Sunday, May 22, 2022
Homeरिपोर्टअंतरराष्ट्रीयबांग्लादेश में 300 साल पुराने जयकाली मंदिर का पुननिर्माण शुरू, भारत सरकार ने की...

बांग्लादेश में 300 साल पुराने जयकाली मंदिर का पुननिर्माण शुरू, भारत सरकार ने की पहल

श्री श्री जयकाली माता मंदिर बांग्लादेश के नटोर में स्थित पौराणिक मंदिरों में से एक है। मंदिर के पुनर्निर्माण के लिए 2016 में दोनों देशों के बीच एक ज्ञापन पर हस्ताक्षर किए गए थे। 97 लाख बांग्लादेशी टका खर्च करके...

बांग्लादेश के नटोर जिले में 300 वर्ष पुराने काली मंदिर के पुननिर्माण का कार्य एक बार फिर सोमवार (जुलाई 27, 2020) को शुरू हो गया। भारतीय उच्चायुक्त रीवा गांगुली और आईसीटी डिवीजन के राज्य मंत्री जुनैद अहमद ने खुद सोमवार को उत्तरी बांग्लादेश के इस जिले में काली मंदिर के पुनर्निर्माण का उद्घाटन किया

बांग्लादेश में भारतीय उच्चायोग ने ट्वीट करते हुए लिखा कि भारतीय उच्चायुक्त रीवा दास और राज्य मंत्री जुनैद ने सोमवार को नटौर में श्री श्री जय काली माता मंदिर के पुनर्निर्माण का उद्घाटन किया। इस अवसर पर सांसद शफीकुल इस्लाम और महापौर उमा चौधरी जॉली मौजूद थे।

बता दें कि ये पुननिर्माण भारत सरकार द्वारा विकास परियोजना स्कीम के अंतर्गत करवाया जा रहा है। मौजूदा सूचना के अनुसार, इसमें 97 लाख बांग्लादेशी टका का खर्चा आएगा।

एक वीडियो कॉन्फ्रेंस के जरिए गांगुली ने कहा कि वे बांग्लादेश के सबसे पुराने मंदिरों में से एक के पुनर्निर्माण करवाने के कदम का समर्थन करती हैं। यूनाइटेड न्यूज ऑफ बांग्लादेश के अनुसार, लालबाजार में स्थित श्री श्री जय काली माता मंदिर के पुनर्निर्माण के लिए एक ज्ञापन (एमओयू) पर 23 अक्तूबर, 2016 को हस्ताक्षर किए गए थे।

बांग्लादेशी मंत्री ने भी इस मौके पर अपनी बात रखी। उन्होंने कहा, “हम नटोर को विकास रोल मॉडल के रूप में बनाएँगे। इस प्रयास में हमारा पड़ोसी भारत आने वाले दिनों में हमारा साथ होगा।”

बता दें कि श्री श्री जयकाली माता मंदिर बांग्लादेश के नटोर में स्थित पौराणिक मंदिरों में से एक है। इसका निर्माण सर्वप्रथम 18वीं शताब्दी में नटोर में बहानी की रानी के दीवान व दीघापटिया राजशागी परिवार के संस्थापक दाताराम रॉय ने किया था। इस मंदिर के परिसर में भगवान शिव का मंदिर भी स्थापित है। इसके अलावा इस मंदिर में हर वर्ष दुर्गा व काली पूजा को बड़े ही हर्षोल्लास के साथ मनाया जाता है।

गौरतलब है कि बांग्लादेश में केवल मंदिर के पुननिर्माण का जिम्मा भारत ने नहीं उठाया है। कुछ खबरों के अनुसार रामाकृष्ण मंदिर का निर्माण व श्री श्री अन्नमयीजी काली माता मंदिर को भी पहले जैसा बनाने के लिए प्रयास किया जा रहा है। इसके अतिरिक्त माहिगंज गर्ल्स हाई स्कूल और कुछ कॉलेजों के ग्राउंड फ्लोर व फर्स्ट फ्लोर को बनाना भी भारत सरकार की योजना में है।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

ज्ञानवापी में सिर्फ शिवलिंग ही नहीं, हनुमान जी की भी मूर्ति: अमेरिका के म्यूजियम में 154 साल पुरानी तस्वीर, नंदी भी विराजमान

ज्ञानवापी विवादित ढाँचे को लेकर जारी विवाद के बीच सामने आई तस्वीर में हनुमान जी के मिलने से हिन्दू पक्ष का दावा और मजबूत हो गया है।

नौगाँव थाने में आग लगाने वाले 5 आरोपितों के घरों पर चला असम सरकार का बुलडोजर: शराबी शफीकुल की मौत पर 2000 कट्टरपंथियों ने...

असम में एक व्यक्ति की मौत के शक में थाने को जलाने के 5 आरोपितों के घरों को प्रशासन ने बुलडोजर से ढहा दिया है। तीन को गिरफ्तार भी किया गया है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
188,078FollowersFollow
416,000SubscribersSubscribe