Wednesday, June 19, 2024
Homeराजनीतिबेगूसराय में BJP और CPI कार्यकर्ताओं के बीच हिंसक झड़प, हुई जमके पत्थरबाजी

बेगूसराय में BJP और CPI कार्यकर्ताओं के बीच हिंसक झड़प, हुई जमके पत्थरबाजी

सीपीआई के कार्यालय के बाहर नाराज़ कार्यकर्ताओं ने भीड़ लगा रखी है। देखिए किस तरह से पुलिस के वहाँ मौजूद होने के बावजूद हिंसक माहौल पर काबू पाना मुश्किल हो रहा है।

रुझानों के आने के साथ ही बेगूसराय में हिंसक झड़प की खबर आ रही हैं। बिगड़ते माहौल को देखकर वहाँ भारी संख्या में सुरक्षाबल की तैनाती की गई है। गौरतलब है यहाँ सीपीआई के उम्मीदवार कन्हैया कुमार, भाजपा प्रत्याशी गिरिराज सिंह के बीच सबकी नजरें टिकी हुई है। अभी तक गिरिराज सिंह की भारी मतों से बढ़त उनकी जीत को और भी पुख्ता कर रही है।

लेकिन, इन सबके बीच भारतीय जनता पार्टी और लेफ्ट के कार्यकर्ताओं के बीच हुई हिंसक झड़प में दोनों पार्टी के कार्यकर्ताओं ने जमकर पत्थरबाजी की है। सीपीआई के कार्यालय के बाहर नाराज़ कार्यकर्ताओं ने भीड़ लगा रखी है। हालाँकि आजतक द्वारा पोस्ट की गई वीडियो देख सकते हैं कि पुलिस वहाँ मौजूद है लेकिन माहौल पर काबू पाना मुश्किल हो रहा है।

चुनावी माहौल में इस तरह की खबरें अभी तक केवल पश्चिम बंगाल से सुनने-देखने को मिलीं थी, लेकिन रुझान आने के बाद अब ये दृश्य सीपीआई के कार्यालय के बाहर भी देखने को मिल रहा है। बता दें भाजपा प्रत्याशी गिरिराज सिंह यहाँ कन्हैया कुमार से 2 लाख वोट से आगे चल रहे हैं।

Special coverage by OpIndia on Ram Mandir in Ayodhya

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘अच्छा! तो आपने मुझे हराया है’: विधानसभा में नवीन पटनायक को देखते ही हाथ जोड़ कर खड़े हो गए उन्हें हराने वाले BJP के...

विधानसभा में लक्ष्मण बाग ने हाथ जोड़ कर वयोवृद्ध नेता का अभिवादन भी किया। पूर्व CM नवीन पटनायक ने कहा, "अच्छा! तो आपने मुझे हराया है?"

‘माँ गंगा ने मुझे गोद ले लिया है, मैं काशी का हो गया हूँ’: 9 करोड़ किसानों के खाते में पहुँचे ₹20000 करोड़, 3...

"गरीब परिवारों के लिए 3 करोड़ नए घर बनाने हों या फिर पीएम किसान सम्मान निधि को आगे बढ़ाना हो - ये फैसले करोड़ों-करोड़ों लोगों की मदद करेंगे।"

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -