Friday, February 26, 2021
Home रिपोर्ट अंतरराष्ट्रीय शहर नहीं, उइगरों का कैदखाना: हर 100 गज पर पुलिस, एक रोड पर 20...

शहर नहीं, उइगरों का कैदखाना: हर 100 गज पर पुलिस, एक रोड पर 20 कैमरे – लेकिन मसूद अजहर है मसीहा

सर्विलांस कैमरा हर तरफ है चाहे वह सड़क हो, दरवाजा, दुकान या मस्जिद। एक रास्ते पर 20 कैमरे मौजूद हैं। बंदियों के बच्चों को अनाथालय उससे दूर ले जाते हैंं। सरकार का कहना है कि पिछले साल अनाथालय में 7,000 बच्चे काशनगर के ही थे।

चीन का आतंकवाद के प्रति दोहरा रवैया भारत समेत पूरी दुनिया के लिए बड़ा खतरा और समस्‍या बना हुआ है। ऐसा इसलिए क्‍योंकि चीन जहाँ पाकिस्‍तान में बैठे मसूद अजहर को आतंकी नहीं मानता है, वहीं अपने यहाँ के उइगर उसको आतंकी दिखाई देते हैं। चीन ने उइगर समुदाय पर कई तरह की पाबंदियाँ लगा रखी हैं। लाखों उइगरों को हिरासत केंद्रों में रखा गया है और चीन इन हिरासत केंद्रों को व्यावसायिक शिक्षा केंद्र कहता है। चीन उनके ऊपर नियंत्रण का जाल बिछा रहा है, जो कम्युनिस्ट पार्टी के स्वचालित तानाशाह के दृष्टिकोण को दर्शाता है। इसकी अंतरराष्ट्रीय स्तर पर काफी निंदा की जा रही है।

दरअसल, चीन के उत्तर-पश्चिम में काशगर नामक एक प्राचीन शहर है। जहाँ लाखों उइगर और अन्य अल्पसंख्यकों को कैम्पों में एक बंदी की तरह रखा जाता है। टाइम्स ऑफ इंडिया के मुताबिक, उन्होंने काशनगर के लोगों की स्थिति जानने के लिए वहाँ का कई बार दौरा किया, लेकिन वो लोग स्थानीय लोगों का इंटरव्यू ले पाए, क्योंकि ये काफी जोखिम भरा था। पुलिस लगातार पीछा कर रही थी और हर जगह प्रतिबंधित था। हर 100 गज की दूरी पर पुलिसकर्मी बंदूकों के साथ चेकपॉइंट्स पर मौजूद थे। वहाँ से निकलने के लिए कतार में लगे अल्पसंख्यकों के चेहरे पर कोई भाव नहीं था, वे अपने आधिकारिक आईडी कार्ड को स्वाइप करने के लिए कतारबद्ध थे। बड़े चेकपॉइंट पर उन्होंने अपना सिर ऊपर उठाया ताकि उनकी तस्वीरें मशीन द्वारा ली जा सकें। उनकी पुष्टि हो जाने के बाद उन्हें जाने दिया गया।

इतना ही नहीं, पुलिस कभी-कभी जरूरी सॉफ्टवेयर जाँचने के बहाने उइगरों का फोन ले लेती है, ताकि उनके कॉल और मैसेज पर नज़र रखी जा सके। शिनजियांग चीन के सुदूर पश्चिम में मौजूद है, लेकिन यह मध्य एशिया का हिस्सा ज्यादा लगता है। उइगर, कजाख और ताजिक जनसंख्या के मामले में यहाँ के हॉन समुदाय से ज्यादा हैं। वे ज्यादातर सुन्नी समुदाय के लोग हैं जिनकी अपनी संस्कृति और भाषा है।

उइगरों की निगरानी के लिए पड़ोसियों को छोड़ रखा गया है। निगरानी कर रहे लाखों पुलिस और अधिकारी उइगरों से कभी भी पूछताछ कर सकते हैं और उनके घरों की छानबीन कर सकते हैं। सर्विलांस कैमरा हर तरफ है चाहे वह सड़क हो, दरवाजा, दुकान या मस्जिद। एक रास्ते पर 20 कैमरे मौजूद हैं। बंदियों के बच्चों को अनाथालय उससे दूर ले जाते हैंं। सरकार का कहना है कि पिछले साल अनाथालय में 7,000 बच्चे काशनगर के ही थे।

