अब, राहुल गाँधी विकास के मॉडल हैं: रविशंकर प्रसाद ने कॉन्ग्रेस अध्यक्ष की आय पर उठाए सवाल

रविशंकर प्रसाद ने सवाल किया, “राहुल जी, आपकी आय का स्रोत क्या है? हमने विकास का एक वाड्रा मॉडल देखा है। और अब, हम राहुल गाँधी को विकास के मॉडल के रूप में देख रहे हैं।”

केंद्रीय मंत्री रविशंकर प्रसाद ने आज एक संवाददाता सम्मेलन को संबोधित किया और राहुल गाँधी की आय के चमत्कारिक स्रोत पर सवाल उठाए। हाल ही में एक रिपोर्ट में, OpIndia.com ने राहुल की अप्रत्याशित गति से बढ़ती आय से होने वाली संदिग्ध डील और उनकी तेजी से बढ़ती संपत्ति का भी खुलासा किया था।

रविशंकर प्रसाद ने सवाल किया, “राहुल जी, आपकी आय का स्रोत क्या है? हमने विकास का एक वाड्रा मॉडल देखा है। और अब, हम राहुल गाँधी को विकास के मॉडल के रूप में देख रहे हैं।” “2004 में, राहुल गाँधी ने अपनी संपत्ति 55,38,123 रुपए, 2009 में, यह 2 करोड़ रुपए हो गया और 2014 में, यह 9 करोड़ रुपए हो गया। राहुल गाँधी, कृपया हमें विकास के इस मॉडल के बारे में बताएँ। 2004 में मात्र 55,38,123 रुपए से बिना आय के किसी भी अन्य स्रोत के, आपकी संपत्ति 2014 में बढ़कर 9 करोड़ हो गई।”

प्रसाद ने एफटीआईएल (FTIL) के गाँधी परिवार के लिंक का भी उल्लेख किया, जो एनएसईएल (NSEL) घोटाले के केंद्र में था। “यह बहुत गंभीर मामला है,” उन्होंने यह कहते हुए टिप्पणी की कि एफटीआईएल ने राहुल गाँधी और उनकी बहन की संपत्ति किराए पर ली थी और उन्हें किराए में ब्याज-मुक्त भुगतान के रूप में लाखों रुपए मिले थे।

- विज्ञापन - - लेख आगे पढ़ें -

केंद्रीय मंत्री ने राहुल गाँधी के यूनिटेक के लिंक पर भी प्रकाश डाला। उन्होंने कॉन्ग्रेस अध्यक्ष से पूछा, “क्या आपने यूनिटेक से दो संपत्ति खरीदी हैं? भाजपा आज पूछ रही है कि क्या आपने यूनिटेक से दो सम्पत्तियाँ खरीदी हैं।”

उन्होंने आगे पूछा, “2-जी घोटाले के लिंक के कारण यूनिटेक के बारे में बात करना महत्वपूर्ण है। जैसा कि मैंने पहले कहा है, 2-जी निर्णय कानूनी रूप से निराधार और नैतिक रूप से अनुचित था। लेकिन जज द्वारा एक टिप्पणी की गई जो बहुत दिलचस्प है। उन्होंने कहा कि वह सबूत के लिए 7-8 साल से इंतजार कर रहे थे लेकिन यह कभी नहीं आया। तो, क्या सबूत की प्रतीक्षा और संपत्ति की खरीद के बीच कोई कड़ी है?”

प्रसाद ने राहुल गाँधी पर उठाए गए अपने इन सवालों का जवाब देने की माँग के साथ अपनी प्रेस कॉन्फ्रेंस को समाप्त कर दिया।

शेयर करें, मदद करें:
Support OpIndia by making a monetary contribution

बड़ी ख़बर

सुब्रमण्यम स्वामी
सुब्रमण्यम स्वामी ने ईसाइयत, इस्लाम और हिन्दू धर्म के बीच का फर्क बताते हुए कहा, "हिन्दू धर्म जहाँ प्रत्येक मार्ग से ईश्वर की प्राप्ति सम्भव बताता है, वहीं ईसाइयत और इस्लाम दूसरे धर्मों को कमतर और शैतान का रास्ता करार देते हैं।"

सबसे ज़्यादा पढ़ी गईं ख़बरें

ताज़ा ख़बरें

हमसे जुड़ें

154,510फैंसलाइक करें
42,773फॉलोवर्सफॉलो करें
179,000सब्सक्राइबर्ससब्सक्राइब करें

ज़रूर पढ़ें

Advertisements
शेयर करें, मदद करें: