकि, वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए बात करते हुए उन्होंने कोरोना पॉजिटिव मरीजों को क्वारंटाइन करने में असमर्थता जताई।

सीएम ममता बनर्जी ने कहा, “हमने फैसला किया है कि अगर कोई व्यक्ति कोरोना पॉजिटिव मिलता है और उसके घर में क्वारंटाइन करने की व्यवस्था है तो वो व्यक्ति खुद को आइसोलेट कर सकता है। हम लाखों लोगों को क्वारंटाइन नहीं कर सकते हैं और सरकार की भी अपनी सीमा है।”

ममता बनर्जी के इस बयान के बाद से सवाल उठने लगे कि क्या राज्य में कोरोना मरीजों की संख्या लाखों में है, जिसे वो छुपा रही हैं। क्योंकि एक तरफ जहाँ ममता बनर्जी अपने राज्य की जनता को क्वारंटाइन करने की सुविधा देने में असमर्थता जता रही हैं, तो वहीं वो दूसरे प्रदेशों में फँसे पश्चिम बंगाल को लोगों को वापस लाने का आश्वासन दे रही हैं।

सीएम ने सोमवार (अप्रैल 27, 2020) को ट्वीट करते हुए लॉकडाउन के कारण राज्य से बाहर फँसे लोगों को हरसंभव मदद का आश्वासन दिया और कहा कि उन लोगों तक पहुँचने के लिए किए जा रहे प्रयासों की वह व्यक्तिगत रूप से निगरानी करेंगी। ममता बनर्जी ने कहा कि राजस्थान के कोटा शहर में फँसे छात्रों को वापस लाने की प्रक्रिया शुरू कर दी गई है और वे जल्द ही अपने घर लौटने के लिए यात्रा शुरू करेंगे। साथ ही उन्होंने इस बात पर भी जोर दिया कि जब तक वह मुख्यमंत्री हैं, पश्चिम बंगाल के कहीं भी फँसे लोगों को असहाय महसूस करने की जरूरत नहीं है।

ममता ने ट्वीट किया, “पश्चिम बंगाल सरकार लॉकडाउन के कारण देश के विभिन्न हिस्सों में फँसे बंगाल के लोगों को घर लौटने में हरसंभव मदद शुरू करेगी। मैंने अपने अधिकारियों को निर्देश दिया है कि वे ज़रूरतमंदों की मदद करें। जब तक मैं यहाँ हूँ, बंगाल के किसी भी निवासी को असहाय महसूस नहीं करना चाहिए। मैं इन कठिन समय में आपके साथ हूँ।”

उन्होंने कहा, “मैं व्यक्तिगत रूप से इसकी निगरानी कर रही हूँ और हम यह सुनिश्चित करने में कोई कसर नहीं छोड़ेंगे कि सभी को जरूरी मदद मिले। प्रक्रिया पहले ही शुरू हो चुकी है और कोटा में फँसे बंगाल के सभी छात्र जल्द ही अपने घर लौटेंगे।”

इससे पहले पश्चिम बंगाल के राज्यपाल भी पश्चिम बंगाल को लेकर अपनी चिंता जाहिर कर चुके हैं, उन्होंने कहा था कि राज्य में राशन वितरण में अनियमितताओं को लेकर लगातार शिकायत आ रही है। विपक्षी दलों का कहना है कि गरीबों के राशन का राजनीतिक आवंटन हो रहा।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘अंकित शर्मा ने किया हिंसक भीड़ का नेतृत्व, ताहिर हुसैन कर रहा था खुद का बचाव’: ‘द लल्लनटॉप’ ने जमकर परोसा प्रोपेगेंडा

हमारे पास अंकित के परिवार के कुछ शब्द हैं, जिन्हें पढ़कर आज लगता है कि उन्हें पहले से पता था कि आखिर में न्याय तो मिलेगा नहीं लेकिन उसके बदले अंकित को दंगाई घोषित जरूर कर दिया जाएगा।

आमिर खान की बेटी इरा अपने संघी हिन्दू नौकर के साथ फरार.. अब होगा न्याय: Fact Check से जानिए क्या है हकीकत

सोशल मीडिया पर दावा किया जा रहा है कि आमिर खान की बेटी इरा अपने हिन्दू नौकर के साथ भाग गई हैं। तस्वीर में इरा एक तिलक लगाए हुए युवक के साथ देखी जा सकती हैं।

‘ज्यादा गर्मी ना दिखाएँ, जो जिस भाषा को समझेगा, उसे उस भाषा में जवाब मिलेगा’: CM योगी ने सपाइयों को लताड़ा

"आप लोग सदन की गरिमा को सीखिए, मैं जानता हूँ कि आप किस प्रकार की भाषा और किस प्रकार की बात सुनते हैं, और उसी प्रकार का डोज भी समय-समय पर देता हूँ।"

‘लियाकत और रियासत के रिश्तेदार अब भी देते हैं जान से मारने की धमकी’: दिल्ली दंगा में भारी तबाही झेलने वाले ने सुनाया अपना...

प्रत्यक्षदर्शी ने बताया कि चाँदबाग में स्थित दंगा का प्रमुख केंद्र ताहिर हुसैन के घर को सील कर दिया गया था, लेकिन 5-6 महीने पहले ही उसका सील खोला जा चुका है।

3 महीनों के भीतर लागू होगी सोशल, डिजिटल मीडिया और OTT की नियमावली: मोदी सरकार ने जारी की गाइडलाइन्स

आपत्तिजनक विषयवस्तु की शिकायत मिलने पर न्यायालय या सरकार जानकारी माँगती है तो वह भी अनिवार्य रूप से प्रदान करनी होगी। मिलने वाली शिकायत को 24 घंटे के भीतर दर्ज करना होगा और 15 दिन के अंदर निराकरण करना होगा।

भगोड़े नीरव मोदी भारत लाया जाएगा: लंदन कोर्ट ने दी प्रत्यर्पण को मंजूरी, जताया भारतीय न्यायपालिका पर विश्वास

सुनवाई के दौरान कोर्ट ने नीरव की मानसिक सेहत को लेकर लगाई गई याचिका को ठुकरा दिया। साथ ही ये मानने से इंकार किया कि नीरव मोदी की मानसिक स्थिति और स्वास्थ्य प्रत्यर्पण के लिए फिट नहीं है।

प्रचलित ख़बरें

आमिर खान की बेटी इरा अपने संघी हिन्दू नौकर के साथ फरार.. अब होगा न्याय: Fact Check से जानिए क्या है हकीकत

सोशल मीडिया पर दावा किया जा रहा है कि आमिर खान की बेटी इरा अपने हिन्दू नौकर के साथ भाग गई हैं। तस्वीर में इरा एक तिलक लगाए हुए युवक के साथ देखी जा सकती हैं।

UP पुलिस की गाड़ी में बैठने से साफ मुकर गया हाथरस में दंगे भड़काने की साजिश रचने वाला PFI सदस्य रऊफ शरीफ

PFI मेंबर रऊफ शरीफ ने मेडिकल जाँच कराने के लिए ले जा रही UP STF टीम से उनकी गाड़ी में बैठने से साफ मना कर दिया।

कला में दक्ष, युद्ध में महान, वीर और वीरांगनाएँ भी: कौन थे सिनौली के वो लोग, वेदों पर आधारित था जिनका साम्राज्य

वो कौन से योद्धा थे तो आज से 5000 वर्ष पूर्व भी उन्नत किस्म के रथों से चलते थे। कला में दक्ष, युद्ध में महान। वीरांगनाएँ पुरुषों से कम नहीं। रीति-रिवाज वैदिक। आइए, रहस्य में गोते लगाएँ।

शैतान की आजादी के लिए पड़ोसी के दिल को आलू के साथ पकाया, खिलाने के बाद अंकल-ऑन्टी को भी बेरहमी से मारा

मृत पड़ोसी के दिल को लेकर एंडरसन अपने अंकल के घर गया जहाँ उसने इस दिल को पकाया। फिर अपने अंकल और उनकी पत्नी को इसे सर्व किया।

केरल में RSS कार्यकर्ता की हत्या: योगी आदित्यनाथ की रैली को लेकर SDPI द्वारा लगाए गए भड़काऊ नारों का किया था विरोध

SDPI की रैली में कुछ आपत्तिजनक टिप्पणी की गई थी, जिसके खिलाफ हिन्दू कार्यकर्ता प्रदर्शन कर रहे थे। मृतक नंदू के एक साथी पर भी चाकू से वार किया गया, जिनका इलाज चल रहा है।

मस्जिदों में लाउडस्पीकर हटाने के लिए बजरंग दल ने शुरू किया राष्ट्रव्यापी कैंपेन: 1 लाख हस्ताक्षरों की दरकार

ये कैंपेन 22 फरवरी 2021 से शुरू किया गया है। अभियान के तहत संगठन का मकसद एक लाख लोगों का समर्थन पाना है।
- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

292,062FansLike
81,844FollowersFollow
392,000SubscribersSubscribe