शुक्रवार समुदाय के लोगों के लिए प्रार्थना के लिए खास दिन होता है। इस दिन जहाँ मस्जिदों में काफी भीड़ होती है, वहीं यहाँ पर इस दिन भी मस्जिद में केवल कुछ ही लोग आए, जबकि कुछ सालों पहले यहाँ पर हजारों लोग नमाज अदा करने के लिए इकट्ठा हुए थे। इस मस्जिद में नमाज पढ़ने आए लोगों का रजिस्ट्रेशन होता है और फिर वो मस्जिद के अंदर कैमरे की निगरानी में नमाज पढ़ते हैं, ताकि पुलिस उन पर नजर रख सके। इस दौरान बच्चों से भी उनके माता-पिता के कुरान पढ़ने को लेकर सवाल किए जाते हैं।

शहर को नियंत्रित करने के लिए आसान बनाने के लिए काशगर की वास्तुकला को बदल दिया गया है। मिट्टी से बने ज्यादातर घरों को नष्ट कर दिया गया है। सरकार ने कहा कि यह सुरक्षा और स्वच्छता के लिए था। पुनर्निर्माण में अच्छी सड़कें भी बनाई हैं, जिससे मानीटरिंग और पेट्रोलिंग करने में आसानी होती है। कुछ क्षेत्रों में अभी भी पुनर्निर्माण का कार्य चल रहा है। ईंट से बने नए घर देखने में काफी अच्छे लगते हैं, लेकिन उइगर आज भी अपने उसी पुराने दर्द से गुजर रहा है। यहाँ घूमने आए पर्यटक अक्सर उन प्राचीन गलियों से अनजान होते हैं, जिन्हें बदल दिया गया है। इसके साथ ही आगंतुकों को शहर के किनारे पर स्थित आवास शिविरों से दूर रखा जाता है।

अगस्त 2016 में दक्षिणी काशगर का एक टुकड़ा खाली था। आज यह लगभग 20,000 लोगों की क्षमता वाला एक पुन: शिक्षा शिविर है। सरकार का कहना है कि यह एक व्यावसायिक प्रशिक्षण केंद्र है। एक हालिया उपग्रह चित्र से पता चलता है कि शिविर 2 मिलियन वर्ग फुट से अधिक का है। इस तरह से आगे बढ़ने वाला यह शिविर अकेला नहीं है। पिछले साल काशगर में तेरह शिविर 10 मिलियन वर्ग फीट से अधिक तक पहुँच गए थे। वहाँ पर घूमने पर्यटक तो आ रहे हैं, लेकिन अभी भी वहाँ पर लाखों उइगर भय में जीने को मजबूर हैं।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

मिशनरी स्कूल प्रिंसिपल ने लाइब्रेरियन पर डाला धर्मांतरण का दबाव: लालच देकर सैलरी रोकी फिर गालियाँ देकर नौकरी से निकाला

जब लाइब्रेरियन रूबी सिंह ने स्कूल प्रिंसिपल सिस्टर भाग्या से वेतन की माँग की तो उन्होंने कहा कि धर्म परिवर्तन कर लो, हम तुम्हारा वेतन दे देंगे और उसमें बढ़ोतरी भी कर देंगे।

सतीश बनकर हिंदू युवती से शादी कर रहा था 2 बच्चों का बाप टीपू: मंडप पर नहीं बता सका गोत्र, ट्रू कॉलर ने पकड़ाया

ग्रामीणों ने जब सतीश राय बने हुए टीपू सुल्तान से उसके गोत्र के बारे में पूछा तो वह इसका जवाब नहीं दे पाया, चुप रह गया। ट्रू कॉलर ऐप में भी उसका नाम टीपू ही था।

कुरान की आयतें करती हैं सीमित परिवार की पैरवी: पूर्व मुख्य चुनाव आयुक्त कुरैशी ने बताया इस्लाम को परिवार नियोजन का समर्थक

“1,400 साल पहले, जब दुनिया में कहीं भी जनसंख्या का दबाव नहीं था, कुरान में नियोजित परिवारों के बारे में बात हो रही थी"

‘अंकित शर्मा ने किया हिंसक भीड़ का नेतृत्व, ताहिर हुसैन कर रहा था खुद का बचाव’: ‘द लल्लनटॉप’ ने जमकर परोसा प्रोपेगेंडा

हमारे पास अंकित के परिवार के कुछ शब्द हैं, जिन्हें पढ़कर आज लगता है कि उन्हें पहले से पता था कि आखिर में न्याय तो मिलेगा नहीं लेकिन उसके बदले अंकित को दंगाई घोषित जरूर कर दिया जाएगा।

आमिर खान की बेटी इरा अपने संघी हिन्दू नौकर के साथ फरार.. अब होगा न्याय: Fact Check से जानिए क्या है हकीकत

सोशल मीडिया पर दावा किया जा रहा है कि आमिर खान की बेटी इरा अपने हिन्दू नौकर के साथ भाग गई हैं। तस्वीर में इरा एक तिलक लगाए हुए युवक के साथ देखी जा सकती हैं।

‘ज्यादा गर्मी ना दिखाएँ, जो जिस भाषा को समझेगा, उसे उस भाषा में जवाब मिलेगा’: CM योगी ने सपाइयों को लताड़ा

"आप लोग सदन की गरिमा को सीखिए, मैं जानता हूँ कि आप किस प्रकार की भाषा और किस प्रकार की बात सुनते हैं, और उसी प्रकार का डोज भी समय-समय पर देता हूँ।"

प्रचलित ख़बरें

आमिर खान की बेटी इरा अपने संघी हिन्दू नौकर के साथ फरार.. अब होगा न्याय: Fact Check से जानिए क्या है हकीकत

सोशल मीडिया पर दावा किया जा रहा है कि आमिर खान की बेटी इरा अपने हिन्दू नौकर के साथ भाग गई हैं। तस्वीर में इरा एक तिलक लगाए हुए युवक के साथ देखी जा सकती हैं।

UP पुलिस की गाड़ी में बैठने से साफ मुकर गया हाथरस में दंगे भड़काने की साजिश रचने वाला PFI सदस्य रऊफ शरीफ

PFI मेंबर रऊफ शरीफ ने मेडिकल जाँच कराने के लिए ले जा रही UP STF टीम से उनकी गाड़ी में बैठने से साफ मना कर दिया।

‘अंकित शर्मा ने किया हिंसक भीड़ का नेतृत्व, ताहिर हुसैन कर रहा था खुद का बचाव’: ‘द लल्लनटॉप’ ने जमकर परोसा प्रोपेगेंडा

हमारे पास अंकित के परिवार के कुछ शब्द हैं, जिन्हें पढ़कर आज लगता है कि उन्हें पहले से पता था कि आखिर में न्याय तो मिलेगा नहीं लेकिन उसके बदले अंकित को दंगाई घोषित जरूर कर दिया जाएगा।

कला में दक्ष, युद्ध में महान, वीर और वीरांगनाएँ भी: कौन थे सिनौली के वो लोग, वेदों पर आधारित था जिनका साम्राज्य

वो कौन से योद्धा थे तो आज से 5000 वर्ष पूर्व भी उन्नत किस्म के रथों से चलते थे। कला में दक्ष, युद्ध में महान। वीरांगनाएँ पुरुषों से कम नहीं। रीति-रिवाज वैदिक। आइए, रहस्य में गोते लगाएँ।

शैतान की आजादी के लिए पड़ोसी के दिल को आलू के साथ पकाया, खिलाने के बाद अंकल-ऑन्टी को भी बेरहमी से मारा

मृत पड़ोसी के दिल को लेकर एंडरसन अपने अंकल के घर गया जहाँ उसने इस दिल को पकाया। फिर अपने अंकल और उनकी पत्नी को इसे सर्व किया।

28 दिनों तक हिंदू युवती को बंधक बना कर रखने वाला सलमान कुरैशी गिरफ्तार: जीजा मुईन, दोस्त इमरान ने की थी मदद

सलमान कुरैशी की धर पकड़ में जुटी पुलिस को मुखबिर से बुधवार को तीसरे पहर सलमान और युवती के आइएसबीटी पर पहुँचने का पता चला था। जिसके बाद दबिश देते हुए पुलिस ने बस से आरोपित को युवती के साथ उतरते ही पकड़ लिया।
- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

292,062FansLike
81,849FollowersFollow
392,000SubscribersSubscribe