Sunday, January 17, 2021
Home देश-समाज ग्राउंड रिपोर्ट #2: नमामि गंगे योजना से लौटी काशी की रौनक - सिर्फ अभी...

ग्राउंड रिपोर्ट #2: नमामि गंगे योजना से लौटी काशी की रौनक – सिर्फ अभी का नहीं, 2035 तक का है प्लान

वाराणसी शहर के नालों से 300 मिलियन लीटर प्रतिदिन गंदा पानी गंगा में प्रवाहित होता है। 2035 तक 400 मीलियन लीटर गंदा पानी बाहर निकलेगा। ऐसे में नमामि गंगे परियोजना के तहत गंगा को साफ़ रखने के लिए 2035 तक की है योजना।

30 जनवरी 2019 जो मेरी बनारस यात्रा का दूसरा दिन था। इससे पहले शाम को अस्सी घाट पर धीरेंद्र और गोरखनाथ ने स्वच्छ व अविरल गंगा के लिए मोदी सरकार की जमकर तारीफ़ की थी। ऐसे में बनारस के लोग जिस नमामि गंगे परियोजना की तारीफ़ कर रहे थे, उसकी वास्तविकता को जानना मेरे लिए कई मायनों में ज़रूरी था।

दूसरे दिन अपने कुछ साथियों  के साथ मैं वाराणसी शहर से कुछ दूरी पर स्थित रमना नाम के एक गाँव में पहुँचा। इस गाँव में नमामि गंगे परियोजना के तहत शहर से निकलकर गंगा में मिलने वाले गंदे पानी को साफ़ करने के लिए एक सीवेज ट्रीमेंट प्लांट (STP) बनाया जा रहा है। रमना में बन रहे इस एसटीपी की कुल क्षमता हर रोज़ 5 करोड़ लीटर गंदे पानी को साफ़ करने की होगी। इस एसटीपी को बनाने का कॉन्ट्रैक्ट ऐसेल इंफ्रा नाम की कंपनी को दी गई है।

रमना में बन रहे सीवेज प्लांट में मेरी मुलाक़ात नमामि गंगा योजना के सीनियर स्पेशलिस्ट पदाधिकारी रजत गुप्ता से हुई। रजत गुप्ता अगले दो दिन बनारस से लेकर प्रयाग तक हमारे साथ रहे। इस आर्टिकल में नमामि गंगे परियोजना के तहत बनारस में मैंने जो कुछ भी देखा, उसका ज़िक्र मैं यहाँ सचित्र करुँगा।

रजत गुप्ता ने मुझे और मेरे साथियों को वाराणसी शहर से निकलने वाले गंदे पानी और उसके साफ़-सफ़ाई के बारे में गहराई से जानकारी दी। उन्होंने बताया कि गंगा के पानी और गंगा घाट को निर्मल बनाने के लिए सरकार ने नमामि गंगे के तहत कई योजनाओं का शुभारंभ किया है। इनमें प्रमुख रूप से सीवेज ट्रीटमेंट, नदी के घाट की सफ़ाई, नदी के किनारे पेड़ों को लगाया जाना, औद्योगिक कचरे का निपटारा, जलीय जीवों की सुरक्षा, गंगा ग्राम आदि के लिए लोगों में जन-जागरुकता अभियान भी चलाया जा रहा है।

रजत गुप्ता व भाजपा नेता वीरेंद्र सचदेवा रमना सीवेज ट्रीटमेंट प्लांट में पत्रकारों के साथ

रजत गुप्ता को सुनने के बाद किसी कर्मचारी के कहने पर विश्वास करने के बजाय हमने रमना के अलावा भी कई दूसरे एसटीपी प्लांट पर जाकर उनके दावे की वास्तविकता का पता करना उचित समझा।

यदि आप वाराणसी गए हैं और वरुणा और असि की वर्तमान हालत को आपने देखा होगा तो आपको पता होगा कि यह दोनों ही नदी नाले में बदल चुकी हैं। ऐसे में यह ज़रूरी है कि गंगा में प्रवाहित होने से पहले इन दोनों ही नदी के गंदे पानी को साफ़ किया जाए।

जब मैंने मौके़ पर मौजूद अधिकारियों से पता किया तो उन्होंने बताया कि इन दोनों नदी के पानी को रमना व दिनापुर एसटीपी के ज़रिए साफ किए जाने की योजना है। दिनापुर प्लांट को ट्रायल के लिए शुरू किया जा चुका है जबकि रमना प्लांट को जल्द शुरू करने की योजना है।

सरकारी आँकड़ों के मुताबिक वर्तमान समय में वाराणसी शहर के नालों से 300 मिलियन लीटर प्रतिदिन गंदा पानी गंगा में प्रवाहित होता है। सरकार ने एक अनुमान लगाया है कि 2035 तक शहर से 400 मीलियन लीटर गंदा पानी बाहर निकलेगा। ऐसे में सरकार ने नमामि गंगे परियोजना के तहत गंगा को साफ़ रखने के लिए 2035 तक की योजना बनाई है।

शहर के नाले से दिनापुर STP में जमा होता गंदा पानी

आपका बता दूँ कि गंगा को साफ़ रखने के लिए पूरे वाराणसी शहर को 4 हिस्सों में बाँटा गया है। इन सभी क्षेत्रों में कुल 13 प्रोजेक्ट को शुरू किया गया, जिस पर सरकार द्वारा ₹913.07 करोड़ ख़र्च करने की घोषणा की गई है। वर्तमान समय में वाराणसी एसटीपी प्लांट द्वारा पानी साफ़ करने की क्षमता 102 मीलियन लीटर प्रतिदिन है, जबकि आने वाले समय में इसे 412 मीलियन लीटर तक पहुँचाने की योजना है।

शहर के गंदे पानी को सीवेज तक पहुँचाने के लिए तीन पंपिंग स्टेशन चौकाघाट, फुलवरिया और सरैया में बनाया गया है। इसके अलावा 26 घाटों को ख़ूबसूरत बनाने के लिए नमामि गंगे परियोजना के तहत ₹11.73 करोड़ खर्च करने की घोषणा की गई है।

यही नहीं देश भर में गंगा की सफ़ाई के लिए लोगों को जागरुक भी किया गया है। इसके तहत गंगा के किनारे रहने वाले देश भर के क़रीब 630 लोगों को गंगा प्रहरी के रूप में नियुक्त किया गया है।

इसमें कोई शक़ नहीं कि 2014 के बाद वाराणसी में गंगा के किनारे बैठकर चाय बेचने वालों की आय में वृद्धि हुई है। इसका एक प्रमुख कारण यह है कि नमामि गंगे परियोजना लागू होने की वजह से गंगा के घाटों से लेकर पानी तक साफ़ दिखने लगा है। देश-विदेश के लोग दशाश्वमेध घाट के अलावा भी दूसरे घाटों पर घूमने के लिए जाने लगे हैं। यही नहीं, पहले गंगा की आरती सिर्फ़ दशाश्वमेध घाट पर होती थी, लेकिन आज के समय में सभी घाटों पर गंगा आरती होने लगी है।

रिपोर्ट के अगले हिस्से में आप प्रयागराज में होने वाले कुंभ व नमामि गंगे परियोजना की सफलता के क़िस्से को पढ़ेंगे। आप जानेंगे कि किस तरह यह कुंभ पिछले कई कुंभ से अलग और ख़ास है। आप यह भी पढ़ेंगे कि कुंभ को स्वच्छ और पवित्र बनाए रखने के लिए सरकार ने किस नई तक़नीक का इस्तेमाल किया है।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

अनुराग आनंद
अनुराग आनंद मूल रूप से (बांका ) बिहार के रहने वाले हैं। बैचलर की पढ़ाई दिल्ली विश्वविद्यालय से पूरी करने के बाद जामिया से पीजी डिप्लोमा इन हिंदी पत्रकारिता की पढ़ाई पूरी की। इसके बाद राजस्थान पत्रिका व दैनिक भास्कर जैसे संस्थानों में काम किया। अनुराग आनंद को कहानी और कविता लिखने का भी शौक है।

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

शिवलिंग पर कंडोम: अभिनेत्री सायानी घोष को नेटिजन्स ने लताड़ा, ‘अकाउंट हैक’ थ्योरी का कर दिया पर्दाफाश

अभिनेत्री सायानी घोष ने एक तस्वीर पोस्ट की थी, जिसमें एक महिला पवित्र हिंदू प्रतीक शिवलिंग के ऊपर कंडोम डालते हुए दिख रही थी।

‘आइए, हम सब वानर और गिलहरी बन अयोध्या के राम मंदिर के लिए योगदान दें, मैंने कर दी शुरुआत’: अक्षय कुमार की अपील

अक्षय कुमार ने बड़ी जानकारी दी कि उन्होंने अयोध्या में राम मंदिर निर्माण के लिए अपना योगदान दे दिया है और उम्मीद जताई कि और लोग इससे जुड़ेंगे।

निधि राजदान के ‘प्रोफेसरी’ वाले दावे से 2 महीने पहले ही हार्वर्ड ने नियुक्तियों पर लगा दी थी रोक

हार्वर्ड प्रकरण में निधि राजदान ने ब्लॉग लिखकर कई सारे सवालों के जवाब दिए हैं। इनसे कई सारे सवाल खड़े हो गए हैं।

कटवा विधायक ने लगवाया टीका, भतार MLA भी उसी लाइन पर: TMC नेताओं में वैक्सीन के लिए मची होड़

पश्चिम बंगाल में तृणमूल कॉन्ग्रेस (TMC) के नेताओं में कोरोना वायरस की वैक्सीन लेने की होड़ सी मच गई है। पार्टी के दो विधायकों ने लगवाया टीका।

एक साथ 8 ट्रेनें, सब से पहुँच सकेंगे सरदार पटेल की सबसे ऊँची मूर्ति तक: केवड़िया होगा देश का पहला ‘ग्रीन बिल्डिंग’ स्टेशन

इस रेल कनेक्टिविटी का सबसे बड़ा लाभ स्टेचू ऑफ़ यूनिटी देखने के लिए आने वाले पर्यटकों को मिलेगा। इसके अलावा इस कनेक्टिविटी से केवड़िया में...

फहद अहमद अब बना ‘किसान नेता’, पहले था CAA विरोधी छात्र नेता: स्वरा-मंडली संग करता है काम, AMU में मिली थी ‘ट्रेनिंग’

मुंबई के TISS में Ph.D कर रहा एक छात्र नेता है फहद अहमद, जो CAA विरोधी प्रदर्शनकारी हुआ करता था, अब वो 'किसान नेता' बन गया है।

प्रचलित ख़बरें

निधि राजदान की ‘प्रोफेसरी’ से संस्थानों ने भी झाड़ा पल्ला, हार्वर्ड ने कहा- हमारे यहाँ जर्नलिज्म डिपार्टमेंट नहीं

निधि राजदान द्वारा खुद को 'फिशिंग अटैक' का शिकार बताने के बाद हार्वर्ड ने कहा है कि उसके कैम्पस में न तो पत्रकारिता का कोई विभाग और न ही कोई कॉलेज है।

‘अगर तलोजा वापस गए तो मुझे मार डालेंगे, अर्नब का नाम लेने तक वे कर रहे हैं किसी को टॉर्चर के लिए भुगतान’: पूर्व...

पत्नी समरजनी कहती हैं कि पार्थो ने पुकारा, "मुझे छोड़कर मत जाओ... अगर वे मुझे तलोजा जेल वापस ले जाते हैं, तो वे मुझे मार डालेंगे। वे कहेंगे कि सब कुछ ठीक है और मुझे वापस ले जाएँगे और मार डालेंगे।”

प्राइवेट वीडियो, किसी और से शादी तक नहीं करने दी… सदमे से माँ की मौत: महाराष्ट्र के मंत्री पर गंभीर आरोप

“धनंजय मुंडे की वजह से मेरी ज़िंदगी और करियर दोनों बर्बाद हो गए। उसने मुझे किसी और से शादी तक नहीं करने दी। जब मेरी माँ को..."

अब्बू करते हैं गंदा काम… मना करने पर चुभाते हैं सेफ्टी पिन: बच्चियों ने रो-रोकर माँ को सुनाई आपबीती, शिकायत दर्ज

माँ कहती हैं कि उन्होंने इस संबंध में अपने शौहर से बात की थी लेकिन जवाब में उसने कहा कि अगर ये सब किसी को पता चली तो वह जान से मार देगा।

मारपीट से रोका तो शाहबाज अंसारी ने भीम आर्मी के नेता रंजीत पासवान को चाकुओं से गोदा, मौत

शाहबाज अंसारी ने भीम आर्मी नेता रंजीत पासवान की चाकू घोंप कर हत्या कर दी, जिसके बाद गुस्साए ग्रामीणों ने आरोपित के घर को जला दिया।

मंच पर माँ सरस्वती की तस्वीर से भड़का मराठी कवि, हटाई नहीं तो ठुकराया अवॉर्ड

मराठी कवि यशवंत मनोहर का कहना था कि उन्होंने सम्मान समारोह के मंच पर रखी गई सरस्वती की तस्वीर पर आपत्ति जताई थी। फिर भी तस्वीर नहीं हटाई गई थी इसलिए उन्होंने पुरस्कार लेने से मना कर दिया।

‘मैं सभी को मार दूँगा, अल्लाहु अकबर’: जर्मन एयरपोर्ट पर मचाई अफरातफरी

जर्मनी के फ्रैंकफर्ट एयरपोर्ट पर मास्क न पहनने की वजह से टोके जाने पर एक शख्स ने 'अल्लाहु अकबर' का नारा लगाते हुए जान से मारने की धमकी दी।

शिवलिंग पर कंडोम: अभिनेत्री सायानी घोष को नेटिजन्स ने लताड़ा, ‘अकाउंट हैक’ थ्योरी का कर दिया पर्दाफाश

अभिनेत्री सायानी घोष ने एक तस्वीर पोस्ट की थी, जिसमें एक महिला पवित्र हिंदू प्रतीक शिवलिंग के ऊपर कंडोम डालते हुए दिख रही थी।

‘भूखमरी वाले देश में राम मंदिर 10 साल बाद नहीं बन सकता?’: अक्षय पर पिल पड़े लिबरल्स

आनंद कोयारी नामक यूजर ने उन्हें अस्पतालों और स्कूलों के लिए चंदा इकट्ठा करने की सलाह दे दी और दावा किया कि कोरोना काल में एक भी मंदिर काम नहीं आया।

Coca-Cola ने लॉन्च किए ‘किसान एकता’ लिखे बोतल: सोशल मीडिया पर वायरल दावे का फैक्टचेक

'किसान आंदोलन' के समर्थन में स्वदेशी कंपनियों को बदनाम किया जा रहा है और विदेशी कंपनियों को देवता बताया जा रहा है। इसी क्रम में ये दावा भी वायरल हुआ।

‘आइए, हम सब वानर और गिलहरी बन अयोध्या के राम मंदिर के लिए योगदान दें, मैंने कर दी शुरुआत’: अक्षय कुमार की अपील

अक्षय कुमार ने बड़ी जानकारी दी कि उन्होंने अयोध्या में राम मंदिर निर्माण के लिए अपना योगदान दे दिया है और उम्मीद जताई कि और लोग इससे जुड़ेंगे।

निधि राजदान के ‘प्रोफेसरी’ वाले दावे से 2 महीने पहले ही हार्वर्ड ने नियुक्तियों पर लगा दी थी रोक

हार्वर्ड प्रकरण में निधि राजदान ने ब्लॉग लिखकर कई सारे सवालों के जवाब दिए हैं। इनसे कई सारे सवाल खड़े हो गए हैं।

लड़कियों के नंबर चुरा कर उन्हें अश्लील फोटो-वीडियो भेजता था मिस्त्री तस्लीम, UP पुलिस ने किया गिरफ्तार

तस्लीम पर आरोप है कि वह व्हाट्सएप ग्रुप में लड़कियों के अश्लील वीडियो और तस्वीरें भेजता था, जिसके चलते पुलिस ने उसे गिरफ्तार कर...

आजम खान को तगड़ा झटका, जौहर यूनिवर्सिटी की 70 हेक्टेयर जमीन यूपी सरकार के नाम होगी

जौहर यूनिवर्सिटी की 70.05 हेक्टेयर जमीन उत्‍तर प्रदेश सरकार के नाम दर्ज करने का आदेश दिया गया है। आजम खान यूनिवर्सिटी के चांसलर हैं।

‘अडानी सभी बैंकों को खरीद सकता है’ – सुब्रमण्यम स्वामी के आरोपों पर कंपनी ने बता डाला 30 साल का रिकॉर्ड

सांसद सुब्रमण्यम स्वामी ने ट्विटर के ज़रिए अडानी ग्रुप पर आरोप लगाते हुए कहा था कि ग्रुप ने 4.5 लाख करोड़ का लोन नहीं चुकाया है जो...

अली अब्बास की ‘तांडव’ के खिलाफ मुंबई में कंप्लेन: भगवान शिव के गेटअप में जीशान अयूब ने परोसा है प्रोपेगेंडा

'आज़ादी-आज़ादी' के नारों का बचाव करने और देशद्रोहियों को सही साबित करने के लिए भगवान शिव के किरदार का इस्तेमाल किया गया है।

हमसे जुड़ें

272,571FansLike
80,695FollowersFollow
381,000SubscribersSubscribe