Wednesday, June 19, 2024
Homeराजनीतिपूर्वी मिदनापुर में शुभेंदु अधिकारी ने दिखाई झलक, असली शो अभी भी बाकी: मान-मनौव्वल...

पूर्वी मिदनापुर में शुभेंदु अधिकारी ने दिखाई झलक, असली शो अभी भी बाकी: मान-मनौव्वल में जुटी TMC

मंत्री पद से इस्तीफे के बाद शुभेंदु अधिकारी की यह पहली जनसभा थी। कयास लगाया जा रहा था कि इस सभा में वे अपने अगले राजनीतिक कदम की घोषणा कर सकते हैं। लेकिन उन्होंने अपने राजनीतिक भविष्य को लेकर संस्पेंस बनाए रखा है।

पश्चिम बंगाल की ममता बनर्जी सरकार से इस्तीफा देने वाले शुभेंदु अधिकारी (29 जून, 2020) ने रविवार को पूर्वी मिदनापुर में सभा की। हालॉंकि उन्होंने अपने पत्ते पूरी तरह नहीं खोले हैं। इस सभा के जरिए उन्होंने अपनी ताकत की झलक दिखाने की कोशिश की। सत्ताधारी टीएमसी उनकी नाराजगी दूर करने की कोशिशों में लगी है।

मंत्री पद से इस्तीफे के बाद शुभेंदु अधिकारी की यह पहली जनसभा थी। कयास लगाया जा रहा था कि इस सभा में वे अपने अगले राजनीतिक कदम की घोषणा कर सकते हैं। लेकिन उन्होंने अपने राजनीतिक भविष्य को लेकर संस्पेंस बनाए रखा है।

पूर्वी मिदनापुर जिले के महिषादल में स्थानीय स्वतंत्रता सेनानी रणजीत बयाल के स्मरण में ताम्रलिप्त जनकल्याण समिति की ओर से हुए इस आयोजन पर सभी की निगाहें टिकी हुई थी। सभा को संबोधित करते हुए टीएमसी नेता ने सबसे पहले दिवंगत पूर्व राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी को याद किया। इसके बाद उन्होंने देश को समर्पित स्वतंत्रता सेनानी रणजीत बयाल का जिक्र करते हुए उनके योगदान का उल्लेख किया।

अपनी राजनीतिक सेवा के बारे बताते हुए शुभेंदु ने यह भी कहा कि वे अपनी क्षमता के मुताबिक ताउम्र आम लोगों की सेवा करते रहेंगे। बता दें शुभेंदु अधिकारी ने परिवहन मंत्री पद से इस्तीफा दिया है, लेकिन उन्होंने अभी तक टीएमसी के एमएलए व प्राथमिकता सदस्यता पद से इस्तीफा नहीं दिया है। आज बागी टीएमसी नेता के रवैये को देखते हुए तृणमूल कॉन्ग्रेस पार्टी की तरफ से हल्दिया में जुलूस निकाला गया था।

इस बीच पूर्वी मिदनापुर में शिवसेना के झंडे भी देखे गए थे। इसे भी शुभेंदु अधिकारी के राजनीतिक भविष्य के साथ जोड़कर देखा जा रहा है। अभी तक यह पूरी तरह से सस्पेंस बना हुआ है कि क्या शुभेंदु टीएमसी से पूरी तरह से नाता तोड़ लेंगे? क्या वह बीजेपी में शामिल होंगे? या किसी अन्य पार्टी में शामिल होंगे? या अपना अपनी नई पार्टी का गठन करेंगे?

उल्लेखनीय है कि मंत्री पद से इस्तीफा देने के बाद भाजपा और कॉन्ग्रेस की स्थानीय यूनिट उन्हें अपने पाले में लेना चाहती है। भाजपा उनके गढ़ में पहले ही पैठ बना चुकी है। लेकिन, इन सबके बीच सबसे ज्यादा नुकसान TMC और ममता बनर्जी को होने वाला है। 35 विधानसभा सीटों पर प्रभाव रखने वाले अधिकारी ने अपने समर्थकों से एकजुट होने की अपील की है।

शुभेंदु अधिकारी ने अपने समर्थकों से कहा है कि वो सड़क पर उतरने के लिए गोलबंद हो जाएँ। उन्होंने अपने समर्थक विधायकों को भी जनता के बीच उतरने को कहा था। उन्होंने शनिवार (नवंबर 28, 2020) को अपने समर्थक TMC नेताओं को अपनी रणनीति समझाई। एक TMC नेता ने कहा कि पूरा अधिकारी समर्थक कैडर सड़क पर उतरने को तैयार है और अभी से चुनावी मोड में आ गया है। उन्हें इंतजार है तो सिर्फ अपने नेता की हरी झंडी का।

समर्थकों ने बताया कि इसके लिए पिछले 6 महीने से तैयारियाँ चल रही थीं। समर्थकों का कहना है कि वो 6 जिलों में पूरी तरह गोलबंद हैं और एक अलग संगठन के जरिए प्रचार मोड में हैं। ये सब तब हो रहा है, जब TMC सारे विकल्प खुले होने की बात करते हुए अभी भी अधिकारी को मनाने की कोशिश कर रहा है। पार्टी ने इसके लिए पूर्व केंद्रीय मंत्री सौगत रॉय को लगाया है, क्योंकि प्रशांत किशोर भी यहाँ फेल हो गए हैं।

Special coverage by OpIndia on Ram Mandir in Ayodhya

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

दिल्ली के CM अरविंद केजरीवाल ने माँगी थी ₹100 करोड़ की घूस: कोर्ट से ED ने कहा- हमारे पास है सबूत, शराब घोटाले में...

अरविंद केजरीवाल की जमानत याचिका पर सुनवाई के दौरान ED ने कहा कि AAP सुप्रीमो के खिलाफ 100 करोड़ रुपए की रिश्वत माँगने के आरोप हैं।

कॉन्ग्रेस छोड़ किरण और श्रुति ने थामा कमल: कभी तीन लाल में बँटी थी हरियाणा की राजनीति, अब BJP सबका परिवार

बीजेपी में शामिल होने के बाद किरण चौधरी और उनकी बेटी श्रुति चौधरी दिल्ली पहुँचे और बीजेपी के राष्ट्रीय अध्यक्ष जेपी नड्डा से मुलाकात की।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -