Tuesday, January 18, 2022
Homeराजनीतिकोलकाता रैली 'बड़ा मज़ाक', देश को PM का विकल्प चाहिए सिर्फ़ विपक्ष नहीं :...

कोलकाता रैली ‘बड़ा मज़ाक’, देश को PM का विकल्प चाहिए सिर्फ़ विपक्ष नहीं : योगेन्द्र यादव

योगेन्द्र यादव ने इस रैली के बारे में कहा कि इस रैली से उन्हें कोई उम्मीद नहीं दिखी है क्योंकि देश सिर्फ विपक्ष नहीं चाहता है, देश को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के विकल्प की ज़रूरत है।

हाल ही में कोलकाता में आयोजित हुई यूनाईटेड रैली पर तरह-तरह के बयान सामने आए हैं। मीडिया से लेकर सोशल मीडिया तक इस रैली को चुनाव से पहले बहुत बड़ा कदम बताया जा रहा है। तेजस्वी यादव से लेकर शत्रुघ्न सिन्हा और फ़ारुख़ अब्दुल्लाह तक इस रैली का हिस्सा बने।

एक तरफ जहाँ इस रैली को बड़े राजनीतिज्ञों का समर्थन प्राप्त हुआ है, वहीं स्वराज इंडिया के अध्यक्ष योगेंद्र यादव का इस रैली के बारे में कुछ अलग ही विचार सामने आए हैं।

योगेन्द्र ने शनिवार (जनवरी,19 2019) को आयोजित हुई इस रैली के बारे में कहा कि इस रैली से उन्हें कोई उम्मीद नहीं दिखी है क्योंकि देश सिर्फ विपक्ष नहीं चाहता है, देश को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के विकल्प की जरूरत है।

https://platform.twitter.com/widgets.js

यादव का कहना है कि इस पूरी रैली के दौरान विपक्ष के नेताओं का न कोई एजेंडा था और न ही कोई अपना नज़रिया था। उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री चाहते हैं कि लोकसभा चुनाव उनके बीच और पूरे विपक्ष के बीच में हो, जिसे करने में वो सफल भी हो रहे हैं।

अपनी बातचीत में यादव ने कहा कि इस समय आगामी चुनावों के लिए सभी विपक्षी पार्टियाँ सिर्फ सत्ता की कुर्सी के लिए ही लड़ रही हैं। ईवीएम को बैलट पेपर का विकल्प बताते हुए योगेन्द्र यादव ने बैलट पेपर वापस लाने की माँग करने वालों को निशाना बनाते हुए कहा कि पार्टियाँ सिर्फ ईवीएम की आलोचना तभी करती हैं जब नतीजे उनके पक्ष में नहीं होते हैं।

बता दें कि कुछ समय पहले बैलट पेपर की वापसी माँग पर चुनाव आयोग के पूर्वाधिकारी ओपी रावत ने भी इस बात को कहा था कि जब जो पार्टियाँ चुनावों को हारती हैं, तभी ईवीएम के मुद्दे को फुटबॉल की तरह उछाला जाता है। वरना इस बारे में कोई बात भी नहीं होती हैं। पीटीआई की रिपोर्ट के अनुसार यादव ने इस पूरे गठबंधन को एक बड़ा मज़ाक बताया है।

 

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

17 की उम्र में पहली हत्या, MLA तक के मर्डर में नाम: सपा का प्यारा अतीक अहमद कभी था आतंक का पर्याय, योगी राज...

मुलायम सिंह यादव ने 2003 में उत्तर प्रदेश में अपनी सरकार बनाई। यह देख अतीक अहमद एक बार फिर समाजवादी हो गया। फूलपुर से वो सपा सांसद बना।

‘अमानतुल्लाह खान यहाँ नमाज पढ़ सकते हैं तो हिंदू हनुमान चालीसा क्यों नहीं?’: इंद्रप्रस्थ किले पर गरमाया विवाद, अंदर मस्जिद बनाने के भी आरोप

अमानतुल्लाह खान की एक वीडियो के विरोध में आज फिरोज शाह कोटला किले के बाहर हिंदूवादी लोगों ने इकट्ठा होकर हनुमान चालीसा का पाठ किया।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
151,996FollowersFollow
413,000SubscribersSubscribe