सरकारी कर्मचारी को गाली व धक्का देती BSP विधायक रामबाई का वीडियो वायरल

बसपा विधायक रामबाई यहीं नहीं रूकीं। उन्होंने मंडी कर्मचारी को धमकी देते हुए कहा, "यदि किसानों को परेशान किया आगे से तो पीटूंगी भी।"

मध्य प्रदेश में बहुजन समाज पार्टी की दबंग विधायक रामबाई का एक वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल हो रहा है। इस वीडियो में रामबाई एक सरकारी कर्मचारी को गाली व धक्का देते हुए दिख रही हैं। इस वीडियो में यह देखा जा सकता है कि रामबाई मंडी के एक कर्मचारी को धक्का देते हुए गाड़ी तक ले जाती हैं। बसपा विधायक रामबाई यहीं नहीं रूकीं। उन्होंने मंडी कर्मचारी को धमकी देते हुए कहा, “यदि किसानों को परेशान किया आगे से तो पीटूंगी भी।”

इसके बाद विधायक मंडी कर्मचारी को लेकर पुलिस थाने पहुँच गईं। दरअसल पिछले कुछ दिनों से विधायक के पास मंडी कर्मचारी के ख़िलाफ़ शिकायत आ रही थी। इसके बाद विधायक ने मंडी पहुँचकर कर्मचारी के साथ दुर्व्यवहार किया।

कमलनाथ को अल्टीमेटम देने के बाद लाइम-लाइट में आई थीं रामबाई

मध्य प्रदेश में सरकार बनाने के बाद कमलनाथ को पहली बार गठबंधन दल की तरफ़ से विधायक रामबाई ने अल्टीमेटम दिया था। मध्य प्रदेश में इन दिनों सपा-बसपा की मदद से कॉन्ग्रेस की सरकार चल रही है। ऐसे में बसपा विधायक का अल्टीमेटम कमलनाथ सरकार के लिए किसी बड़ी चुनौती से कम नहीं है।

- विज्ञापन - - लेख आगे पढ़ें -

पिछले दिनों मध्य प्रदेश के पथरिया की विधायक रामबाई ने कहा, “कॉन्ग्रेस की तरफ से मुझे मंत्री बनाने का वादा किया गया है, मैं 20 जनवरी तक इंतज़ार करूँगी।” जब पत्रकारों ने उनसे पूछा कि क्या उनके बयान को सरकार के लिए ख़तरे के संकेत के रूप में देखा जाए तो इस सवाल के जवाब में रामबाई ने कहा कि सरकार को पता है कि उनकी सरकार अगले पाँच साल तक ऐसे ही चलेगी।

मध्य प्रदेश के 230 सीटों वाली विधानसभा में कॉन्ग्रेस के 114 सदस्य हैं जबकि भाजपा के 109 सदस्य।

भाजपा के लखन सिंह को हराकर रामबाई बनीं विधायक

पथरिया विधानसभा से बसपा प्रत्याशी रामबाई गोविंद सिंह ने भाजपा के लखन पटेल को 2205 वोटों से हरा दिया था। रामबाई इससे पहले जिला पंचायत की सदस्य थीं। विधायक बनने के बाद उन्हें अपने पद से इस्तीफ़ा देना पड़ा था। जानकारी के लिए आपको बता दें कि जिला पंयाचत अध्यक्ष पद के लिए चुनाव में रामबाई ने भाजपा उम्मीदवार शिवचरण पटेल को समर्थन दिया था।

शेयर करें, मदद करें:
Support OpIndia by making a monetary contribution

बड़ी ख़बर

जेएनयू छात्र विरोध प्रदर्शन
गरीबों के बच्चों की बात करने वाले ये भी बताएँ कि वहाँ दो बार MA, फिर एम फिल, फिर PhD के नाम पर बेकार के शोध करने वालों ने क्या दूसरे बच्चों का रास्ता नहीं रोक रखा है? हॉस्टल को ससुराल समझने वाले बताएँ कि JNU CD कांड के बाद भी एक-दूसरे के हॉस्टल में लड़के-लड़कियों को क्यों जाना है?

सबसे ज़्यादा पढ़ी गईं ख़बरें

ताज़ा ख़बरें

हमसे जुड़ें

112,491फैंसलाइक करें
22,363फॉलोवर्सफॉलो करें
117,000सब्सक्राइबर्ससब्सक्राइब करें

ज़रूर पढ़ें

Advertisements
शेयर करें, मदद करें: