Wednesday, April 17, 2024
Homeराजनीतिशारदा चिटफंड घोटाला: कुणाल घोष से सीबीआई ने की पूछताछ, कहा था- सबसे ज्यादा...

शारदा चिटफंड घोटाला: कुणाल घोष से सीबीआई ने की पूछताछ, कहा था- सबसे ज्यादा फायदा ममता को

करीब एक महीने पहले चिटफंड घोटाले के आरोपित कुणाल घोष आधिकारिक तौर पर टीएमसी में शामिल हुए थे। उन्हें पार्टी का प्रवक्ता भी नियुक्त किया गया था।

पश्चिम बंगाल की सत्ताधारी पार्टी टीएमसी के प्रवक्ता कुणाल घोष 26 अगस्त को सीबीआई के सामने पेश हुए। जॉंच एजेंसी ने उनसे करोड़ों रुपए के शारदा चिटफंड घोटाले को लेकर सवाल-जवाब किए।

करीब एक महीने पहले चिटफंड घोटाले के आरोपित कुणाल घोष आधिकारिक तौर पर टीएमसी में शामिल हुए थे। उन्हें पार्टी का प्रवक्ता भी नियुक्त किया गया था।

घोष को करीब सात साल पहले टीएमसी ने निलंबित कर दिया था। वे शारदा चिट फंड मामले में फिलहाल जमानत पर बाहर हैं। साल 2014 में कुणाल घोष ने आधिकारिक रूप से दावा किया था कि शारदा पंजी योजना में ममता बनर्जी को सबसे ज्यादा फ़ायदा मिला था। इसके अलावा कुणाल ने उन्हें सार्वजनिक तौर पर ‘कायर’ कहा था। साल 2019 में कोलकाता के पूर्व मंडलायुक्त राजीव कुमार ने शिलोंग में कुणाल से इस घोटाले को लेकर पूछताछ की थी। 

हाल ही में कुणाल घोष को सीबीआई ने पूछताछ के लिए समन भेजा था। केंद्रीय जाँच एजेंसी की आर्थिक शाखा लगभग सभी चिट फंड घोटाले के मामलों की जाँच कर रही है। इसमें शारदा, नरदा, रोज़वैली, आईकोर, प्रयाग समेत कई मामले शामिल हैं। हैरानी की बात यह भी है कि इन सभी मामलों लगाए गए आरोपों का सीधा संबंध बंगाल के सत्ताधारी दल से है।        

Special coverage by OpIndia on Ram Mandir in Ayodhya

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

रोहिंग्या मुस्लिमों ने 1600 हिन्दुओं को बंधक बनाया: रिपोर्ट में खुलासा- म्यांमार की फ़ौज ही दे रही हथियार और प्रशिक्षण, 2017 में भी हुआ...

म्यांमार की फ़ौज ने 'आराकान रोहिंग्या साल्वेशन आर्मी (ARSA)' और 'आराकान रोहिंग्या आर्मी (ARA)' को 'आराकान आर्मी (AA)' के खिलाफ लड़ने के लिए हथियार से लेकर सैन्य प्रशिक्षण तक दिया है।

स्कूल में नमाज बैन के खिलाफ हाई कोर्ट ने खारिज की मुस्लिम छात्रा की याचिका, स्कूल के नियम नहीं पसंद तो छोड़ दो जाना...

हाई कोर्ट ने छात्रा की अपील की खारिज कर दिया और साफ कहा कि अगर स्कूल में पढ़ना है तो स्कूल के नियमों के हिसाब से ही चलना होगा।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
282,677FollowersFollow
417,000SubscribersSubscribe