Sunday, June 16, 2024
Homeदेश-समाज26 जनवरी को न बाहर निकलें, न करें सफ़र: दारुल उलूम

26 जनवरी को न बाहर निकलें, न करें सफ़र: दारुल उलूम

दारुल उलूम ने अपनी हिदायत में छात्रों से अपील की है कि अगर कोई इस दिन सफ़र करता है तो किसी भी प्रकार की बहसों में न पड़े और सब्र से काम ले।

गणतंत्र दिवस को देखते हुए देश में चप्पे-चप्पे पर सुरक्षा के कड़े इंतजाम किए गए हैं। हर सार्वजनकि स्थल पर सुरक्षा बलों द्वारा जाँच की जा रही है। इसी बीच उत्तर प्रदेश से आई एक ख़बर। चौंकाने वाली ख़बर। इस्लामिक शिक्षण संस्थान दारुल उलूम देवबंद ने अपने छात्रों को 26 जनवरी को कहीं भी बाहर न निकलने की हिदायत दी है।

दारुल उलूम के छात्रावास प्रभारी द्वारा यह हिदायत जारी किया गया है। इस हिदायत में उन्होंने कहा कि 26 जनवरी के मौके पर तिरंगा फहराने के बाद सभी छात्र अपने छात्रावास में वापस आ जाएँ। उस हिदायत में यह भी कहा गया है कि छात्र गणतंत्र दिवस के दिन ट्रेनों में सफ़र न करें।

26 जनवरी के संबंध में दारुल उलूम की हिदायत

दारुल उलूम के मुफ़्ती असद कासमी का कहना है कि गणतंत्र दिवस के दिन कुछ छात्र अपने दोस्तों के साथ इधर-उधर घूमने निकल जाते हैं। ऐसे में वो किसी विवादित स्थिति में न फंस जाए या उनका उत्पीड़न न हो जाए, इसी कारण से देवबंद ने उन सभी को सख़्ती से हिदायत दी है कि 26 जनवरी को कहीं पर भी न आएँ-जाएँ।

हिदायत में हालाँकि यह स्पष्ट किया गया कि अगर किसी को इस दिन बाहर जाने की बहुत जरूरत पड़ जाती है तो सफ़र करके वह तुरंत दारुल उलूम देवबंद का रुख़ करे। तर्क (अटपटा सा) देते हुए इसमें कहा गया है कि 26 जनवरी को हर जगह जाँच-पड़ताल होती है, इससे किसी को बिना वज़ह के परेशानी उठानी पड़ती है। इस कारण डर और ख़ौफ का माहौल पैदा होता है।

दारुल उलूम ने अपनी हिदायत में छात्रों से अपील की है कि अगर कोई इस दिन सफ़र करता है तो किसी भी प्रकार की बहसों में न पड़े और सब्र से काम लें।

Special coverage by OpIndia on Ram Mandir in Ayodhya

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

भारतीय इंजीनियरों का ‘चमत्कार’, 8वाँ अजूबा, एफिल टॉवर से भी ऊँचा… जिस रियासी में हुआ आतंकी हमला वहीं दुनिया देखेगी भारत की ताकत, जल्द...

ये पुल 15,000 करोड़ रुपए की लागत से बना है। इसमें 30,000 मीट्रिक टन स्टील का इस्तेमाल हुआ है। ये 260 किलोमीटर/घंटे की हवा की रफ़्तार और -40 डिग्री सेल्सियस का तापमान झेल सकता है।

J&K में योग दिवस मनाएँगे PM मोदी, अमरनाथ यात्रा भी होगी शुरू… उच्च-स्तरीय बैठक में अमित शाह का निर्देश – पूरी क्षमता लगाएँ, आतंकियों...

2023 में 4.28 लाख से भी अधिक श्रद्धालुओं ने बाबा अमरनाथ का दर्शन किया था। इस बार ये आँकड़ा 5 लाख होने की उम्मीद है। स्पेशल कार्ड और बीमा कवर दिया जाएगा।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -