Friday, March 1, 2024
Homeराजनीतिओवैसी की पश्चिम बंगाल में एंट्री पर मुस्लिम संगठनों को ऐतराज, कहा- गेरुआ चोला...

ओवैसी की पश्चिम बंगाल में एंट्री पर मुस्लिम संगठनों को ऐतराज, कहा- गेरुआ चोला छिपा कर बीजेपी को पहुँचाना चाहते हैं फायदा

बिहार की तरह पश्चिम बंगाल में बीजेपी को फायदा पहुँचाने का आरोप लगाते हुए एसोसिएशन ने कहा कि राज्य में ओवैसी की एंट्री सुनियोजित है। इसके जरिए अल्पसंख्यक वोटों का ध्रुवीकरण कर बीजेपी को फायदा पहुँचाने की कोशिश की जाएगी।

पश्चिम बंगाल में विधासनभा चुनाव की सियासी तपिश बढ़ती जा रही है। बिहार विधानसभा चुनाव में मुस्लिम बहुल इलाके की पाँच सीटें जीतने वाली असदुद्दीन ओवैसी की पार्टी ऑल इंडिया मजलिस-ए-इत्तेहादुल मुस्लिमीन (AIMIM) की नजरें अब बंगाल चुनाव पर है। हालाँकि, यहाँ के मुस्लिम संगठनों ने उनका विरोध शुरू कर दिया है।

पश्चिम बंगाल इमाम एसोसिशन ने कहा है कि वो राज्य में एमआईएम की राजनीतिक एंट्री का विरोध करेगा। एआईएमआईएम सुप्रीमो ओवैसी पर आरोप लगाते हुए कहा है कि वह धार्मिक आधार पर लोगों को बाँट रहे हैं। ओवैसी बंगाली मुस्लिमों का प्रतिनिधित्व नहीं करते। वह धर्म के आधार पर लोगों को बाँटने की कोशिश करते हैं। इसलिए बंगाल में उनका विरोध किया जाएगा।

बिहार की तरह पश्चिम बंगाल में बीजेपी को फायदा पहुँचाने का आरोप लगाते हुए एसोसिएशन ने कहा कि राज्य में ओवैसी की एंट्री सुनियोजित है। इसके जरिए अल्पसंख्यक वोटों का ध्रुवीकरण कर बीजेपी को फायदा पहुँचाने की कोशिश की जाएगी। उन्होंने कहा कि अगर जरूरत पड़ी तो वह स्वयं ही एक नया संगठन बनाकर चुनाव लड़ेंगे और एमआईएम के प्लान को बर्बाद कर देंगे।

विरोध की बिगुल सिर्फ बंगाल इमाम एसोसिएशन ही नहीं बल्कि फुरफुरा शरीफ के पीरजादा त्वाहा ने भी ओवैसी के खिलाफ धावा बोल दिया है। फुरफुरा शरीफ के पीरजादा त्वाहा सिद्दीकी ने उन्हें परोक्ष रूप से भाजपा का एजेंट करार दिया है। त्वाहा ने ओवैसी के राजनीतिक एजेंडे को आड़े हाथों लेते हुए कहा है कि ओवैसी ने ऊपर में तो सफेद कपड़े पहन रखे हैं, लेकिन उसने अंदर जो चोला पहन रखा है, उसका रंग गेरुआ है।

आरामबाग में बुधवार को आयोजित एक कार्यक्रम के दौरान त्वाहा सिद्दीकी ने पत्रकारों से बातचीत करते हुए फुरफुरा शरीफ के एक और पीरजादा अब्बास सिद्दीकी को यह तक कह दिया कि वह मिथ्यावादी (झूठ बोलने वाले) और बेईमान है। त्वाहा सिद्दीकी ने आरोप लगाया कि ओवैसी की भारतीय जनता पार्टी के साथ सांठगांठ है। उन्होंने अपने गेरुआ चोला को छिपा रखा है।

अब्बास सिद्दीकी पर धर्म के नाम पर लोगों से पैसे की उगाही करने का आरोप लगाते हुए उन्होंने आगे कहा कि, ” वे अपने क्रिया-कलापों से लोगों का ध्यान भटकाने के लिए वह खुद को राजनीति में स्थापित करने की कोशिश कर रहे हैं। उन्होंने कहा कि बंगाल में सांप्रदायिक शक्तियों को पैर जमाने का कभी मौका नहीं मिलेगा। अब्बास सिद्दीकी और ओवैसी दोनों ‘बसंत के पंछी’ हैं। ये लोग बंगाल की शांति में खलल डालेंगे।”

गौरतलब है कि हालही में ओवैसी हुगली जिले के फुरफुरा शरीफ पहुँचे और वहाँ सिद्दीकी के साथ राज्य के राजनीतिक परिदृश्य और आगामी विधानसभा चुनावों को लेकर चर्चा की। मुलाकात के बाद उन्होंने कहा, “मैं आज अब्बास सिद्दीकी से मिला। हमारी पार्टी आगामी विधानसभा चुनावों में निश्चित रूप से भाग लेगी। हमारी पार्टी उन फैसलों के साथ खड़ी होगी जो अब्बास सिद्दीकी द्वारा उठाए जाएँगे।”

वहीं इससे पहले बंगाल विधानसभा चुनाव में असदुद्दीन ओवैसी की एंट्री को लेकर मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने उन पर निशाना साधा था। ममता बनर्जी ने अपने एक बयान में ओवैसी की पार्टी की ओर इशारा करते हुए बयान दिया था कि भाजपा मुस्लिम वोट बाँटने के लिए हैदराबाद से एक पार्टी लाने के लिए करोड़ों खर्च कर रही है।

जिस पर असदुद्दीन ओवैसी ने ममता बनर्जी को जवाब देते हुए कहा, “मुझे पैसों से खरीदने वाला आज तक कोई पैदा नहीं हुआ। ममता बनर्जी के आरोप निराधार हैं, उन्हें अपने घर के बारे में फिक्र होनी चाहिए। उनकी पार्टी के कई लोग बीजेपी में जाना शुरू कर चुके हैं। उन्होंने बिहार के मतदाताओं और हमारे लिए वोट करने वाले लोगों का अपमान किया है।” ओवैसी ने कहा कि मुस्लिम वोटर्स ममता बनर्जी की जागीर नहीं हैं।

Special coverage by OpIndia on Ram Mandir in Ayodhya

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

कॉन्ग्रेस की जीत के बाद कर्नाटक विधानसभा में लगे थे ‘पाकिस्तान जिंदाबाद’ के नारे, फॉरेंसिक जाँच से खुलासा: मीडिया में सूत्रों के हवाले से...

एक्सक्लूसिव मीडिया रिपोर्ट में कहा गया है कि जो फॉरेंसिक रिपोर्ट राज्य सरकार को दी गई है उसमें कन्फर्म है कि पाकिस्तान जिंदाबाद कहा गया।

सिद्धार्थ के पेट में अन्न का नहीं था दाना, शरीर पर थे घाव ही घाव: केरल में छात्र की मौत के बाद SFI के...

सिद्धार्थ आत्महत्या केस में 6 आरोपितों की गिरफ्तारी के बाद कॉलेज यूनियन अध्यक्ष के. अरुण और एसएफआई के कॉलेज ईकाई सचिव अमल इहसन ने आत्मसमर्पण कर दिया, जबकि एसएफआई से जुड़े आसिफ खान समेत 9 अन्य आरोपितों की तलाश पुलिस कर रही है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
282,677FollowersFollow
418,000SubscribersSubscribe